• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

जलवायु शिखर सम्मेलन: कार्बन टैक्स को लेकर भारत, चीन और ब्राजील सहित इन देशों ने जताया विरोध

Google Oneindia News

मिस्त्र के शर्म अल-शेख में 27 कॉप जलवायु शिखर सम्मेलन चल रहा है। यूरोपीय संघ की तरफ से जलवायु परिवर्तन को लेकर चर्चा की जा रही है। ब्राजील, दक्षिण अफ्रीका, भारत और चीन ने कार्बन उत्सर्जन टैक्स को लेकर विरोध जताया है। भारत सहित देशों के एक संघ ने संयुक्त रूप से कहा है कि कार्बन बॉर्डर टैक्स लगाए जाने की वजह से बाजार में विकृति आती है और पार्टियों के बीच विश्वास की कमी बढ़ती है। ऐसे में हमें इससे बचा जाना चाहिए।

claimate change

क्या है कार्बन बॉर्डर टैक्स
यूरोपीय संघ की तरफ से जलवायु परिवर्तन को लेकर एक नीति बनाई गई है, जिसे कार्बन बॉर्डर एडजस्टमेंट टैक्स कहते है। इस नीति के तहत सीमेंट, स्टील सहित कई अन्य वस्तुओं पर ज्यादा टैक्स लगाए जाने की बात कही है। क्योंकि इनसे ज्यादा मात्रा में कार्बन उत्सर्जन होता है। यह नियम 2026 से प्रभाव में आएगा।

आपको बता दें कि बेसिक चार विकासशील देशों (भारत, ब्राजील, दक्षिण अफ्रीका, भारत और चीन) का समूह है। ये देश ऊर्जा के लिए कोयले पर मुख्य रूप से निर्भर हैं। जलवायु परिवर्तन में जीवाश्म ईंधन का नष्ट होना भी एक बड़ा कारण माना जाता है। ऐसे में यूरोपीय देशों की तरफ से इसके इस्तेमाल को भी कम करने के लिए चिन्हित किया गया है। हालांकि, बेसिक के देश इसके खिलाफ हैं। बेसिक देशों की तरफ से इसे एकतरफा फैसला बताया जाता है।

बेसिक समूह के देशों ने बुधवार को एक संयुक्त बयान जारी करते हुए "गंभीर चिंता" व्यक्त की। बेसिक समूह के देशों ने कहा कि विकसित देश अभी भी नेतृत्व नहीं दिखा रहे हैं। विकसित देश "वित्त व शमन प्रतिबद्धताओं और वादों से पीछे हट गए"। जबकि विकसित देशों द्वारा पिछले एक साल में जीवाश्म ईंधन की खपत और उत्पादन में "महत्वपूर्ण वृद्धि" हुई है। बेसिक समूह के देशों ने यह भी कहा कि भले ही वे विकासशील देशों पर दबाव डालना जारी रखते हैं, लेकिन उन्हें भी जीवाश्म ईंधन के उपयोग से दूरी बनानी चाहिए। अगर जीवाश्म के प्रयोग को लेकर विकासशील देशों पर कार्बन बॉर्डर टैक्स लगाया जा रहा है तो कम लगाया जाए। क्योंकि इससे विकासशील देशों पर प्रभाव पड़ेगा।

बेसिक देशों के समूहों की तरफ से कहा गया कि "नुकसान और क्षति" के अवसरों और संबंधों के बावजूद संयुक्त राष्ट्र की जलवायु ढांचे की प्रक्रिया में अनुकूलन को अभी भी संतुलित और वास्तविक ध्यान नहीं दिया जा रहा है। वहीं, विकासशील देशों द्वारा पहले से ही हुई पर्यावरणीय क्षति के लिए जलवायु परिवर्तन से प्रभावित देशों को वित्तपोषित करने के लिए एक संस्थागत प्रणाली की मांग को संदर्भित करता है।

ये भी पढ़ें- PM Modi at G-20 Summit: बाली में जी-20 सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी ने फिर जमाया भारत का प्रभाव

Comments
English summary
COP27 Egypt climate summit india China and these country opposed carbon border tax
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X