• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

Black Friday क्या है, शॉपिंग की यह परंपरा कैसे शुरू हुई, इसका विरोध क्यों होता है ? सबकुछ जानिए

Google Oneindia News

Black Friday sale: आज शुक्रवार है और भारत में भी इस दिन को कुछ कंपनियां ब्लैक फ्राइडे के रूप में मना रही हैं। शॉपिंग पर मोटे डिस्काउंट के ऑफर दिए गए हैं। जबकि, इसका भारत से कोई भी लेना-देना नहीं है। अमेरिका को छोड़कर दुनिया के बाकी देशों से भी कोई वास्ता नहीं है। लेकिन, ब्लैक फ्राइडे आज ग्लोबल शॉपिंग कल्चर बनकर उभरा है। दुनिया भर में इस दिन कंपनिया भारी डिस्काउंट का ऑफर देती हैं। ब्लैक फ्राइडे पर शॉपिंग की इतनी बातें हो रही हैं तो इसके बारे में सबकुछ जानना भी जरूरी है। यह भी जानना है कि कुछ लोग इसका विरोध क्यों करते हैं।

थैंक्सगिविंग की छुट्टी के एक दिन ब्लैक फ्राइडे

थैंक्सगिविंग की छुट्टी के एक दिन ब्लैक फ्राइडे

अमेरिका में थैंक्सगिविंग की छुट्टी के एक दिन बाद यानि 25 नवंबर को इसबार का ब्लैक फ्राइडे पड़ा है। अमेरिका में इस दिन की पहचान आमतौर पर खरीदारी से जुड़ गई है। ब्लैक फ्राइडे से एक धारणा यह भी बन चुकी है कि वहां त्योहारी मौसम या क्रिसमस की शुरुआत होने वाली है। हालांकि, इस दिन से दुनिया के दूसरे देशों से कोई लेना-देना नहीं है, लेकिन ग्लोबल कंपनियों की मार्केंटिंग पॉलिसी के चलते यह अब विश्व भर में फैल चुका है। उदाहरण के लिए भारत में भी Amazon, फ्लिपकार्ट और पीवीआर जैसे ब्रांड ने इस मौके पर भारी डिसकाउंट और सेल की घोषणा की है। ऐसे में यह जानना दिलचस्प है कि ब्लैक फ्राइडे का इतिहास क्या है? इसकी शुरुआत क्यों हुई, इस दिन का खरीदारी से क्या नाता है और इसने ग्लोबल शॉपिंग कल्चर को किस तरह से प्रभावित किया है ?

ब्लैक फ्राइडे क्या है ?

ब्लैक फ्राइडे क्या है ?

अगर शॉपिंग के नजरिए से देखें तो ब्लैक फ्राइडे कुछ उसी तरह से है, जैसे भारत में दिवाली, दुर्गा पूजा, होली, 15 अगस्त और 26 जनवरी से पहले कंपनियां भारी डिस्काउंट का ऑफर करती हैं। बड़े-बड़े ब्रांड सेल शुरू कर देते हैं। इस दौरान आम लोग भी जमकर खरीदारी करते हैं। अमेरिका में भी एक तरह से ब्लैक फ्राइडे फेस्टिवल शॉपिंग की शुरुआत की तरह है। क्रिसमस से पहले कंपनियां इस दिन भारी डिस्काउंट देती हैं और लोग भी दबाकर खरीदारी करते हैं। शॉपिंग का सीजन शुरू हो जाता है। समय के साथ इस परंपरा की खूब मार्केटिंग हुई है और लोगों में इसको लेकर एक क्रेज पैदा हुआ है।

इस दिन को ब्लैक फ्राइडे क्यों कहते हैं ?

इस दिन को ब्लैक फ्राइडे क्यों कहते हैं ?

ब्लैक फ्राइडे की शुरुआत को लेकर अलग-अलग तरह की बातें कही जाती हैं। एक थ्योरी के मुताबिक कंपनियों का बिजनेस अब अच्छा चलने लगा है और इसलिए वह लोगों को ज्यादा से ज्यादा खरीदारी के लिए आकर्षित करने के मकसद से छूट देती हैं। लेकिन, ब्रिटैनिया के मुताबिक इसको लेकर ज्यादा ठोस तर्क 1960 के दशक से जुड़ा है। तब अमेरिका के फिलाडेल्फिया शहर की पुलिस ने सबसे पहले 'ब्लैक फ्राइडे' शब्द का इस्तेमाल शुरू किया था। क्योंकि, उस समय छुट्टियों की खरीदारी के लिए शहर के उपनगरीय इलाके से बड़ी तादाद में लोकल टूरिस्ट शॉपिंग के लिए शहर में आ जाते थे। इसके चलते बाजारों में बहुत ज्यादा भीड़ (शायद धनतेरस की तरह) हो जाती थी। पुलिस के लिए इतनी भीड़ संभालना मुश्किल होता था। सड़क दुर्घटनाएं बढ़ जाती थीं। माल लेकर उड़ने वाले भी टेंशन देते थे।

बदलती गई ब्लैक फ्राइडे की परिभाषा

बदलती गई ब्लैक फ्राइडे की परिभाषा

1980 के दशक में ब्लैक फ्राइडे को यह कहकर परिभाषित किया जाने लगा कि इस दिन से दुकानों और कंपनियों की प्रॉफिट बढ़ जाती है। क्योंकि, यह अमेरिका का सबसे बड़ा खरीदारी का दिन है। हालांकि, अगर आंकड़ों के हिसाब से देखें तो यह क्रिसमस से ठीक पहले का समय भी हो सकता है, जब कंपनियों की प्रॉफिट सबसे ज्यादा हो सकती है। एनसाइक्लोपीडिया के मुताबिक हाल के वर्षों में ब्लैक फ्राइडे की तरह कुछ और शॉपिंग वाले दिन शुरू हुए हैं। जैसे कि बिजनेस सैटरडे- जिस दिन खरीदार स्थानीय दुकानों में जाकर खरीदारी करते हैं। इसी तरह साइबर मंडे है, जिस दिन ऑनलाइन शॉपिंग को प्रमोट किया जा रहा है। दान देने के लिए गिविंग ट्यूजडे की परंपरा विकसित की जा रही है।

अमेरिका से बाहर ब्लैक फ्राइडे ?

अमेरिका से बाहर ब्लैक फ्राइडे ?

यह पूरी तरह से बिजनेस आइडिया है। जब अमेरिका में कंपनियों को ब्लैक फ्राइडे में फायदा हुआ तो इसे वैश्विक स्तर पर बढ़ावा दिया जाने लगा। हालांकि, यह जरूरी नहीं कि हर देश में इस तरह का दिन नवंबर में ही हो। लेकिन, कंपनियां इस आइडिया पर अपने सामान बेचने के लिए इस तरह का सेल लगाने के मौके तलाशती रहती हैं। खासकर Amazon जैसी कंपनी, जिसकी वैश्विक पहुंच है उसने इस आइडिया को विस्तार देने में बहुत ध्यान किया है।

इसे भी पढ़ें- हमारे इतिहास को जानबूझकर तोड़ा-मरोड़ा गया, तमाम कोशिशों के बाद भी हमारी संस्कृति जिंदा है: पीएमइसे भी पढ़ें- हमारे इतिहास को जानबूझकर तोड़ा-मरोड़ा गया, तमाम कोशिशों के बाद भी हमारी संस्कृति जिंदा है: पीएम

ब्लैक फ्राइडे की आलोचना

ब्लैक फ्राइडे की आलोचना

ब्लैक फ्राइडे की धारणा की इस वजह से आलोचना भी होती है कि इससे उपभोक्तावादी संस्कृति को बढ़ावा मिल रहा है। कुछ लोग मानते हैं कि सिर्फ ब्लैक फ्राइडे के नाम पर लोग अत्यधिक खरीदारी कर लेते हैं, जिसकी उन्हें जरूरत भी नहीं होती। क्योंकि, इस दिन ज्यादा सस्ता सामान मिलता है। इसके चलते कार्बन फुटप्रिंट बढ़ रहा है, बर्बादी बढ़ रही है, जो कि आखिकार सबके लिए नुकसानदेह है। कुछ साल पहले फ्रांस में इसको लेकर Amazon के खिलाफ विरोध भी हो चुका है, क्योंकि इसके चलते जलवायु परिवर्तन के हालात बिगड़ते हैं। (तस्वीरें- सांकेतिक)

Comments
English summary
Black Friday:It has become the biggest shopping day in America. Now this tradition is spreading all over the world. But now there is opposition to this culture as well
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X