‘पीएम मोदी पर भरोसा क्यों नहीं करते?’

Posted By: BBC Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi
नरेंद्र मोदी और रविशंकर प्रसाद
Getty Images
नरेंद्र मोदी और रविशंकर प्रसाद

सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम को जारी रखने वाले राष्ट्रीय नियुक्ति न्यायिक आयोग के फ़ैसले के बाद केंद्रीय क़ानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि यह फ़ैसला क़ानून मंत्री और प्रधानमंत्री द्वारा 'निष्पक्ष न्यायाधीश' नियुक्त करने की क्षमता पर संदेह को दिखाता है.

द हिंदू में छपी ख़बर के अनुसार, रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि देश के लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में विश्वास जताते हैं लेकिन प्रधानमंत्री द्वारा न्यायाधीश नियुक्त करने की क्षमता पर सवाल उठाना बेहद अजीब है.

राष्ट्रीय क़ानून दिवस पर दिए गए रविशंकर प्रसाद के इस बयान के बाद भारत के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा ने कहा कि प्रधानमंत्री पद संविधान का भरोसा क़ायम रखता है इसलिए प्रधानमंत्री में उनका भी भरोसा है.

मानुषी छिल्लर
Getty Images
मानुषी छिल्लर

हर देश में अब मेरे दोस्त

मिस वर्ल्ड का ख़िताब जीतने वालीं मानुषी छिल्लर ने कहा है कि प्रतियोगिता का विजेता का नाम सुनने से ज़्यादा गर्व उन्हें भारत का नाम सुनने से हुआ.

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया अख़बार को दिए इंटरव्यू में मानुषी ने कहा कि अब उनके हर देश में दोस्त हैं और उनकी मां उनके लिए सबसे बड़ी प्रेरणास्रोत हैं.

वह कहती हैं कि हरियाणा के गांवों में वह माहवारी स्वच्छता को लेकर जागरुकता फैलाना चाहती हैं.

18 नवंबर को मिस वर्ल्ड का ख़िताब जीतने वालीं मानुषी भारत लौट आई हैं.

प्रदूषण
Getty Images
प्रदूषण

राजधानी में सांस लेना फिर होगा मुश्किल

विभिन्न सरकारी विभागों के विशेषज्ञों का कहना है कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में तापमान गिरने और तेज़ हवा न चलने के कारण प्रदूषण का स्तर काफ़ी बढ़ सकता है.

हिंदुस्तान टाइम्स अख़बार मे छपी ख़बर के अनुसार, शनिवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक जहां 322 रहा. वहीं, रविवार को यह 352 हो गया.

301 से 400 के बीच के सूचकांक को बेहद ख़राब माना जाता है.

बारात
Getty Images
बारात

श्मशान में शादी

भावनगर (गुजरात) के तलगाजरडा गांव में रविवार को गाजे-बाजे के साथ श्मशान घाट में एक विवाह संपन्न हुआ.

दैनिक जागरण में छपी ख़बर में बताया गया है कि कथावाचक मोरारी बापू के विचार से ख़ुश होकर घनश्याम और पारुल ने श्मशान में शादी करने का फ़ैसला किया था.

दरअसल, अक्टूबर में वाराणसी में एक कार्यक्रम में मोरारी बापू ने कहा था कि श्मशान को लेकर जनता में ग़लतफ़हमियां हैं जिन्हें दूर करना चाहिए. उनका कहना था कि श्मशान अशुभ नहीं बल्कि पवित्र स्थल है.

इसको लेकर घनश्याम और पारुल ने श्मशान में शादी की योजना बनाई और मोरारी बापू को शादी में बुलाया जो उस समय वहां मौजूद थे.

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Why do not you trust PM Modi
Please Wait while comments are loading...

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.