• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

हेल्थ एक्सपर्ट का दावा, कोरोना की दूसरी लहर से पहले खतरनाक वैरिएंट की दी थी चेतावनी

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 16 जून। भारत में कोरोना की दूसरी लहर से पहले मार्च माह में देश के जानेमाने दिग्गज स्वास्थ्य विशेषज्ञ ने कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर देश को आगाह किय था। उन्होंने आगाह किया था कि कोरोना का नया वैरिएंट काफी तेजी से फैलेगा, यह खासकर ग्रामीण इलाकों में पहुंचेगा, लिहाजा हमे इसपर तत्काल ध्यान देने की जरूरत है। लेकिन स्वास्थ्य एजेंसियों ने इस चेतावनी पर ध्यान नहीं दिया। डॉक्टर सुभाष सालुंके जोकि काफी अनुभवी हैं और उनके पास भारत, इंडोनेशिया, अमेरिका में स्वास्थ्य के क्षेत्र में 30 साल से भी अधिक समय का अनुभव है। उन्होने रायटर्स को बताया कि मार्च माह में मैंने कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर आगाह किया था।

corona

कोरोना के इस नए वैरिएंट को अब B.1.617 के नाम से जाना जाता है, जिसने कोरोना की दूसरी लहर में भारत में काफी तबाही मचाई। इस वायरस ने भारत के अलावा 40 अन्य देशों में लोगों की जिंदगी छीन ली। मई माह में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस वैरिएंट को लेकर चिंता जाहिर की थी और इसे बहुत तेजी से फैलने वाला बताया था। इस वैरिएंट का पहला मामला महाराष्ट्र के अमरावती में आया था, जहां फरवरी माह में बहुत तेजी से लोग इस वैरिएंट से संक्रमित होने लगे थे। सालुंके जोकि विश्व स्वास्थ्य संगठन के पूर्व अधिकारी रह चुके हैं और फिलहाल महाराष्ट्र सरकार के स्वास्थ्य सलाहकार हैं, उन्होंने बताया कि मैने देश के कुछ शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारियों को मार्च माह में इसको लेकर आगाह किया था।

इसे भी पढ़ें- कोरोना के दैनिक मामलों में कमी, लेकिन 24 घंटों के भीतर 2542 लोगों की मौतइसे भी पढ़ें- कोरोना के दैनिक मामलों में कमी, लेकिन 24 घंटों के भीतर 2542 लोगों की मौत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुख्य कोरोना संक्रमण के सलाहकार वीके पॉल से भी फोन पर बात करके सालुंके ने इस वैरिएंट को लेकर चेताया था। सालुंके ने रायटर्स को बताया कि मैंने पॉल और नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के मुखिया सुजीत कुमार सिंह को इस वैरिएंट के बारे में आगाह किया था। मैंने अपील की थी कि इस वैरिएंट के सैंपल की सीक्वेंसिंग की जाए और इसके बर्ताव का अध्ययन किा जाए। मैंने इन लोगों को बतौर स्वास्थ्य कर्मी आगाह किया लेकिन बावजूद इसके इसपर कोई कदम नहीं उठाया गया। वहीं पॉल का कहना है कि सांलुके ने उन्हें इस बाबत जानकारी दी थी नाक कि किसी तरह का चेतावनी दी थी। महज 80 दिन के भीतर महाराष्ट्र के अमरावती से यह वैरिएंट भारत के कई हिस्सों में और कई देशों में फैल गया, जिसमे ब्रिटेन, अमेरिका, सिंगापुर भी शामिल हैं।

English summary
Top health expert says India did not heard his warning for second coronavirus wave.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X