• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

रिलायंस जियो का यह दांव PM मोदी के डिजिटल इंडिया मुहिम को देगी जोरदार झटका!

|

बेंगलुरू। महज तीन वर्ष में देश की शीर्ष टेलीकॉम कंपनियों में शुमार हुई रिलायंस जियो अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस मुहिम को जोर झटका देने की योजना बना रही है, जिनके डिजिटल इंडिया मुहिम की रस्सी पकड़कर कभी रिलायंस इंड्स्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी टेलीकॉम इंडस्ट्री में छाए हुए हैं।

jio

दरअसल, रिलायंस इंफोकॉम ने ट्राई के जरिए सरकार से एक ऐसी मांग की है, जो डिजिटल इंडिया की मुहिम का नक्शा पलटने के लिए काफी है। रिलांयस जियो ने दूर संचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) से फ्लोर प्राइस को फिक्स करने की मांग की है, जिसके पीछे उसका तर्क है कि टेलीकॉम कंपनियों को एजीआर के बोझ कम होगा, जो अभी एजीआर भुगतान बकाए के चलते भारी वित्तीय संकट का सामना कर रही हैं।

jio

सीधे अर्थ में कहें तो रिलायंस जियो ने TRAI से मांग की है कि मोबाइल इंटरनेट डेटा के लिए नए फ्लोर प्राइस तय किए जाएं। रिलायंस जियो की मांग है कि फ्लोर प्राइस 15 रु तय किए जाएं और अगले 6-9 महीनों के लिए इसकी कीमत और बढ़ाकर 20 रु कर दिए जाए। यानी रिलायंस जियो यूजर को मौजूदा समय में 5 रुपए से कम में मिल रहे डेटा को 15-20 रुपए प्रति जीबी बेंचने की मांग कर रही है।

jio

रिलायंस जियो की दलील है कि फ्लोर प्राइस फिक्स हो जाने के बाद कोई कंपनी तय कीमत से अधिक का प्लान मार्केट में नहीं ला सकती है। हालांकि जियो ने ट्राई से कहा है कि वायरलेस डेटा की कीमत ग्राहकों के इस्तेमाल के हिसाब से तय होंगी। अगर रिलायंस जियो की उक्त मांगें पूरी हुईं तो उन जियो ग्राहकों के लिए बड़ा झटका है जो सस्ते मोबाइल इंटरनेट के जरिए डिजिटल इंडिया मुहिम में हिस्सा बने हैं।

jio

हालांकि रिलायंस जियो ने फिलहाल वॉइस टैरिफ में कोई बदलाव के संकेत नहीं दिए हैं, क्योंकि उसका मानना है कि इससे मार्केट में अस्थिरता का माहौल पैदा हो जाएगा और इसको लागू करने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। जियो ने ट्राई को दिए सुझाव में सर्विस में आ रही टैरिफ से जुड़ी दिक्कतों की तरफ इशारा किया है।

जियो ने कहा है कि भारतीय यूजर कीमतों को लेकर काफी संवेदनशील हैं, इसलिए फ्लोर प्राइस को एक बार की बजाय दो-तीन बार में बढ़ाया जाए ताकि टैरिफ के बोझ को कम किया जा सके।

jio

गौरतलब है रिलायंस जियो की तरह वोडाफोन-आइडिया ने भी ट्राई से ऐसी ही मांग की थी। हाल ही में एजीआर को बोझ चुकाने के लिए वोडाफोन-आइडिया ने अजीबोगरीब मांग के तहत एक जीबी मोबाइल डेटा की कीमत 35 रु करने की मांग की थी, जो मौजूदा दर से करीब 7 गुना ज्यादा होगी।

jio

यही नहीं, कंपनी ने डेटा के साथ कॉलिंग के लिए 6 पैसे प्रति मिनट की दरें एक अप्रैल से लागू करने की मांग की है। सरकार को लिखे पत्र कंपनी ने उक्त मांग अजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (एजीआर) के जल्द भुगतान करने के लिए की है, जिसकी अवधि तीन वर्ष निर्धारित की गई है। मालूम हो,रिलायंस जियो एजीआर बकाया 31 जनवरी को ही दे चुकी हैं।

jio

अगर रिलायंस जियो की मांग मान ली गई तो यह रिलायंस जियो के यूजर्स के लिए जोर का झटका होगा, लेकिन टैरिफ में यह वृद्धि दबाव में चल रहीं टेलीकॉम कंपनियों के संजीवनी का काम करेगी। क्योंकि अजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (AGR) का भुगतान नहीं कर पाने के कारण टेलीकॉम इंडस्ट्री पर भारी कर्ज चुकाने का दवाब है।

jio

उल्लेखनीय है टेलीकॉम कंपनियों को दूर संचार विभाग को एजीआर भुगतान के लिए कई बार सुप्रीम कोर्ट फटकार लगा चुकी है और भुगतान के लिए कई बार समय-सीमा बढ़ा चुकी है। दूर संचार विभाग को स्पैक्ट्रम यूज के लिए चुकाए जाने वाले एजीआर का बकाया वोडाफोन पर 53 हजार करोड़ हैं जबकि एयरटेल को 35 हजार करोड़ रुपए का भुगतान करना है।

जियो लांचिंग के 3 वर्ष बाद पहली बार एयरटेल-वोडाफोन के बुने जाल में फंस गए मुकेश अंबानी

वोडाफोन-आइडिया ने एक जीबी की कीमत 35 रु करने की मांग की थी

वोडाफोन-आइडिया ने एक जीबी की कीमत 35 रु करने की मांग की थी

रिलायंस जियो की तरह वोडाफोन-आइडिया ने भी ट्राई से ऐसी ही मांग की थी। हाल ही में एजीआर को बोझ चुकाने के लिए वोडाफोन-आइडिया ने अजीबोगरीब मांग के तहत एक जीबी मोबाइल डेटा की कीमत 35 रु करने की मांग की थी, जो मौजूदा दर से करीब 7 गुना ज्यादा होगी।

वोडाफोन ने डेटा के साथ कॉलिंग 6 पैसे प्रति मिनट करने की मांग की थी

वोडाफोन ने डेटा के साथ कॉलिंग 6 पैसे प्रति मिनट करने की मांग की थी

कंपनी ने डेटा के साथ कॉलिंग के लिए 6 पैसे प्रति मिनट की दरें एक अप्रैल से लागू करने की मांग की है। टेलीकॉम कंपनी ने इस मांग को लेकर सरकार को पत्र भी लिखा है। कंपनी ने उक्त मांग अजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (एजीआर) का भुगतान को तीन वर्ष की है ताकि वह एजीआर का बकाया 53 हजार करोड़ रुपए आसानी से चुका सके। हालांकि रिलायंस जियो अपना एजीआर बकाया 31 जनवरी को ही चुका चुकी हैं।

मंजूरी से पहले ही रिलायंस जियो ने लांच किया मंहगा डेटा प्लान

मंजूरी से पहले ही रिलायंस जियो ने लांच किया मंहगा डेटा प्लान

जियो द्वारा 4999 रुपए वाले सबसे महंगे प्लान में यूजर्स सिर्फ 350GB डाटा मिलेगा। वहीं, प्लान की वैलिडिटी 360 दिन है। यानी एक दिन में 1GB डाटा भी नहीं मिलेगा। हालांकि, ग्राहक 350GB डाटा को एक साथ इस्तेमाल कर पाएंगे। डाटा खत्म होने पर इंटरनेट की स्पीड 64Kbps हो जाएगी। इसमें जियो नंबर्स पर ही अनलिमिटेड कॉलिंग मिलेगी। अन्य नेटवर्क के लिए 12000 मिनट्स दिए जाएंगे। ग्राहक को डेली 100 SMS और जियो ऐप्स का सब्सक्रिप्शन फ्री मिलेगा।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Reliance Jio has demanded from TRAI that new floor prices should be fixed for mobile internet data. Reliance Jio demands that the floor price should be fixed at Rs 15 and its price should be increased to Rs 20 for the next 6-9 months. That is, Reliance Jio is currently seeking to sell the data that users are getting for less than Rs 5 to Rs 15-20 per GB.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X