मां-बाप की हत्या कर कमरे में जाकर सो गया बेटा, करेले की सब्जी नहीं थी पसंद

By: गुणवंती परस्ते
Subscribe to Oneindia Hindi
Pune: Son murdered his parents brutally for not getting favorite vegetable । वनइंडिया हिंदी

पुणे। पुणे में एक दिल दहला देने वाली घटना घटी है, अपने मां-बाप की हत्या करने के बाद बेटा शांती से बिस्तर पर जाकर सो गया। इस घटना से परिसर के लोगों के रोंगटे खड़े हो गए। माता-पिता को बेटे ने बहुत ही दर्दनाक और बेरहमी से मौत दी। पिता का चाकू से गला चीरकर और बीच बचाव करनेवाली मां का रस्सी से गला दबाकर हत्या कर दी। ताजुब की बात है कि दूसरे कमरे में आरोपी का जुड़वा भाई अपनी पत्नी और बेटी के साथ चैन की नींद सो रहे थे। उन्हें इस घटना का जरा भी अंदाजा नहीं हुआ, सुबह उठने के बाद घर में खून दिखने के बाद इस घटना का खुलासा हुआ। पुलिस द्वारा दी गई जानकारी मुताबिक इस घटना में प्रकाश क्षीरसागर (60) और आशा क्षीरसागर (55) की उनके ही बेटे ने हत्या कर दी। इस मामले में पुलिस ने पराग क्षीरसागर को गिरफ्तार किया है। प्रकाश और आशा क्षीरसागर के दो बेटें हैं, जो जुड़वा हैं।

घर में किसी को नहीं चला पता

घर में किसी को नहीं चला पता

पराग और प्रतीक उनके जुड़वा बच्चे हैं। पराग का उसके माता पिता के साथ रोज ही झगड़ा हुआ करता था। पराग एक इंजीनियर है, पर वो फिलहाल कहीं भी जॉब नहीं कर रहा था। पराग को शराब की काफी लत थी, वो रोज शराब पीकर आता था और घर पर नशे की हालत में रोज घरवालों से झगड़ा किया करता था। पराग का दूसरा भाई प्रतीक की शादीशुदा है और उसकी एक डेढ़ साल की बेटी है। प्रतीक के माता पिता के साथ अच्छे संबंध थे, पर पराग का हमेशा झगड़ा हुआ करता था। पराग की शादी भी नहीं हो रही थी और वो जॉब भी नहीं करता था, दिन भर बेकार घूमता रहता था। उसके बेकार घूमने और जॉब नहीं करने की वजह से माता पिता के साथ उसका हमेशा झगड़ा हुआ करता था।

सुबह खून देखकर उड़ गए सबके होश

सुबह खून देखकर उड़ गए सबके होश

पराग उच्चशिक्षित और अच्छी फैमिली से था, लेकिन गलत संगत की वजह से नशे का आदी हो चुका था। नशे में वो सोसायटी के लोगों से भी कभी भी झगड़ा कर लिया करता था। जिसकी वजह से सोसायटी के लोग भी हमेशा इस फैमिली से दूरी बनाए रखते थे, उनके घर में सोसायटी के किसी का भी आना जाना नहीं होता था। पराग दुबई और बाकी देशों में भी नौकरी करके वापस भारत लौटा था। उसके खराब बर्ताव की वजह से हमेशा उसे नौकरी से निकाल दिया जाता था। 6 महीने से वो घर पर बेकार बैठा हुआ था, पैसों को लेकर बाप बेटे में हमेशा झगड़ा हुआ करता था, पिता हमेशा पराग को नौकरी करने और कमाने के लिए कहते थे। बाप और बेटे के झगड़े में मां हमेशा बीच बचाव किया करती थी। घटना वाले दिन भी पराग का माता पिता के साथ काफी झगड़ा हुआ था। यह झगड़ा हमेशा होता है, ऐसा सोचकर दूसरा बेटा अपनी पत्नी और बच्ची के साथ दरवाजा लगाकर सो रहे थे।

बेटे ने ही मां-बाप को दी बेरहम मौत

बेटे ने ही मां-बाप को दी बेरहम मौत

पराग इतने गुस्सा में था कि उसने अपने पिता का चाकू से गला चीर डाला और बीच बचाव करनेवाली मां का रस्सी से गला घोंटकर मार दिया। दोनों की हत्या करने के बाद खून से सने हाथों को लेकर बिस्तर पर आराम से जाकर सो गया। सोसायटी में रहनेवाले नागरिकों ने बताया कि पराग का उसके माता पिता के साथ हमेशा झगड़ा हुआ करता था, वो बहुत ही चिड़चिड़ा स्वभाव का था। दिन भर नशे में ही धुत रहता था और काम पर भी नहीं जाता था। सोसायटी में आए दिन उनके झगड़े की आवाज आती थी। मृतकों की बहू जब सुबह सोकर उठी तो उसने फर्श पर खून ही खून देखा, उसने तुरंत पति और पड़ोसी को जाकर इस बात की जानकारी दी।

शराबी बेटे को पसंद नहीं थी करेले की सब्जी

शराबी बेटे को पसंद नहीं थी करेले की सब्जी

पड़ोसी ने तुरंत पुलिस को इस बात की जानकारी दी। घटना स्थल पर जाकर पुलिस ने घटना का मुआयना किया। हत्या करने के बाद आरोपी बेटा चुपचाप जगह पर ही बैठा रहा। वो कुछ भी बोलने और कहने की अवस्था में नहीं था। छोटी बच्ची के ऊपर इस बात का गलत असर ना हो इसलिए पड़ोसियों ने अपने घर पर बच्ची को कुछ समय के लिए रख लिया था। माता पिता के साथ का वाद विवाद हत्या तक पहुंच जाएगा, ऐसा किसी ने भी नहीं सोचा था। पुलिस ने बताया कि घटना की रात को पराग इस बात से भी खफा था कि घर में करेले की सब्जी बनी है, उसके मनपंसद की सब्जी कभी नहीं बनाई जाती है, इस पर पिता को लेकर उसके मन में काफी क्रोध था। पराग को उसके भाई प्रतीक ने उसी दिन बाहर खाना खिलाया था, क्योंकि पराग करेले की सब्जी खाने से इनकार कर रहा था।

खुद को भी चाकू मारकर किया था घायल

खुद को भी चाकू मारकर किया था घायल

होटल से खाना खाने के बाद दोनों भाई घर आए, तब माता पिता का वाद विवाद हुआ था और पराग ने अपने हाथों पर चाकू से वार भी किए थे। प्रतीक ने पराग को हॉस्पिटल ले जाकर इलाज भी करवाया और घर पर सुलाया था। हॉस्पिटल से घर आने के बाद प्रतीक अपने रूम पर सोने चला गया और इसी बीच पराग और माता पिता का झगड़ा हुआ, झगड़ा को शांत करने के लिए पराग की मां ने पराग को दूसरे कमरे में जाने के लिए कहा और पति को दूसरे कमरे में लेकर गई लेकिन पराग का गुस्सा शांत होने के नाम नहीं ले रहा था। जिस रूम में माता पिता थे, उस रूम में जाकर पराग ने अपने पिता और माता दोनों की हत्या कर दी। दोनों की बॉडी को पोस्टमॉर्टम के लिए हॉस्पिटल भेज दिया गया है।

Read more:ब्याह के बाद ही पड़ गई थी ससुर की गंदी नजर, नाबालिग बहू ने बताई काली करतूत

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Son Murdered his parents brutally and then sleep in Pune, Maharashtra
Please Wait while comments are loading...

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.