• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

खुलासाः बीजेपी शासनकाल में दो बार आतिश अली तासीर को जारी हुए OCI कार्ड!

|

बेंगलुरू। पाकिस्तान के दिवंगत नेता सलमान तासीर और भारतीय पत्रकार तवलीन सिंह की एकलौती संतान आतिश अली तासीर के ओवरसीज सिटीजन ऑफ इंडिया कार्ड (OCI Card) रद्द किए जाने के पीछे की कहानी सामने आ गई है। ब्रिटेन में जन्में लेखक आतिश अली तासीर की मां तवलीन सिंह एक सिंगल पैरेंट है और इसी आधार पर वर्ष 1999 और वर्ष 2015 में तासीर को आसीआई कार्ड जारी किए गए थे।

Taseer

चूंकि आतिश अली तासीर की भारतीय मां और लेखक तवलीन सिंह ने कभी भी पाकिस्तानी मूल के राजनीतिक सलमान तासीर से शादी नहीं की और सिंगल भारतीय पैरेंट्स के आधार पर भारतीय विदेश मंत्रालय द्वारा ओसीआई कार्ड जारी किए गए। जबकि भारतीय विदेश मंत्रालय द्वारा तासीर के आईसीआई कार्ड के रद्द करने का कारण तासीर के पाकिस्तानी मूल के पिता की जानकारी छुपाना बताया जा रहा है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के मुताबिक पाकिस्तानी मूल के पिता की संतान होने के चलते तासीर का ओसीआई कार्ड रद्द किया गया है। तासीर के ओसीआई कार्ड को रद्द करने के पीछे नागरिकता अधिनियम 1955 का हवाला दिया गया, जिसके मुताबिक किसी ऐसे व्यक्ति को ओसीआई कार्ड नहीं जारी किया जाता है, जिसके माता-पिता या दादा-दादी पाकिस्तानी हो।

    PM Modi को Divider in Chief बताने वाले Author Aatish Taseer के साथ ये क्या किया ? | वनइंडिया हिंदी

    Taseer

    इस गृह मंत्रालय का कहना है कि आतिश अली तासीर ने ओसीआई कार्ड के आवेदन के समय अपने पाकिस्तानी मूल के पिता सलमान तासीर की जानकारी छिपाई थी और इसका खुलासा होने पर तासीर को नोटिस भेजा गया और जब तासीर मामले में सफाई देने में नाकाम रहे तो उनका ओसीआई कार्ड कैंसिल कर दिया गया।

    हालांकि ओसीआई कार्ड कैंसिल करने के बाद आतिश अली तासीर ने भारत सरकार के फैसले का विरोध जताया है, इसके पीछे बदले की कार्रवाई मानी जा रही है, क्योकि तासीर ने हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ टाइम्स मैगजीन में डिवाइडर इन चीफ नामक लेख लिखे थे, लेकिन विदेश मंत्रालय ने इसका खंडन किया है और उनके ओसीआई कार्ड रद्द करने के पीछे उनके पाकिस्तानी मूल के पिता की जानकारी छिपाने को बताया गया है।

    Taseer

    विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि तासीर ने स्पष्ट रूप से बहुत बुनियादी जरूरतों को पूरा नहीं किया इसलिए उनका कार्ड रद्द किया गया। उनके मुताबिक 1955 नागरिकता अधिनियम के अनुसार, अगर किसी व्यक्ति ने धोखे से, फर्जीवाड़ा कर या तथ्य छुपा कर ओसीआई कार्ड हासिल किया है तो ओसीआई कार्ड धारक के रूप में उसका पंजीकरण रद्द कर दिया जाता है और उसे काली सूची में डाल दिया जाएग और जरूरत पड़ने पर ऐसे नागरिक के भविष्य में भारत में प्रवेश करने पर भी रोक लगाई जा सकती है।

    taseer

    हालांकि वर्ष 1999 और 2015 में दोनों बार ओसीई कार्ड बीजेपी के शासनकाल में ही जारी किए गए थे। दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी के कार्यकाल में वर्ष 1999 में आतिश को ओसीआई कार्ड जारी किया गया था, जो पहले पीआईओ (पीपुल ऑफ इंडियन ओरिजन) नाम से जाना जाता है। इसके वर्ष 2015 मोदी सरकार में उन्हें दोबारा ओसीआई कार्ड जारी किया गया था। ओसीआई को पीआईओ को मर्ज करके बनाया गया था। तासीर को बीजेपी शासनकाल में जारी किए दोनों कार्ड लेखक तवलीन सिंह के सिंगल पैरेंट के आधार दिया गया था।

    Taseer

    दरअसल, बीजेपी नेतृत्व वाली सरकार ने सिंगल पैरेंट्स के बच्चों के लिए पासपोर्ट नियमों को उदार बनाया था और कहा जा रहा है कि आतिश अला तासीर को इन्ही नियमों के आधार पर दोनों बार ओसीआई कार्ड जारी किए थे, लेकिन अब विदेश मंत्रालय ने उनके पाकिस्तानी मूल के पिता का हवाला देकर अब तासीर का ओसीआई कार रद्द कर दिया है।

    तर्क देते हुए विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि तासीर को इंडियन सिटीजन पैरेंट्स के आधार पर ओसीआई कार्ड जारी किया गया, लेकिन जब पता चला कि उनके पिता पाकिस्तानी मूल के है तब नोटिस जारी करने के बाद उनके ओसीआई कार्ड को रद्द करने का निर्णय लिया गया।

    Taseer

    गौरतलब है पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पहले टर्म में विदेश मंत्री दिवंगत सुषमा स्वराज थी और उनके ही कार्यकाल में बीजेपी नियमों को सिंगल पैरेंट्स के लिए लचीला बनाया गया था। इसी के मद्देनजर जनवरी, 2018 में, बीजेपी के नेतृत्व वाली मोदी सरकार ने फैसला किया था कि पासपोर्ट में अब अंतिम पृष्ठ पर पिता / कानूनी अभिभावक, माता, पति / पत्नी और पते के नाम की जानकारी मुद्रित नहीं होगी।

    Taseer

    तासीर ने ओसीआई कार्ड रद्द करने के विदेश मंत्रालय के फैसले पर हैरानी जताते हुए ट्विट किया है कि उन्हें जवाब देने के लिए 21 दिन नहीं, बल्कि 24 घंटे दिए गए थे। उनका मानना है कि भारत सरकार ने उनके खिलाफ बदले की कार्रवाई की है जबकि विदेश मंत्रालय ने तासीर के आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि तासीर द्वारा पिता की जानकारी छुपाने के कारण ही उक्त कार्रवाई की गई है।

    Taseer

    हालांकि सवाल उठ रहा है कि ओसीआई कार्ड जारी करते समय क्या विदेश मंत्रालय द्वारा इसकी जानकारी बिल्कुल नहीं रही होगी कि आतिश अली तासीर पत्रकार और लेखक तवलीन सिंह और पाकिस्तानी मूल के राजनीतिक सलमान तासीर के बेटे हैं और दोनों ने अंत तक शादी नहीं की थी, क्योंकि ईश निंदा कानून के खिलाफ बोलने के लिए पाकिस्तान में उनकी हत्या कर दी गई थी।

    जानिए, कौन हैं आतिश तासीर, जिनके पिता थे पाकिस्तानी और मां हैं हिंदुस्तानी

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    British passport holder Aatish Ali Taseer overseas citizen of India (OCI) card earlier has been cancelled by Indian foreign affair ministry. According to Ministry Taseer hided his father Salman Taseer name who is pakistani origin but this decision cames in controversy because action against taseer is considering as vendetta.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X