• search

श्रीदेवी की मौत की सनसनीखेज़ रिपोर्टिंग पर सोशल मीडिया में उतरा गुस्सा

By Bbc Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    बॉलीवुड स्टार श्रीदेवी की शनिवार को दुबई में मौत हो गई और उसके बाद से भारतीय मीडिया ने करोड़ों दर्शकों की इस चहेती अभिनेत्री को अपने-अपनी तरीके से याद भी किया.

    लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता गया, श्रीदेवी की मौत को लेकर मीडिया में तरह-तरह का ताना-बाना भी बुना जाने लगा. कई न्यूज़ चैनलों में श्रीदेवी की मौत को लेकर चल रही अटकलों पर स्पेशल शो चलाए गए.

    कई लोगों ने श्रीदेवी की मौत को लेकर इस तरह की सनसनीखेज़ रिपोर्टिंग पर अपना गुस्सा भी सोशल मीडिया में उतारा.

    सोमवार को दुबई पुलिस की एक रिपोर्ट में कहा गया था कि श्रीदेवी की मौत बाथटब में 'दुर्घटनावश डूबने' से हुई.

    कार्टून
    BBC
    कार्टून

    रूप की रानी श्रीदेवी का निधन

    श्रीदेवी का शव भारत लाने में क्यों हो रही देर?

    कुछ न्यूज़ चैनल ने बाथटब का सेट लगाकर अपना विशेष शो दिखाया तो तो कुछ ने एक कदम आगे जाकर टब में तैरती हुई श्रीदेवी को दिखाया.

    एक अन्य टीवी चैनल ने टब के बगल में बोनी कपूर को खड़ा कर दिया.

    न्यूज़ की मौत' हैशटैग के साथ कई वरिष्ठ पत्रकारों और लोगों ने मीडिया की 'सेंसेशनल रिपोर्टिंग' की निंदा की.

    श्रीदेवी के बारे में दस अनजानी बातें

    वरिष्ठ पत्रकार और न्यूज़़लॉन्ड्री की एडिटर इन चीफ़ मधु त्रेहन भी इस तरह की सनसनीखेज़ रिपोर्टिंग को सही नहीं मानतीं.

    उन्होंने कहा, "दो दिन से भारतीय मीडिया में जो चल रहा है वो पत्रकारिता नहीं है. पत्रकारिता तो तथ्यों पर होती है. यहां तो पूरी कवरेज ही अटकलों पर हो रही है. किसी को पूरी बात नहीं पता. मीडिया श्रीदेवी के फ़ेस लिफ़्ट और डाइट पिल पर बात कर रहा है. पत्रकारों को अपनी इज़्ज़त बनाकर रखनी चाहिए."

    वो 'लम्हे' वो 'चांदनी' और अब ये 'जुदाई' का 'सदमा'

    जब श्रीदेवी ने कहा था, हम झाड़ियों के पीछे कपड़े बदलते थे

    वरिष्ठ पत्रकार और इंडियन एक्सप्रेस की कॉलमनिस्ट शुभ्रा गुप्ता की राय भी उनसे जुदा नहीं है.

    शुभ्रा कहती हैं, "मान लिया कि किसी सेलेब्रिटी की अचानक मौत के बाद उनके बारे में जानने की जिज्ञासा होती है लेकिन फ़िलहाल जो चल रहा है उसे दर्शकों की जिज्ञासा का शोषण करना कह सकते हैं. ज़्यादातर टीवी चैनल्स ने निजता और मर्यादा को ताक पर रख दिया है. इन लोगों से पूछना चाहिए कि अगर उनके अपने परिवार की किसी महिला के बारे में ऐसी बातें की जातीं तो उन्हें कैसा लगता."

    क्या श्रीदेवी को दिल की बीमारी का ख़तरा था?

    श्रीदेवी की मौत पर मीडिया सर्कस
    STR/GETTY IMAGES
    श्रीदेवी की मौत पर मीडिया सर्कस

    यह पूछे जाने पर कि क्या श्रीदेवी का महिला होना एक वजह हो सकता है? शुभ्रा कहती हैं, "बिल्कुल. ये कोई पहली बार नहीं है जब ऐसा हो रहा है. प्रिंसेस डायना की मौत के समय भी मीडिया ने उनकी निजी ज़िंदगी की धज्जियां उड़ा दी थीं. वो आख़िरी समय में किसके साथ थीं, क्या कर रही थीं, हर चीज़ पर लिखा गया था. श्रीदेवी एक एक्टर थीं. उनके काम के बारे में बात करो. मौत से जुड़े तथ्य भी बताओ. लेकिन किसी के आख़िरी 15 मिनट से आपको क्या मतलब है? क्या ज़रूरत है इतना जानने की?"

    मीडिया तो इन अटकलों का भी इश्यू बना रहा है कि श्रीदेवी के ख़ून में शराब के अंश मिले.

    शुभ्रा ग़ुस्से से कहती हैं, "2018 चल रहा है. ऐसे में हम एक औरत के शराब पीने पर भी हैरानी जताएं तो हमें सोचना चाहिए कि क्या हम सौ साल पीछे जाने की कोशिश कर रहे हैं. मान लिया कि अति हर चीज़ की ख़तरनाक है. लेकिन कोई महिला या पुरूष शराब पीता है या नहीं, ये उनका निजी मामला है. मीडिया ऐसी बातें करके क्या साबित करना चाहता है."

    श्रीदेवी की मौत पर मीडिया सर्कस
    Getty Images
    श्रीदेवी की मौत पर मीडिया सर्कस

    क्या इसके लिए दर्शक भी कुछ हद तक ज़िम्मेदार हैं?

    मधु त्रेहन कहती हैं. "अगर हम कचरा कंज़्यूम कर रहे हैं तो हमें कचरा ही मिलेगा. अगर इन चैनल को ये दिखाकर भी टीआरपी मिलती रहे तो इन्हें लगेगा कि लोग यही देखना चाहते हैं. लोग चैनल बदलकर वोट क्यों नहीं करते कि हमें यह पसंद नहीं?"

    वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ट्विटर पर लिखा, "यह पहली बार नहीं है जब भारतीय न्यूज़ चैनल, बग़ैर किसी असल जानकारी के, फ़ोरेंसिक एक्सपर्ट, डॉक्टर और जासूस बने बैठे हैं. ना हम लोगों को शांति से जीने देते हैं, ना मरने."

    https://twitter.com/sardesairajdeep/status/968142129175330818

    बरखा दत्त ने तो न्यूज़ की मौत के नाम से एक हैशटैग भी चलाया है. वे ट्विटर पर लिखती हैं, "श्रीदेवी की मौत पर ख़बरों में चल रहे घिनौने हैशटैग का जवाब सिर्फ़ इस हैशटैग से दिया जा सकता है #NewsKiMaut. बाथटब को छोड़ो, इस तरीक़े की गंदगी को निकालने के लिए तो ड्रेन पाइप चाहिए. मुझे शर्म आ रही है कि मैं भी इस इंडस्ट्री का हिस्सा हूं. लेकिन इस बात का संतोष भी है कि मैं इस माहौल में टीवी पर एंकरिंग नहीं कर रही हूं."

    https://twitter.com/BDUTT/status/968163069460471810

    वीर सांघवी ने लिखा, "किसी की मौत के समय भारतीय टीवी चैनलों और गिद्धों में क्या फ़र्क रह जाता है? कुछ काम ऐसे हैं जिन्हें करने में गिद्धों को भी शर्म आ जाए, लेकिन हमारे टीवी चैनल्स को नहीं आती...

    https://twitter.com/virsanghvi/status/968136321419137024

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    report of death of Sridevi in the social media landed angry

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X