5 बेटों के बाद बेटी जन्मीं तो जंगल में फेंककर भाग गए मां-बाप, हुई मौत

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    जयपुर। कहते हैं कि लड़कियां घर की लक्ष्मी होती है। मां-बाप का ख्याल बेटों से ज्यादा बेटियां रखती है, लेकिन ये सारी बातें उस वक्त झूठ लगने लगती है जब लोग बेटियों को बोझ समझकर उसे लावारिस छोड़ जाते हैं। ऐसा ही एक मामला राजस्थान में सामने आया है। राजस्थान के झालावाड़ा जिले के झालारापाटन में एक दंपत्ति ने अपनी 6 दिन की जन्मीं बेटी को जंगल में फेंककर वहां से फरार हो गए।

     Rajasthan couple with 5 sons abandons 6-day-old girl child, she dies in hospital

    अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक खुशाल सिंह राजपुरोहित के मुताबिक वीरमाल और उसकी पत्नी सौरभ बाई के पांच बेटे हैं। वो अगला बच्चा भी बेटा ही चाहते थे, लेकिन जब बेटी पैदा हुई तो अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद दोनों ने नवजात बच्ची को जंगल में एक बड़े पत्थर के नीचे रखकर उसका सिर दबाकर भाग गए। लेकिन उन्हें ऐसा करते हुए कुछ लोगों ने देख लिया। लोगों ने उन्हें पुलिस के हवाले कर दिया और बच्ची को फौरन अस्पताल ले गए। लेकिन वहां बच्ची की मौत हो गई।

    पुलिस ने माता-पिता को गिरफ्तार कर लिया है। जब उनसे पूछा गया कि उन्होंने ऐसा क्यों किया तो दोनों ने बताया कि उन्हें बेटा ही चाहिए था। उनके पांच बेटे हैं और वो छठा भी बेटा चाहते थे, लेकिन जब बेटी पैदा हुई तो उन्होंने उसे जंगल में छोड़ने का फैसला किया। गौरतलब है कि राजस्थान में कन्या भ्रूण हत्या और नवजात बच्चियों की हत्या के कई मामले सामने आते रहते हैं।

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    A Rajasthan couple, parents to five sons, abandoned their 6-day-old girl child at a deserted place after heaping stones on the infant, eventually leading to her death, police said Wednesday.

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more