• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

UAE से छुट्टी लेकर शादी करने आए शख्‍स ने किसान आंदोलन में हिस्‍सा लेने के लिए कैंसिल की मैरिज

|

Farmer protest: दिल्‍ली बॉर्डर पर पंजाब और हरियाणा के किसानों का केंद्र सरकार के द्वारा लागू किए गए कृषि कानूनो के विरोध में प्रदर्शन लगातार जारी है। दिल्‍ली की सीमाओं पर लाखों की संख्‍या में किसान डेरा डाल कर कृषि कानूनों को रद्द करने की डिमांड करते हुए प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं किसान आंदोलन में अपने किसान भाईयों को साथ देने के लिए पंजाब के एक यूवा ने इस प्रदर्शन में भाग लेने के लिए अपनी शादी ही कैंसिल कर दी।

marrige

आप को सुनकर आश्‍चर्य होगा कि पंजाब का 29 वर्षीय सतनाम सिंह यूएई से दो साल बाद अपनी शादी के लिए दो महीने के लिए छुट्टी लेकर आया था। उसने इस प्रदर्शन में हिस्‍सा लेने के लिए अपनी शादी योजना को स्थगित कर दी और किसानों के विरोध में शामिल हो गया। वह 29 नवंबर को अपने गांव पहुंचा और उसे पता चला कि उसके बड़े भाई और उसके गांव के किसान सेंट्रे के विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ सिंघू सीमा पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। अपनी शादी के लिए दो साल बाद यूएई से छु्टी लेकर जब सतनाम सिंह जब वे पंजाब के जालंधर जिले में अपने गाँव पहुँचे, तो शादी की योजना बदल दी।

आबू धाबी से दो साल बाद छुट्टी लेकर शादी करने आए थे सतनाम

पीटीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार, सतनाम सिंह ने अपने माता-पिता के साथ सिर्फ दो दिन बिताए, एक नई मोटरसाइकिल खरीदी और एक दोस्त के साथ दिल्ली-हरियाणा सीमा के लिए निकल पड़े। अबू धाबी की एक कंपनी में प्लम्बर के रूप में काम करने वाले सतनाम ने कहा, '' शादी रुक सकती है। नौकरी इंतजार कर सकती है। इस‍के लिए मैं अपनी मिट्टी के प्रति कर्तव्‍य को नहीं भूल सकता।

सतनाम ने बोली ये बात

उनके माता-पिता कथित तौर पर चाहते हैं कि उनकी शादी उनकी छुट्टी अवधि के दौरान हो, लेकिन सतनाम के पास अब अन्य योजनाएं हैं। सतनाम ने बताया कि मेरी मां लगभग 70 साल की हैं। उनके लिए घर संभालना मुश्किल हो रहा है," उन्होंने पीटीआई से कहा, मां की नजर कमजोर हो गई है और उनके पिता अब खेतों की देखभाल नहीं कर सकते। सतनाम सिंह की दोस्त, सुच्चा सिंह, जो एक अलग तरह के किसान हैं, जो उनके साथ थे, उन्‍होंने कहा कि उनके माता-पिता अकेले घर पर हैं, लेकिन उन्होंने उसे एक बार भी नहीं रोका। इस बारे में पूछे जाने पर कि उन्होंने कब तक सिंघु बॉडर पर रहने की योजना बनाई, इसका जवाब देते हुए सतनाम सिंह ने कहा जब तक वे "यह लड़ाई जीत नहीं लेते"। "अबू धाबी में नौकरी करने से पहले मैं एक किसान था। मुझे अपने खेतों को बचाने की जरूरत है।"

Farmer protest: किसानों ने खून से पीएम मोदी को लिखा लेटर, बोली ये बातFarmer protest: किसानों ने खून से पीएम मोदी को लिखा लेटर, बोली ये बात

https://www.filmibeat.com/photos/anju-kurian-71303.html?src=hi-oi

English summary
Punjab man postpones marriage to joins farmers protest movement, who took leave from UAE for married
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X