• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Perseverance Rover: मंगल ग्रह से सामने आएंगी और भी खूबसूरत तस्वीरें, नासा को है वीडियो का इंतजार

|

Nasa Perseverance Rover New Images: अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने शुक्रवार को अपने रोवर 'पर्सिवरेंस' को मंगल ग्रह की सतह पर सफलतापूर्वक लैंड किया, जिसके बाद वहां से नई तस्वीरों को जारी किया, जिसमें से एक रोवर को केबल के एक सेट से मंगल ग्रह की सतह पर धीरे से उतारा जा रहा है। पहली बार ऐसा दृश्य कैप्चर किया गया है। हालांकि अभी जो भी तस्वीरें सामने आई है, वो अभी पूरी नहीं है। नासा से मिल रही जानकारी के मुताबिक अब और भी शानदार फोटो सामने आएंगी। नासा का रोवर मंगल ग्रह की अलग-अलग और नई इमेज और वीडियो भेजने की तैयारी में हैं।

Nasa Perseverance Rover
    Perseverance Rover: मंगल ग्रह से सामने आएंगी और भी खूबसूरत तस्वीरें, नासा को है वीडियो का इंतजार

    धरती से जाने वाले रोवर से ये हाई रिजॉल्यूशन फोटो निकाली गई है। छह-इंजन वाले जेटपैक को लैंडिंग के अंतिम चरण में प्रति घंटे लगभग 1.7 मील (2.7 किलोमीटर) की गति को धीमा किया गया था। 'पर्सिवरेंस' रोवर के मुख्य इंजीनियर एडम स्टेल्ट्जनर ने बताया कि रोवर के इंजनों से उड़ने वाली धूल को आसानी से देखा जा सकता हैं, उन्होंने अनुमान लगाया था कि शॉट दो मीटर (छह फीट) या जमीन से ऊपर था।

    नासा के रोवर ने मंगल पर उतरने के 24 घंटे से भी कम समय में कई फोटो जारी की है। मंगल पर भेजा गया अंतरिक्ष यान 25 कैमरों और दो माइक्रोफोन से लैस है। इनमें से कई कैमरों को रोवर के मंगल पर उतरने के दौरान स्टार्ट किया गया था। इसके अलावा और नई फोटो भी है, जिसमें मंगल ग्रह पर ऑर्बिटर से लिया गया है। 7 महीने पहले रोवर 'पर्सिवरेंस' ने टेकऑफ किया था। भारतीय समय के अनुसार 2 बजकर 25 मिनट के करीब पर्सिवरेंस रोवर ने ग्रह की सतह पर लैंड किया। मार्स पर्सिवरेंस रोवर को नासा ने जेजेरो क्रेटर में सफलतापूर्वक लैंड कराया है। जिसके बाद रोवर ने नासा को वहां की पहली तस्वीर भेजी।

    जैसा की आपको बताया था कि रोवर में 25 कैमरे लगे है। ऐसे में ये हाई-रिजॉल्यूशन, रंगीन फोटो को कैप्चर करने में सक्षम है, जो उस समतल इलाके को दिखाती है जो कि मंगल ग्रह की भूमध्य रेखा जेजेरो के नजदीक है। यहां अरबों साल पहले एक नदी और गहरी झील मौजूद थी। नासा के डिप्टी प्रोजेक्ट साइंटिस्ट केटी स्टैक मॉर्गन ने बताया कि सबसे पहले हम यह सवाल करेंगे कि क्या ये चट्टानें ज्वालामुखीय या अवसादी मूल का प्रतिनिधित्व करती हैं। विशेष रूप से ज्वालामुखीय चट्टानों को बहुत ही उच्च परिशुद्धता के साथ दिनांकित किया जा सकता है, जब एक भविष्य के रिटर्न मिशन पर नमूनों को पृथ्वी पर वापस लाया जाता है - एक ग्रह विज्ञान के दृष्टिकोण से एक रोमांचक है।

    भारतीय-अमेरिकी भव्या लाल बनीं NASA की कार्यकारी प्रमुख, जानिए उनके बारे में

    वहीं रोवर के मुख्य इंजीनियर एडम स्टेल्ट्जनर ने बताया कि नासा को आने वाले दिनों में और अधिक रिजॉल्यूशन वाले फोटो और वीडियो की उम्मीद है, लेकिन अभी तक यह नहीं पता है कि उसने पहली बार माइक्रोफोन का उपयोग करके मंगल पर ध्वनि रिकॉर्ड की है या नहीं। इस सप्ताह के अंत में या अगले हफ्ते की शुरुआत में ये सब पता लग सकता हैं।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Perseverance Rover New Images Nasa hopes to have more photos and videos in coming days
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X