• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

15 साल की लड़की से प्रभावित हुईं इवांका ट्रंप ने किया ट्वीट तो उमर अब्दुल्ला ने दिया ये जवाब

|

नई दिल्ली। लॉकडाउन की वजह से देशभर में प्रवासी मजदूर अपने घर पहुंचने के लिए तमाम मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। महज 15 वर्ष की लड़की ज्योति अपने घायल पिता को साइकिल पर बैठाकर 1200 किलोमीटर का सफर कर रही है। ज्योति गुरुग्राम से बिहार तक का रास्ता तय कर चुकी है, करीब एक हफ्ते बात वह दरभंगा पहुंची। इस बहादुर बेटी की इस कोशिश को सोशल मीडिया पर लोग सलाम कर रहे हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप भी इससे पहुत प्रभावित हुईं। इवांका ने ज्योति की तस्वीर को साझा करते हुए भावुक बात लिखी, जोकि सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। लेकिन इवांका की प्रतिक्रिया पर अब जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और कार्ति चिदंबरम ने अपनी प्रतिक्रिया दी है।

    Bihar Cycle Girl Jyoti पर Ivanka Trump का Tweet, बोल गई ये बड़ी बात | वनइंडिया हिंदी

    jyoti

    उमर और कार्ति ने दिया जवाब

    उमर अब्दुल्ला ने इवांका के ट्वीट के जवाब में लिखा कि ज्योति की गरीबी और मजबूरी को गौरवान्वित करने वाली बात की तरह दिखाया गया, मानो ऐसा लग रहा है कि ज्योति को साइकिल चलाकर किसी खुशी की अनुभूति हो रही है। सरकार की विफलता की वजह से उसे यह करने के लिए मजबूर होना पड़ा, जिसका सरकार को ढिंढोरा पीटना चाहिए। वहीं कार्ति चिदंबरम ने ट्वीट करके लिखा कि यह किसी प्रतिष्ठा की बात नहीं है, यह भाजपा सरकार जिसके मुखिया आपके दोस्त नरेंद्र मोदी हैं के रवैये का परिणाम है।

    tweet

    ट्वीट कर जाहिर की अपनी भावना

    ज्योति के लिए इवांका का ट्वीट इवांका ने ज्योति का पापा के प्रति इस प्यार देखकर इवांका भावनाओं में इसलिए भी सराबोर हो गई हैं ट्वीट कर लिखा कि '15 साल की ज्योति कुमारी ने अपने जख्मी पिता को साईकल से सात दिनों में 1,200 किमी दूरी तय करके अपने गांव ले गई। यह भारतीयों की सहनशीलता और उनके अगाध प्रेम के भावना का परिचायक है।

    15 साल की स्वाभिमानी ज्योति की क्या हैं कहानी

    कोरोना के कारण देशव्यापी लॉकडाउन में देश के राज्यों में कई जगहों पर प्रवासी मजदूर फंस गए। ट्रेन सहित आवागमन के अन्य साधनों का परिचालन बंद होने के कारण हजारों मजदूर पैदल ही अपने-अपने घरों की ओर चल पड़े। चूंकि ज्योति के पिता मोहन पासवान कुछ महीने पहले हादसे में जख्मी हो गए थे, इसलिए वो अपने दम पर घर पहुंचने में असमर्थ थे। 15 साल की स्वाभिमानी ज्योति ने पिता मोहन पासवान के घायल होने की वजह से खुद ही इतनी लंबी दूरी तक साइकिल चलाई। वह अभी 7वीं क्लास में पढ़ती है। ज्योति बोली- सफर के दौरान मुझे डर लगता था कि कहीं पीछे से कोई गाड़ी टक्कर न मार दे। हां, रात के समय हाईवे पर साइकिल चलाते हुए डर नहीं लगा, क्योंकि सैकड़ों प्रवासी मजदूर भी सड़क से गुजर रहे थे। मगर, किसी गाड़ी से टक्कर होने को लेकर चिंतित थी। ज्योति के पिता, मोहन पासवान, गुड़गांव में एक ऑटोरिक्शा चालक घायल हो गए और लॉकडाउन ने उन्हें आय के किसी भी स्रोत नहीं था। उसे मालिक को ऑटोरिक्शा वापस करना पड़ा। अपने घायल पिता को लेकर ज्योति 10 मई को एक साइकिल खरीदने के बाद 10 मई को गुड़गांव से अपनी यात्रा शुरू की और 16 मई को अपने गांव पहुंचे।

    इसे भी पढ़ें- VIDEO: PDDU जंक्शन पर प्रवासी श्रमिकों ने लूट लीं पानी की बोतलें, जिसके हाथ में जितनी आईं ले गया

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Omar Abdullah Karti Chidambaram corrects Ivanka Trump on 15 year old girl Jyoti.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X