• search

मुंबई आग हादसे में 100 लोगों को बचाने वाला 'रक्षक'

By Bbc Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    सिक्योरिटी गार्ड महेश साब्ले
    JANHAVEE MOOLE / BBC
    सिक्योरिटी गार्ड महेश साब्ले

    मुंबई के लोअर परेल इलाक़े की कमला मिल्स कम्पाउंड में आग लगने से 14 लोगों की मौत हुई है.

    आग लगने की वजह का फ़िलहाल पता नहीं चल पाया है. आग में झुलसे लोगों को नज़दीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

    हादसे वाली जगह पर राहतकर्मियों के पहुंचने से पहले एक ऐसा शख़्स ऐसा भी रहा, जिसने क़रीब 100 लोगों की जान बचाई.

    महेश साब्ले कमला मिल्स कम्पाउंड में सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी करते हैं.

    बीबीसी मराठी संवाददाता जाह्नवी मूले के मुताबिक, "जब ये आग लगी, तब महेश ने तेजी से लोगों को इमारत से बाहर निकालना शुरू किया, जिससे क़रीब सौ लोगों की जान बची."

    बाथरूम में फंसे लोगों की मौत

    इस इमारत में तीन होटल भी हैं, जिनमें होटल मोजोस, वन अबव और लंदन टैक्सी शामिल हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक, जब आग लगी तो यहां फंसे लोग बाथरूम में जाकर छिप गए और आग बढ़ने पर वहीं उनकी मौत हो गई.

    महेश साब्ले हादसे के वक्त इमारत के ऊपरी मंज़िलों की तरफ थे. महेश ने आग लगते ही वहां से भागने की बजाय लोगों को ऊपर से नीचे की तरफ भेजना शुरू किया.

    इस काम में महेश का साथ उनके दो साथियों सूरज गिरी और संतोष ने भी दिया. महेश ने अपने इन दोनों साथियों को जल्दी से अलर्ट किया. महेश ऊपर से जिन लोगों को नीचे भेज रहे थे, संतोष और सूरज उन्हें नीचे से सुरक्षित बाहर तक पहुंचा रहे थे.

    बीएमसी ने नवंबर में ही रूफटॉप की इजाज़त दी थी. इससे पहले मुंबई में छतों पर निर्माणकार्य की मनाही थी.

    कब लगी आग?

    ये आग रात साढ़े 12 बजे के क़रीब लगी थी.

    बीएमसी आपदा प्रबंधन के मुताबिक, आग में झुलसे लोगों को केएम अस्पताल में भर्ती कराया गया है, इनमें दो की हालत गंभीर है. ये आग इलाके की कमला मिल्स कम्पाउंड में लगी थी.

    बीबीसी मराठी संवाददाता जाह्नवी मूले के मुताबिक, ''जहां ये आग लगी है. वहां कई मीडिया के दफ़्तर, होटल हैं. इस वजह से यहां देर रात तक काफ़ी चहल पहल रहती है. इमारत के टॉप फ्लोर पर एक पब था, वहीं आग लगी. ये आग रात साढ़े 12 बजे लगी है. आग लगने के 10 मिनट बाद यहां चार से छह फ़ायर ब्रिगेड की गाड़ियां दाख़िल हुईं. आग लगने का कारण अभी साफ़ नहीं हो पाया है.''

    घटनास्थल पर मौजूद एनएम जोशी पुलिस थाने के अधिकारी अहमद उस्मान पठान ने बीबीसी संवाददाता मानसी दाश को बताया, "केईएम अस्पताल के अलावा 13 लोगों को हिंदुजा अस्पताल में भी भर्ती कराया गया है."

    केईएम अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉक्टर निखिल ने बताया कि अस्पताल में कुल 25 लोगों को भर्ती कराया गया है जो आग से झुलस गए हैं.

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Mumbai firefighters guard who saved 100 people

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X