• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Makar Sankranti 2021: मकर संक्रांति आज, श्रद्धालुओं ने लगाई गंगा में आस्था की डुबकी

|

Makar Sankranti 2021 Celebration In The Country: देशभर में मकर संक्राति की धूम है, आज सुबह से ही श्रद्धालुगण गंगा घाटों पर पुण्य की डुबकी लगा रहे हैं। इलाहाबाद हो या काशी, हर जगह के गंगा घाटों पर लाखों श्रद्धालुओं का हुजूम दिखाई पड़ रहा है। कोरोना महामारी, घने कोहरे और हाड़ कंपा देने वाली सर्दी के बावजूद भक्तों ने सूरज की पहली किरण के साथ ही गंगा में स्नान किया है।

    Makar Sankranti पर आस्था की डुबकी,Praygraj,Varanasi,Haridwar में गंगा घाट पर भीड़ | वनइंडिया हिंदी
    नई ऊर्जा का संचार

    नई ऊर्जा का संचार

    माना जाता है कि इस दिन राशियों का बड़ा महत्व होता है और सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करते हैं। जिसके चलते सूर्य से निकलने वाली अद्भुत किरणें जब श्रृद्धालुओं पर पड़ती हैं तो उनमें नई ऊर्जा का संचार होता है। आज के ही दिन से सूर्य उत्तरायण होने के कारण इस पर्व को उत्तरायणी के नाम से भी जाना जाता है।

    यह पढ़ें: Haridwar Kumbh Mela 2021: मकर संक्रांति पर होगा कुंभ का पहला स्नान, जानिए शाही स्नान की Date

    गंगा में डुबकी

    गंगा में डुबकी

    मान्यता है कि मकर संक्रांति वाले दिन लोगों के गंगा में डुबकी लगाने और दान करने से लोगों को सारे पापों से मुक्ति मिल जाती है और इंसान को जीवन में सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है। काशी में तो सुबह के चार बजे से ही गंगा में डुबकी लगाने का सिलसिला जारी हो गया था। डुबकी लगाने वालों में पुरुषों के साथ महिलायें और बच्चे भी शामिल हैं।

    क्यों मनाते हैं मकर संक्रांति?

    क्यों मनाते हैं मकर संक्रांति?

    पौष मास के शुक्ल पक्ष में मकर संक्रांति को सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। इसी दिन से सूर्य उत्तरायण हो जाता है। शास्त्रों में उत्तारायण की अवधि को देवी-देवताओं का दिन और दक्षिणायन को देवताओं की रात के तौर पर माना गया है। मकर संक्रांति के दिन स्नान, दान, तप, जप, श्राद्ध तथा अनुष्ठान आदि का अत्यधिक महत्व है। शास्त्रों के अनुसार इस अवसर पर किया गया दान सौ गुना होकर प्राप्त होता है।। इस त्योहार का संबंध केवल धर्मिक ही नहीं है बल्कि इसका संबंध ऋतु परिवर्तन और कृषि से है। इस दिन से दिन एंव रात दोनों बराबर होते है।

    कुछ खास बात

    कुछ खास बात

    इस बार मकर संक्रांति के दिन पंचग्रही योग बन रहा है। सूर्य, चंद्र, बुध, गुरु और शनि एक ही राशि मकर में रहेंगे। इसलिए समस्त राशि वाले जातक बुरे प्रभाव में कमी और शुभ प्रभाव में वृद्धि के लिए नवग्रह स्तोत्र का पाठ अवश्य करें। नवग्रह के मंत्रों का जाप परेशानियों से रक्षा करेगा।

    यह पढ़ें: Makar Sankranti 2021: 'खिचड़ी' के पर्व पर अपनों को भेजें ये दिल छू लेने वाले मैसेज

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Makar Sankranti Celebration In The Country, Devotees Taking Holy Dip In Ganga, Devotees take dip Holy Dip In Ganga.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X