• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

कर्नाटक विधानसभा चुनाव: क्या एसएम कृष्णा को नजरअंदाज कर रही है भाजपा?

By Rahul Sankrityayan
Google Oneindia News

बेंगलुरू। एक साल पहले, कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एसएम कृष्णा ने कांग्रेस छोड़ने और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल होने का फैसला किया। एक साल बाद, जब कि दक्षिणी राज्य चुनावों में जाने के लिए तैयार है और कृष्णा इस क्षेत्र में बड़ा राजनीतिक चेहरा हैं, वो अब तक मंच से गायब हैं। हाल ही में, चुनाव आयोग ने कर्नाटक के लिए मतदान और गिनती की तारीखों की घोषणा की। 12 मई को मतदान होने के बाद 15 मई को मतों की गिनती होगी। दिल्ली के चतुर राजनैतिक चेहरों की नियमित रूप से कर्नाटक यात्रा हो रही है, कृष्णा, जो भारत के पूर्व विदेश मंत्री भी थे, की चुप्पी ने राज्य में राजनीतिक पर्यवेक्षकों को चौंका दिया है।

कई लोगों का मानना था कि...

कई लोगों का मानना था कि...

भाजपा में शामिल होने के बाद, कई लोगों का मानना था कि आगामी चुनाव जीतने के लिए भाजपा कृष्णा के अनुभव और विशेषज्ञता का सर्वश्रेष्ठ उपयोग करेगी, हालाँकि,ऐसा कुछ खास होता दिख नहीं रहा है। जब उन्होंने कांग्रेस छोड़ दिया, तो आम धारणा यह थी कि भव्य पुरानी पार्टी ने उन्हें छोड़ दिया था, लेकिन भाजपा भी कृष्णा को उसी तरह से पीछे रख रही है। कृष्णा को मुख्यमंत्री के रूप में बेंगलुरु में आईटी क्रांति' लाने के लिए श्रेय दिया जाता है।

सोशल मीडिया सेल में कृष्णा?

सोशल मीडिया सेल में कृष्णा?

कुछ महीने पहले कृष्णा को भाजपा के सोशल मीडिया सेल के सदस्यों में से एक के रूप में नामित किया गया था। जिससे शायद संकेत दिया गया कि चुनाव के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री को कोई भी महत्वपूर्ण पद या काम देने के लिए पार्टी काकोई मूड नहीं है। दूसरी ओर भाजपा और कृष्णा दोनों ने सोशल मीडिया सेल का हिस्सा बनने से इनकार कर दिया क्योंकि यह उनके जैसे अनुभवी राजनीतिज्ञ के लिए भी 'निरर्थक' काम है।

कृष्णा ने इनकार किया कि वह भाजपा से नाखुश

कृष्णा ने इनकार किया कि वह भाजपा से नाखुश

हालांकि कृष्णा ने इनकार किया कि वह भाजपा से नाखुश हैं। करीब एक महीने पहले, अनुभवी नेता ने एक संवाददाता से कहा कि वह भाजपा के साथ 'नाखुश' नहीं हैं लेकिन उन्होंने भाजपा के कार्यक्रमों से उनकी अनुपस्थिति के बारे में सवाल का कोई जवाब नहीं दिया। पिछले जनवरी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुनावी रैली के दौरान भाजपा नेताओं के साथ मुलाकात के अलावा और जनवरी में मंड्या में हिस्सा लेने के अलावा कृष्णा ने कर्नाटक में भाजपा के किसी भी राजनीतिक आयोजन में भाग नहीं लिया।

भाजपा ने इनकार कर दिया कि...

भाजपा ने इनकार कर दिया कि...

बता दें कि भाजपा ने इनकार कर दिया कि उन्हें पार्टी ने नजरअंदाज किया है। रिपोर्टों में कहा गया है कि कृष्णा चाहते हैं कि भाजपा उनकी छोटी बेटी शम्भवी को मंड्या जिले में मददुरु से या बेंगलुरु में राजराजेश्वरिनागारा से विधानसभा का टिकट दे। अब, यह देखना जरूरी है कि क्या भाजपा कृष्णा की इच्छा का सम्मान करेगी या क्या कृष्ण ने कांग्रेस को भाजपा में शामिल होने से पहले एक गलती की थी?

ये भी पढ़ें: राजनीति के जेंटलमेन कहे जाते हैं कांग्रेस से BJP में शामिल हुए एसएम कृष्णाये भी पढ़ें: राजनीति के जेंटलमेन कहे जाते हैं कांग्रेस से BJP में शामिल हुए एसएम कृष्णा

Comments
English summary
karnataka assembly elections 2018,where is sm krishna bjp
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X