• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कमलनाथ ने कृषि कानूनों का किया विरोध, आरएसएस-जनसंघ पर बोला हमला

|

नई दिल्ली। दिल्ली की सीमा पर किसानों के आंदोलन का आज 43वां दिन है। भाजपा की विरोधी पार्टियों ने इस आंदोलन का खुलकर समर्थन किया है। इसी बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कृषि कानूनों को लेकर आरएसएस और जनसंघ पर जबरदस्त हमला बोला है। कमलनाथ ने केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीनों कृषि कानूनों को लेकर कहा कि कानून लाकर सरकार कृषि क्षेत्र का निजीकरण करना चाहती है।

    MP: Farm Law को लेकर Kamalnath का BJP पर वार, कहा- नया कानून MSP खत्म करने वाला | वनइंडिया हिंदी

    kamal nath

    कमलनाथ ने कहा, आजादी के बाद RSS और जनसंघ की सोच निजीकरण की थी। जनसंघ ने बैंकों के राष्ट्रीयकरण का विरोध किया था। ये इतिहास है, मेरी सोच ऐसी नहीं है। उन्होंने आगे कहा, जब कोयले की खदानों का राष्ट्रीयकरण किया तो जनसंघ ने इसका विरोध किया। ये इनकी सोच थी।

    राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष को BSP विधायकों के कांग्रेस में विलय के मामले में सुप्रीम कोर्ट का नोटिस

    उन्होंने कृषि कानूनों को लेकर कहा कि ऐसा करके सरकार कृषि क्षेत्र का निजीकरण करना चाहती है। उन्होंने आगे कहा कि किसानों को जागरूक करने के लिए उनकी पार्टी एमपी के छिंदवाड़ा में 16 जनवरी को किसान सम्मेलन का आयोजन करेगी।

    मालूम हो कि केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों पर देशभर के किसानों ने विरोध जताया है और इन कानूनों की वापसी की मांग को लेकर मुख्य रूप से पंजाब, हरियाणा और यूपी के किसान दिल्ली के विभिन्न बॉर्डरों पर पिछले 42 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं। इस मामले को लेकर किसान और सरकार के बीच 7 दौर की बातचीत बेनतीजा रही है। अब किसानों और केंद्र सरकार के बीच 8 जनवरी को इस मुद्दे पर बातचीत होगी।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Kamal Nath opposes agricultural laws, attacks on RSS-Jana Sangh
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X