• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

चीन के एक फैसले पर आनंद महिंद्रा ने ली चुटकी, बोले-इस शब्‍द के use के लिए इससे अच्‍छा समय नहीं

|

नई दिल्‍ली। कोरोना वायरस महामारी के बीच ही चीन ने भारत में अपने नागरिकों को देश से निकालने की तैयारी कर ली है। चीनी दूतावास की तरफ से नागरिकों को इस बारे में नोटिस जारी कर जानकारी दी है। चीन के इस फैसले पर महिंद्रा ग्रुप के मालिक आनंद महिंद्रा ने अपने ही अंदाज में चीन पर तंज कसकर जवाब दिया है। चीनी दूतावास पर सोमवार को एक नोटिस चस्‍पा किया गया है। मैनड्रिन भाषा में लिखे इस नोटिस में कहा गया है कि छात्र, पर्यटक और बिजनेसमेन जो भारत में फंसे हैं उन्‍हें स्‍पेशल फ्लाइट्स से चीन आने की मंजूरी है।

यह भी पढ़ें-भारत से नाराज नेपाली रक्षा मंत्री ने दी लड़ाई की धमकी

पहले कभी नहीं आया ऐसा मौका

पहले कभी नहीं आया ऐसा मौका

आनंद्र महिंद्रा ने ट्वीट किया और लिखा, 'मैंने इससे पहले इतना बेहतर मौका नहीं देखा जहां पर मैं इस विशेषण का प्रयोग कर सकूं-आइरॉनिक।' आइरॉनिक जो कि इंग्लिश भाषा का शब्‍द है उसका अर्थ होता है-व्यंग्यपूर्ण। आनंद महिंद्रा अक्‍सर नए घटनाक्रमों पर टिप्‍पणी करते रहते हैं और उनकी ट्विटर वॉल अक्‍सर उनकी टिप्‍पणियों से भरी पड़ी है। महिंद्रा ग्रुप ऑफ इंडस्‍ट्रीज के मालिक आनंद महिंद्रा ने पिछले दिनों सेना के 'टूर ऑफ ड्यूटी' वाले ऐलान पर खुशी जाहिर की थी। उन्‍होंने कहा था कि जो युवा टूर ऑफ ड्यूटी पूरी करेंगे उन्‍हें वह जॉब का चांस देंगे।

27 मई तक कराना होगा रजिस्‍ट्रेशन

27 मई तक कराना होगा रजिस्‍ट्रेशन

फिलहाल इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि अभी चीन के कितने नागरिक भारत में पढ़ रहे हैं, रुके हैं या फिर यहां पर काम कर रहे हैं। चीन ने 27 मई तक उन नागरिकों का रजिस्‍ट्रेशन करने के लिए कहा है जो अपने देश वापस लौटना चाहते हैं। जिन लोगों को वापस लेकर जाया जाएगा उनमें वे चीनी नागरिक भी शामिल हैं जो भारत में योगा की प्रैक्टिस के लिए हैं या फिर बौद्ध धर्म से जुड़े किसी तीर्थयात्रा के मकसद से भारत आए थे। अभी तक नोटिस में यह जानकारी भी नहीं है कि स्‍पेशल फ्लाइट्स कहां से टेक ऑफ करेंगी।

मार्च से महामारी की लड़ाई में सक्रिय महिंद्रा

मार्च से महामारी की लड़ाई में सक्रिय महिंद्रा

महिंद्रा ग्रुप के सीईओ आनंद महिंद्रा ने कोविड-19 महामारी के दौरान देश को कई तरह से मदद की है। मार्च माह में उन्‍होंने अपनी कंपनी के रिसॉर्ट्स को अस्‍पताल में बदलने की पेशकश की थी। इसके अलावा उनकी कंपनी ने 7500 रुपए की लागत से स्‍वदेशी वेंटीलेटर्स का निर्माण अप्रैल माह में किया था। वहीं महिंद्रा कंपनी के वैज्ञानिों ने कम कीमतों वाले हैंड सैनिटाइजर्स और फेस शील्‍ड्स को डेवलप किया था। इसकी वजह से हेल्‍थ केयर वर्कर्स को वायरस से संक्रमित होने से बचाया जा सकेगा।

LAC पर बनी है तनाव की स्थिति

LAC पर बनी है तनाव की स्थिति

चीन की तरफ से यह नोटिस ऐसे समय में आया है जब भारत और चीन के बीच विवादित सीमा को लेकर पिछले कुछ दिनों से तनाव की स्थिति बनी हुई है। जो नोटिस दूतावास पर लगा है वह मैनड्रिन भाषा में है। इस नोटिस में यह भी कहा गया है कि जो लोग स्‍पेशल फ्लाइट्स से चीन आना चाहते हैं उन्‍हें अपने टिकट के पैसे खुद अदा करने होंगे और देश पहुंचने पर 14 दिनों का क्‍वारंटाइन पीरियड भी पूरा करना होगा। नोटिस में लिखा है, 'विदेश मंत्रालय के संगठित प्रयासों और हालिया घटनाक्रमों के बाद, भारत में चीनी दूतावास और कांसुलेट्स ने छात्रों, पर्यटकों और अस्‍‍थायी व्‍यवसायी तो अपने देश लौटना चाहते हैं, उनकी मदद करेगी।'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Ironic, says Anand Mahindra as China to evacuate nationals from India.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X