• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

ट्रेन में मसाज सेवा का बीजेपी सांसद ने किया विरोध, कहा- ये संस्कृति के खिलाफ है

|

नई दिल्ली। ट्रेन में यात्रा के दौरान यात्रियों को मालिश सेवाएं प्रदान करने की भारतीय रेलवे की योजना आलोचनाओं के घेरे में आ गई है। इंदौर के सांसद शंकर लालवानी ने केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर कहा कि महिलाओं की उपस्थिति में ऐसी सेवाओं की पेशकश करना भारतीय संस्कृति के खिलाफ है। रेलवे के एक अधिकारी ने 8 जून को कहा था कि रेलवे अगले कुछ हफ्तों में इंदौर से चलने वाली 39 रेलगाड़ियों में सफर के दौरान यात्रियों को मालिश की सुविधा देकर अतिरिक्त राजस्व कमाने की रेलवे की नवाचारी योजना शुरू करने वाली है। पीयूष गोयल को लिखा गया पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

 रेलवे के खजाने में सालाना 20 लाख रुपये जमा होने की उम्मीद

रेलवे के खजाने में सालाना 20 लाख रुपये जमा होने की उम्मीद

उन्होंने कहा, 'मुझे आश्चर्य है कि चलती रेलगाड़ियों में अन्य यात्रियों, विशेषकर महिलाओं के समक्ष इस प्रकार की (मालिश) सुविधा उपलब्ध कराना क्या भारतीय संस्कृति के मानकों के अनुरूप प्रतीत होगा? रेल यात्रियों को मेडिकल सुविधा और डॉक्टरों की उपलब्धता जैसी आवश्यक सुविधाएं देने के स्थान पर इस तरह की स्तरहीन व्यवस्थाओं का मेरे मत में कोई औचित्य प्रतीत नहीं होता है। इस सेवा से रेलवे के खजाने में सालाना 20 लाख रुपये जमा होने की उम्मीद है। चलती ट्रेन में यात्रियों को यह सेवा प्रदान करने वाले लोगों को रेलवे अनुमानित तौर पर करीब 20,000 यात्रा टिकट बेचेगा जिससे उसे हर साल लगभग 90 लाख रुपये की अतिरिक्त कमाई होगी।

शताब्दी और राजधानी ट्रेनों में शुरू किया जाना चाहिए इस सेवा को

शताब्दी और राजधानी ट्रेनों में शुरू किया जाना चाहिए इस सेवा को

उन्होंने कहा कि, लोगों का मानना है कि रेलवे को यात्रियों के लिये नयी चिकित्सा सुविधाएं शुरू करने को प्राथमिकता देनी चाहिये। इस सेवा को पर्यटक ट्रेनों जैसे शताब्दी और राजधानी ट्रेनों में शुरू किया जाना चाहिए, लेकिन यात्री ट्रेनों में नहीं, जैसा कि योजना बनाई जा रही है। यात्री ट्रेनों में कौन मालिश करता है? वे गरीब लोग होते हैं और यात्रा तीन से चार घंटे तक चलती है। वहां मालिश की जरूरत किसे है? मुझे लगता है कि यह पूरी तरह से अनावश्यक है। पत्र के वायरल हो जाने के बाद जब लालवानी से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, 'स्थानीय महिला संगठनों और सामाजिक संगठनों के कुछ लोग मुझसे हाल ही मिले थे। उनसे मिले सुझावों के आधार पर ही मैंने रेल मंत्री को मालिश योजना के बारे में पत्र में लिखा है।

अंतरिक्ष में इसरो का बड़ा मिशन, खुद का space station बनाएगा भारत

पूरे शरीर पर मालिश प्रस्ताव नहीं

पूरे शरीर पर मालिश प्रस्ताव नहीं

वहीं इस बारे में जब रेलवे के अधिकारी ने बताया कि, चलती ट्रेनों में सुबह छह से रात 10 बजे के बीच प्रस्तावित सेवा के तहत यात्रियों के पूरे शरीर की नहीं, बल्कि सिर और पैर जैसे अंगों की मालिश की जायेगी। इस सेवा के बदले यात्रियों से 100 रुपये, 200 रुपये और 300 रुपये की तीन अलग-अलग श्रेणियों में शुल्क लिया जायेगा। योजना के तहत इंदौर से चलने वाली 39 ट्रेनों में मसाज प्रोवाइडर उपलब्ध रहेंगे। इसमें देहरादून-इंदौर एक्सप्रेस (14317), नई दिल्ली-इंदौर इंटरसिटी एक्सप्रेस (12416) और इंदौर-अमृतसर एक्सप्रेस (19325) सहित प्रमुख ट्रेनें शामिल हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Indore MP Shankar Lalwani criticizes massage services in train, writes to Union minister Piyush Goyal
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X