पी चिदंबरम ने कहा शुक्रिया गुजरात, मोदी को अब समझ आई है

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। देश के पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले गुजरात को धन्यवाद कहा है। पी चिदंबरम ने कहा कि देर से ही सही लेकिन मोदी सरकार ने सबक तो लिया। उन्होंने कहा कि वह और कांग्रेस पहले से ही जीएसटी की दरों में कटौती के पक्ष में थे, लेकिन अब जाकर जीएसटी के 28 फीसदी स्लैब की सूची से कई चीजों को हटाया गया और उनकी दरों में कटौती करने का फैसला लिया गया। चिदंबरम ने कहा कि मोदी सरकार ने जीएसटी की दरों में कटौती करके यह साबित कर दिया है कि उसको अब समझ में आ गया है। कांग्रेस नेता ने ट्वीट किया, 'मोदी सरकार के इस कदम से कांग्रेस दोषमुक्त हुई. मैं दोषमुक्त हुआ। अब जीएसटी के 18 फीसदी स्लैब को मंजूरी मिल गई।'

पी चिदंबरम ने कहा शुक्रिया गुजरात, मोदी को अब समझ आई है

इतना ही नहीं, पूर्व वित्तमंत्री चिदंबरम में ने इससे पहले ट्वीट कर तंज कसते हुए कहा कि गुजरात आपका शुक्रिया, आपके चुनाव ने वो कर दिखाया, जो संसद और सामान्य सूझबूझ से नहीं किया जा सका। दरअसल, शुक्रवार को जीएसटी परिषद ने चुइंगम से लेकर चॉकलेट, सौंदर्य प्रसाधनों, विग से लेकर हाथ घड़ी तक 178 उत्पादों पर कर की दरें घटा दी। वित्तमंत्री अरुण जेटली ने जीएसटी परिषद की बैठक के बाद कहा कि आम इस्तेमाल वाली 178 वस्तुओं पर कर दर को मौजूदा के 28 प्रतिशत से घटाकर 18 प्रतिशत करने का फैसला किया गया है।

पी चिदंबरम ने कहा कि जीएसटी रेट्स को 18 फीसदी पर लाया जाना यह बताता है कि सरकार को ये चीजें देर से समझ में आईं। कांग्रेस सही साबित हुई। मैं सही साबित हुआ। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने मांग की थी कि जीएसटी के अंतर्गत इन सभी टैक्स को 18 फीसदी के स्लैब में रखा जाए।

इससे पहले चिदंबरम ने कहा था कि कांग्रेस-शासित राज्यों के वित्त मंत्रियों की लिखी चिट्ठी से वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के डिजायन और कार्यान्वयन में संरचनात्मक खामियों का खुलासा हुआ है। गुजरात चुनावों को धन्यवाद कि उसने सरकार को जीएसटी की खामियों पर विपक्ष और विशेषज्ञों की बात सुनने को मजबूर किया।

Pradyuman murder case: CBI को बहुत पहले ही छात्र पर हो गया था शक

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
gujarat elections did what parliament and common sense could not do says p chidambaram
Please Wait while comments are loading...