• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कोरोना वायरस की दवा बनाने में एक कदम और नजदीक पहुंचा भारत, CSIR-IICT को मिली बड़ी सफलता

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली। कोरोना की जंग रहा देश इस खतरनाक वायरस के खत्म करने की दिशा में एक कदम आगे बढ़ गया है। कोरोना की दिशा में हैदराबाद स्थित इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी (IICT) ने बड़ी सफलता हासिल कर ली है। भारत कोरोना की दवा बनाने में एक कदम और बढ़ा चुका है। कोरोना की दवा बनाने की दिशा में आईआईसीटी ने एक कदम और बढ़ा लिया है। कोरोना के खिलाफ सक्रिय दवा घटक विकसित करने की दिशा आईआईसीटी की ओर से स्टेप आगे बढ़ा है।

    Positive News: COVID-19 की दवा बनाने के करीब पहुंचा India, CSIR-IICT को मिली सफलता | वनइंडिया हिंदी
     Good News: India a step closer to making key drug to treat Coronavirus

    इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी (CSIR-IICT) ने रेमडेसिविर के लिए शुरुआती मटेरियल को सिंथेसाइज्ड किया है। ये कदम एक्टिव फार्मास्युटिकल घटक डेवलप करने के लिए पहला कदम है। इसके लिए प्राइवेट फर्मा कंपनियों की मदद भी ली जा रही है। IICT ने सिप्ला जैसे दवा निर्माताओं के लिए टेक्नॉलॉजी प्रदर्शन भी शुरू किया है । ऐसा करने के पीछे मकसद है कि इमरजेंसी में भारत में इसकी मैन्यूफैक्टरिंग शुरू की जा सके।

    विज्ञान और प्रौद्योगिकी और स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक CSIR-IICT द्वारा की स्टार्टिंग मैटेरियल का सिन्थिसाइज़ेशन हासिल कर लिया गया है और भारतीय उद्योग के लिए टेक्नालॉजी डेमन्स्ट्रैशन हो रहे हैं। उन्होंने सोमवार को इसके बारे में जानकारी देते हुए कहा कि Covid19 के इलाज के लिए एक और संभावित दवा Favipiravir के लिए CSIR ट्रायल शुरू कर रहा है। इस दवा के क्लिनिकल ट्रायल्स के लिए निजी क्षेत्र के साथ भारत में संभावित लॉन्च पर काम कर किया जा रहा है। इस दिशा में तेजी से काम हो रहा है। अंग्रेजी अखबर हिन्दुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार रेमेडिसविर में तीन केएसएम, पायरोल, फुरान और एक फॉस्फेट इंटरमीडिएट है।

    रिपोर्ट में ये बात सामने आई कि कोरोना से गंभीर रूप से पीड़ित जिन मरीजों को रेमेडेसिविर दवा दी गई उन्हें औसतन 11 दिन में अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। वहीं रेमडेसिवियर के क्लिनिकल ट्रायल के मुताबिक इस दवा ने इम्प्रूवमेंट टाइम को 5 दिन कम कर दिया। आपको बता दें कि फार्मा कंपनी गिलीड की एंटीवायरस दवा रेमडेसिविर को कोरोना के इलाज में इमरजेंसी प्रयोग के लिए अमेरिकी रेग्युलेटरी से अनुमति मिल गई है। इसे कोरोना से गंभीर रूप से ग्रसित मरीजों पर इस्तेमाल किया जा रहा है।

     लॉकडाउन के बीच दिल्लीवालों को डबल झटका, शराब के बाद केजरीवाल सरकार ने बढ़ाए पेट्रोल-डीजल के दाम लॉकडाउन के बीच दिल्लीवालों को डबल झटका, शराब के बाद केजरीवाल सरकार ने बढ़ाए पेट्रोल-डीजल के दाम

    English summary
    The Hyderabad based Indian Institute of Chemical Technology has synthesised the key starting materials for Remdesivir, the first step to develop the active pharmaceutical ingredient in a drug.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X