• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

ग्लेनमार्क ने अध्‍ययन के बाद किया दावा कोरोना के इलाज में कारगर है फैबीफ्लू दवा

|
Google Oneindia News

नई दिल्‍ली, 15 सितंबर। भारत की प्रमुख फार्मा कं‍पनी ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स ने अपनी तैयार की दवा फेविपिराविर (फैबीफ्लू) का पोस्ट मार्केटिंग सर्विलांस (पीएमएस) अध्ययन पूरा कर लिया है। कंपनी ये स्‍टडी कोरोना के हल्‍के और मध्‍यम रूप से प्रभावित कोरोना मरीजों पर किया। कोरोना मरीजों पर फेविपिराविर की सुरक्षा और प्रभावकारिता का मूल्यांकन किया गया। ये पोस्ट मार्केटिंग सर्विलांस अध्ययन जुलाई 2020 में शुरू किया था।ग्लेनमार्क ने 1000 से अधिक COVID रोगियों में फ़ेविपिराविर (FabiFlu) पर पोस्ट मार्केटिंग सर्विलांस अध्ययन किया।

farma

19 जून, 2020 को, ग्लेनमार्क भारत की पहली कंपनी बन गई, जिसे भारत के ड्रग रेगुलेटर Favipiravir (FabiFlu) से प्रतिबंधित आपातकालीन उपयोग की मंजूरी मिली। इस कंपनी द्वारा किया गया अध्ययन भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीजीसीआई) से प्रतिबंधित आपातकालीन उपयोग की मंजूरी मिलने के बाद शुरू किया गया था।

ग्लोबल इंटीग्रेटेड फार्मास्युटिकल कंपनी ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स ने बुधवार को कहा कि पीएमएस अध्ययन पूरा हो गया है। अध्ययन COVID-19 के 1,000 से अधिक रोगियों में आयोजित किया गया था, जिसके परिणामों में फ़ेविपिरवीर के उपयोग के साथ कोई नए सुरक्षा संकेत या चिंताएँ नहीं दिखाई दिखी और पहले से ही ज्ञात दुष्प्रभाव जैसे कि कमजोरी, गैस्ट्राइटिस, दस्त, उल्टी आदि पाए गए। बुखार 4 दिन में सही हो गया था, जबकि ​​इलाज का समय 7 दिन था।

ग्रुप वाइस प्रेसिडेंट और हेड, इंडिया फॉर्म्युलेशन आलोक मलिक ने इन निष्कर्षों पर टिप्पणी करते हुए कहा, "यह अध्ययन महत्वपूर्ण था क्योंकि इसने वास्तविक दुनिया की सेटिंग में फैबीफ्लू की सुरक्षा और प्रभावकारिता की जांच की, जहां कई परिणामों को प्रभावित कर सकते हैं। इन कारकों, पीएमएस अध्ययन ने फैबीफ्लू की रोग के लक्षणों में राहत प्रदान करने और हल्के से मध्यम COVID-19 के रोगियों में हर दिन निरंतर सुधार होता नजर आया। यह ग्लेनमार्क और चिकित्सा समुदाय दोनों के लिए एक कदम आगे है, क्योंकि यह महामारी से निपटने के लिए ओरल एंटीवायरल के कई लाभों को पुष्ट करता है।

पांच दिन बाद फिर बढ़े कोरोना के नए मामले, बीते 24 घंटे में 27 हजार से अधिक संक्रमित, 284 लोगों की मौतपांच दिन बाद फिर बढ़े कोरोना के नए मामले, बीते 24 घंटे में 27 हजार से अधिक संक्रमित, 284 लोगों की मौत

पीएमएस का यह अध्ययन फेविपिरवीर (फैबीफ्लू) के बाजार में लॉन्च होने के बाद की सुरक्षा और प्रभावकारिता का मूल्यांकन करना जारी रखता है। अध्ययन में रोगियों की औसत आयु 40 वर्ष थी, जिसमें महिलाओं की संख्या 40 प्रतिशत थी, जबकि पुरुषों की अध्ययन आबादी में 60 प्रतिशत थी।

इन रोगियों में उच्च रक्तचाप (11%) और मधुमेह (8%) दो सबसे आम सहवर्ती रोग थे। बेसलाइन पर सभी रोगियों में बुखार मौजूद था, इसके बाद खांसी (81%), थकान (46.2%), और स्वाद का नया नुकसान (41%) था।

English summary
Glenmark claimed after the study that Fabiflu drug is effective in the treatment of corona
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X