• search

#earthquake: जानें क्‍यों आता है भूकंप, कब लहराती हुई दिखती है पृथ्‍वी, फट जाती है जमीन, गिर जाते हैं ब्रिज?

By Yogendra Kumar
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    #earthquake: जानें क्‍यों आता है भूकंप, कब लहराती हुई दिखती है पृथ्‍वी, फट जाती है जमीन, गिर जाते हैं ब्रिज?

    नई दिल्‍ली। दिल्‍ली-एनसीआर समेत पूरे उत्‍तर भारत में बुधवार को भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। जानकारी के मुताबिक, भूकंप के झटके करीब सवा चार बजे महसूस किए गए। रिक्‍टर पैमाने की भूकंप की तीव्रता 6.2 आंकी गई है। उत्‍तर भारत के अलावा अफगानिस्‍तान, पाकिस्‍तान और ताजिकिस्‍तान में भी भूकंप आया है। आइए आपको बताते हैं आखिर क्‍यों आता है भूकंप? क्‍या होते हैं इसके पीछे के कारण?

    भूकंप आने के पीछे ये होती है मुख्‍य वजह

    भूकंप आने के पीछे ये होती है मुख्‍य वजह

    धरती के अंदर 7 प्लेट्स ऐसी होती हैं जो लगातार घूम रही हैं। ये प्लेट्स जिन जगहों पर ज्यादा टकराती हैं, उसे फॉल्ट लाइन जोन कहा जाता है। बार-बार टकराने से प्लेट्स के कोने मुड़ते हैं। जब दबाव ज्यादा बनने लगता है कि तो प्लेट्स टूटने लगती हैं। इनके टूटने के कारण अंदर की एनर्जी बाहर आने का रास्ता खोजती है। इसी डिस्टर्बेंस के बाद भूकंप आता है।

    रिक्‍टर स्‍केल पर कितनी तीव्रता का भूकंप लाता है कैसी तबाही

    रिक्‍टर स्‍केल पर कितनी तीव्रता का भूकंप लाता है कैसी तबाही

    • 0 से 1.9 की तीव्रता का भूकंप सिर्फ सीज्मोग्राफ से ही पता चलता है। इतनी तीव्रता का भूकंप आमतौर पर महसूस भी नहीं होता है।
    • 2 से 2.9 तीव्रता के भूकंप को हल्का कंपन माना जाता है। इससे ज्‍यादा नुकसान होता है।
    • 3 से 3.9 तीव्रता वाले भूकंप का असर कुछ ऐसा होता है मानो आपके पास से कोई ट्रक गुजर गया हो।
    जब मैदान में खड़े आदमी को डांवाडोल होती दिखने लगती है पृथ्‍वी

    जब मैदान में खड़े आदमी को डांवाडोल होती दिखने लगती है पृथ्‍वी

    • 4 से 4.9 तीव्रता वाले भूकंप से खिड़कियां टूट सकती हैं। दीवारों पर टंगी तस्‍वीरें नीचे गिर सकती हैं।
    • 5 से 5.9 फर्नीचर हिल सकता है। इसका कंपन ज्‍यादा होता है। हालांकि, इतनी तीव्रता वाले भूकंप में जान-मान के नुकसान की संभावना कम होती है।
    • 6 से 6.9 तीव्रता वाला भूकंप बेहद खतरनाक स्‍तर तक चला जाता है और यह इमारतों की नींव हिला सकता है। इसमें कमजोर इमारतें गिर भी सकती हैं।
    तो सुनामी का सैलाब आता है...

    तो सुनामी का सैलाब आता है...

    • 7 से 7.9 तीव्रता वाला भूकंप मजबूत से मजबूत इमारतों को छहाने की ताकत रखता है। इसके असर से जमीन के अंदर बिछी पाइप तक फट सकती हैं।
    • 8 से 8.9 तीव्रता का भूकंप के भूकंप असर से पूरे के पूरे शहर तबाह हो सकते हैं। इमारतें, पुल टूट सकते हैं सड़कें तक दरक सकती हैं। जमीन भी फट सकती है।
    • 9 और उससे ज्यादा तीव्रता के भूकंप में जीवन का तहस-नहस होना तय है। इतनी तीव्रता वाले भूकंप में अगर कोई मैदान में खड़ा हो तो उसे धरती डांवाडोल होती दिखेगी और अगर भूकंप प्रभावित क्षेत्र समुद्र के नजदीक हो तो सुनामी का सैलाब आता है।

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Earthquake in Srinagar, tremors felt in Delhi NCR pakistan afghanistan, know Why Do Earthquakes Happen

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more