त्रिपुरा में अगले साल चुनाव, भाजपा ने बदला भारत माता का 'स्वरूप'

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। अमूमन तस्वीरों में भारत माता कैसे दिखाया गया है? आम तौर पर, एक साड़ी पहने और राष्ट्रीय ध्वज धारण किए हुए लेकिन मार्च से पहले त्रिपुरा में होने वाले विधानसभा चुनावों के साथ, भाजपा ने राज्य के चार प्रमुख आदिवासी समुदायों के पारंपरिक पोशाक में भारत माता के चित्र आया है। पार्टी उत्तर-पूर्व में सभी जनजातियों के लिए भारत माता की ऐसी जनजाति-विशिष्ट छवियां लाने की योजना बना रही है। त्रिपुरा के भाजपा प्रभारी सुनील देवधर ने कहाकि यह विचार अलगाव की भावना का मुकाबला करने के लिए है क्योंकि ये जनजाति देश के बाकी हिस्सों से महसूस करते हैं। वे भी भारत का एक हिस्सा हैं और भारत माता भी उनकी हैं। प्रत्येक जनजाति की अपनी अनूठी संस्कृति और उनकी अनोखी पोशाक है, और हम उनका सम्मान करना चाहते हैं।

त्रिपुरा में अगले साल चुनाव, भाजपा ने बदला भारत का 'स्वरूप'

पहले चरण में, चार आदिवासी समुदायों - देवबर्म, त्रिपुरी / त्रिपुरा, रियांग और चाकमा, जो एक साथ राज्य की कुल जनजातीय आबादी का 77.8 प्रतिशत हैं, का प्रतिनिधित्व 'भारत माता' की छवियों में किया जाएगा, जो पार्टी कार्यक्रमों में प्रदर्शित किया जाएगा। देवधर ने कहा कि आमतौर पर, हर बीजेपी कार्यक्रम में हमारे पास भारत माता, हमारे संस्थापक पंडित दीनदयाल उपाध्याय और श्यामा प्रसाद मुखर्जी की तस्वीरें होती हैं। हम भारत माता के इन जनजातीय चित्रणों का प्रयोग करेंगे, जिसमें भारत माता एक साड़ी पहने हुए हैं, साथ ही त्रिपुरा में बंगालियों की बड़ी आबादी भी है।

एक भाजपा नेता ने कहा कि त्रिपुरा जनजातीय क्षेत्र स्वायत्त जिला परिषद के तहत जनजातीय क्षेत्रों का गठन राज्य के कुल क्षेत्रफल का लगभग 68% है। कुल आबादी का एक-तिहाई हिस्सा आदिवासियों का है, जिनमें से लगभग 80 प्रतिशत इन क्षेत्रों में हैं, उनका समर्थन मिलने से राज्य में जीत हासिल हो सकती है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Bharat Mata goes tribal 2018 tripura polls , bjp
Please Wait while comments are loading...

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.