• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बेंगलुरु: कोरोना के शक में अस्पतालों के चक्कर काटती रही गर्भवती महिला, बच्ची को दिया जन्म, आईसीयू में भर्ती

|

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के कारण इन दिनों लोगों को अस्पतालों में मरीजों की भीड़ लगी हुई है। कोरोना की वजह से लोग डरे हुए हैं। बेंगलुरु में एक गर्भवती महिला को कोरोना के डर से दो अस्पतालों ने भर्ती करने से इंकार कर दिया। लेबर पेन से जूझ रही महिला को तीन अस्पतालों के चक्कर काटने पड़े, तब जाकर महिला बच्ची को जन्म दे पाई। मैसूर से आई 29 साल की गर्भवती महिला को हल्का बुखार और सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। महिला के घरवाले उसे अस्पताल लेकर आए, लेकिन अस्पताल ने उसे अपने यहां भर्ती करने से मना कर दिया।

 Bengaluru: Turned away by 2 hospitals on Covid-19 fear, woman gives birth in third

शुक्रवार को 36 हफ्ते की गर्भवती महिला मैसूर से बेंगलुरु पहुंची थी। महिला मैसूर की उसी जगह थी, जिसे हॉटस्पॉट की वजह से सील किया गया था। महिला के घर वाले किसी तरह से प्राइवेट कैब से उसे बेंगलुरु के सीआरपीएफ कॉमपोटिज अस्पताल लेकर आइ थे। जैसे ही डॉक्टरों को पता चला कि महिला को बुखार और सांस लेने में तकलीफ हो रही है उन्होंने फौरन ही उन्हें अपोलो अस्पताल रेफर कर दिया गया। वहां पहुंची तो डॉक्टरों ने उसे एमएस रमैया अस्पताल भेज दिया। बड़ी मुश्किल से उसे वहां भर्ती कराया गया। महिला ने वहां बच्ची को जन्म दिया, लेकिन उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।

महिला को आईसीयू में भर्ती कराया गया है। जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। डॉक्टरों का कहना है कि अभी उसे वेटिंलेटर पर रखा गया है। अगर हालत में सुधार आता है तो उसे जल्द ही डनरल वार्ड में शिफ्ट किया जाएगी। वहीं परिजनों का कहना है कि कोई उनकी मदद को आगे नहीं आया। गर्भावस्था में वो एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल के चक्कर काटते रहे। वहीं अपोलो अस्पताल ने सफाई देते हुए कहा कि हमारे यहां कोविड-19 के जांच की और इलाज की सुविधा नहीं है। महिला को बुखार और सांस लेने में तकलीफ हो रही है। हमने उनकी हालत देखने के बाद उन्हें वहां जाने के कहा, जहां कोरोना वायरस के इलाज की सुविधा है। वहीं महिला की स्थिति अस्थिर है।

खुशखबरी: Lockdown में मोदी सरकार दे रही है करोड़पति बनने का मौका, बस करना होगा ये काम

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
A pregnant woman, 29, from Mysuru, who battled breathlessness and was turned away by two hospitals here as they feared she was suffering from Covid-19, finally delivered a baby girl in a third hospital on Saturday morning.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X