• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

मध्य प्रदेश में कांग्रेस के पास अब कितने MLA, मंत्री ने बताई संख्या

|

भोपाल। मध्य प्रदेश में बीजेपी ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को अपने पाले में करके कांग्रेस सरकार की जड़ें हिला दी हैं। एक के बाद एक कई विधायकों के इस्तीफे के बाद भोपाल में कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई है। बैठक के बाद कमलनाथ सरकार में मंत्री ने दावा किया कि, भोपाल में कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) की बैठक में 4 निर्दलीय सहित लगभग 100 विधायकों ने भाग लिया है। वहीं ऐसी खबरें हैं कि, कई मंत्री विधायकों को वापस लाने के लिए बेंगलुरु पहुंचे हुए हैं।

Around 100 MLAs including 4 Independents attended meeting of Congress Legislative Party in Bhopal

सीएम हाउस में कांग्रेस विधायक दल की बैठक खत्म, शोभा ओझा और पीसी शर्मा ने कहा, सभी विधायक कमलनाथ जी के संपर्क में हैं, हमारे पास संख्याबल मौजूद है। बैठक में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि जो 22 विधायक गए हैं उन्हें कहा गया था कि राज्यसभा में संख्याबल के लिए ले जाया जा रहा है, उन्हें धोखा देकर साइन कराया गया है। विधायकों की वापसी की कोशिश के लिए कमलनाथ ने सज्जन सिंह वर्मा और दो अन्य मंत्रियों को बेंगुलुरु के लिए रवाना किया। कांग्रेस का दावा है कि कुछ विधायक संपर्क में आए हैं।

कांग्रेस नेता लक्ष्मण सिंह ने कहा, कांग्रेस लड़ने को तैयार है। हमारे पास 94 विधायक हैं। कोई भी पार्टी का मनोबल नहीं तोड़ सकते। जो भी गए हैं वे दोबारा नहीं जीत पाएंगे। सूत्रों ने बताया कि सिंधिया 12 मार्च को अपने समर्थकों और कांग्रेस के कई विधायकों के साथ बीजेपी का दामन थाम सकते हैं। बीजेपी में शामिल होने से पहले सिंधिया ग्वालियर में अपने समर्थकों को संबोधित कर सकते हैं।

मध्य प्रदेश में चार निर्दलीय विधायकों ने कमलनाथ सरकार को समर्थन दे रखा है। ताजा घटनाक्रम में सरकार गिरने के बाद ये विधायक भी पाला बदल सकते हैं। अगर ये चारों विधायक भी बीजेपी के साथ आ जाते हैं तो नई सरकार के समर्थन में विधायकों का आंकड़ा बढ़कर 111 हो जाएगा। बाद में उपचुनाव में बीजेपी को 22 में छह सीटों पर ही जीत हासिल करने की जरूरत होगी। अगर निर्दलीय बीजेपी के साथ नहीं आते तो पार्टी को उपचुनाव में कम-से-कम 10 सीटें जीतनी होंगी। वहीं, कांग्रेस को अगर फिर से सरकार बनानी है तो उसे उपचुनाव में कम-से-कम 21 सीटें जीतनी होंगी क्योंंकि अब उसके विधायकों की संख्या घटकर 94 रह गई है। अगर बीएसपी-एसपी के तीनों विधायकों का समर्थन कांग्रेस के साथ बरकरार रहा तो पार्टी को 18 सीटें जीतनी होगी। अगर चार निर्दलीय विधायकों ने भी पाला नहीं बदला तो कांग्रेस को सिर्फ 14 सीटें जीतनी होगी।

जानिए, किस डील पर कांग्रेस छोड़ बीजेपी में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया?

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Around 100' MLAs including 4 Independents attended meeting of Congress Legislative Party in Bhopal
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X