• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

सेना छोड़ हिजबुल मुजाहिद्दीन में शामिल हुआ जवान भी शोपियां एनकाउंटर में ढेर

|

श्रीनगर। सेना छोड़कर कुछ दिनों पहले आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन में शामिल हुए जवान को भी सुरक्षाबलों ने शोपियां में मार गिराया है। जम्‍मू कश्‍मीर के शोपियां में हुए एनकाउंटर में दो आतंकी मारे गए हैं और इनमें से एक सेना का पूर्व जवान है, पुलिस की ओर से यह जानकारी दी गई है। सुरक्षाबलों को इस इलाके में आतंकियों के छिपे होने की जानकारी मिली थी और इसके बाद यहां पर कॉर्डन एंड सर्च ऑपरेशन (कासो) लॉन्‍च किया गया था। पुलिस की ओर से बताया गया है कि सर्च ऑपरेशन अभी जारी है क्‍योंकि इस इलाके में सुरक्षाबलों पर लगातार छिपे हुए आतंकियों की ओर से फायरिंग हो रही है।

terrorists-army-jawan.jpg

20 वर्ष का इदरीस अप्रैल में जुड़ा हिजबुल से

जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस के प्रवक्‍ता की ओर से कहा गया है, 'मारे गए दोनों आतंकी हिजबुल मुजाहिद्दीन से जुड़े हुए थे। ये आतंकी सुरक्षा संस्‍थानों और आम नागरिक ठिकानों पर हुए आतंकी हमलों के लिए जिम्‍मेदार थे।' पुलिस की मानें तो इलाके में ऑपरेशन की वजह से ज्‍यादा नुकसान नहीं हुआ है। सेना का जो पूर्व जवान एनकाउंटर में मारा गया है उसका नाम इदरीस सुल्‍तान था और इस वर्ष अप्रैल में वह हिजबुल से जुड़ा था। 20 वर्ष की इदरीस जम्‍मू कश्‍मीर लाइट इंफेट्री रेजीमेंट के साथ तैनात था। इदरीस सुल्‍तान ने अपना नाम बदलकर छोटा अबरार कर लिया था। उसके साथ एक और आतंकी आमिर हुसैन उर्फ अबु सोबान भी एनकाउंटर में ढेर किया गया है।

एनकाउंटर साइट से दूर रहने की अपील

पुलिस ने छोटा अबरार की पहचान इदरीस सुल्‍तान के तौर पर की जो कुछ दिन पहले हिजबुल में शामिल हो गया था। पुलिस की ओर से स्‍थानीय नागरिकों से अपील की गई है कि वे एनकाउंटर वाली साइट पर न आएं क्‍योंकि विस्‍फोटकों की वजह से यहां पर खतरा हो सकता है। पुलिस ने स्‍थानीय नागरिकों से सहयोग करने की अपील की है और कहा है कि जब तक पुलिस पूरी तरह से इलाके की सफाई करके इसे सुरक्षित नहीं बना लेती तब तक यहां पर न आएं। सुरक्षाबलों को मारे गए आतंकियों के पास भारी मात्रा में हथियार और दूसरा खतरनाक सामान मिला है।

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

श्रीनगर की जंग, आंकड़ों की जुबानी
वर्ष
प्रत्याशी का नाम पार्टी स्‍थान वोट वोट दर मार्जिन
2019
Farooq Abdullah OTH विजेता 1,06,750 57% 70,050
Aga Syed Mohsin पीडीपी उपविजेता 36,700 20% 70,050
2017
फारूक अब्दुल्ला JKNC विजेता 48,555 7% 10,776
Nazir Ahmed Khan JKPDP उपविजेता 37,779 0% 0
2014
तारिक हमीद कर्रा जेकेपीडीपी विजेता 1,57,923 51% 42,280
फारूक अब्दुल्ला जेकेएन उपविजेता 1,15,643 38% 0
2009
फारूक अब्दुल्ला जेकेएन विजेता 1,47,035 52% 30,242
इफ्तिखार हुसैन अंसारी जेकेपीडीपी उपविजेता 1,16,793 41% 0
2004
उमर अब्दुल्ला जेकेएन विजेता 98,422 50% 23,159
एडवोकेट गुलाम नबी लोन जेकेपीडीपी उपविजेता 75,263 38% 0
1999
उमर अब्दुल्ला जेकेएन विजेता 55,542 57% 36,859
महबूबा मुफ्ती आईएनडी उपविजेता 18,683 19% 0
1998
उमर अब्दुल्ला जेकेएन विजेता 1,44,609 60% 70,839
आगा सैयद मोहदी कांग्रेस उपविजेता 73,770 30% 0
1996
गुलाम मोहम्मद मीर कांग्रेस विजेता 55,503 19% 1,599
फारूक अहमद अंदराबी जेडी उपविजेता 53,904 18% 0
1989
मोहम्मद शाफी भट जेकेएन विजेता 0 0% -3,67,249
1984
अब्दुल रशीद काबुली जेकेएन विजेता 3,67,249 81% 2,86,277
मुजफ्फर अहमद शाह आईएनडी उपविजेता 80,972 18% 0
1980
फारूक अब्दुल्ला जेकेएन विजेता 0 0% -2,10,072
1977
अकबर जहां बेगम जेकेएन विजेता 2,10,072 68% 1,22,641
मोल्वी इफ्तिखार हुसैन अंसारी आईएनडी उपविजेता 87,431 28% 0
1971
शामिम अहमद शामिम आईएनडी विजेता 1,28,948 62% 57,808
बख्शी गुलाम मोहम्मद कांग्रेस उपविजेता 71,140 34% 0
1967
बी. जी. मोहम्मद जेकेएन विजेता 59,415 47% 9,236
ए. एम. तारिक कांग्रेस उपविजेता 50,179 39% 0

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Army soldier joined terrorist organisation Hizbul Mujahideen also killed in Shopian encounter in Jammu Kashmir.
For Daily Alerts

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more