• search

'जूतों के डॉक्टर'को महिंद्रा ने गिफ्ट की नई दुकान,डिजाइन ऐसा कि देखकर रह जाएंगे दंग,देखें Video

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    नई दिल्ली। आपको याद होगा कुछ दिनों पहले सोशल मीडिया पर 'जूतों के डॉक्टर' वाला पोस्ट काफी वायरल हुआ था। उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने अनोखे बैनर वाले मोची की तस्वीर पोस्ट की थी। उस तस्वीर में सड़क किनारे लगे अपने दुकान में उसने एक बैनर लाया हुआ था, जिसपर लिखा था 'जख्मी जूतों का हस्पताल'। उसने खुद को जूतों का डॉक्टर बताया था, जो जर्मन तरीके से जूतों का इलाज करता है।

     Remember the Haryana ‘shoe doctor? Hes getting this new kiosk, courtesy Anand Mahindra

    बैनर को ठीक वैसे ही तैयार किया गया था जैसे डॉक्टर्स के क्लिनीक और अस्पतालों में होता है। उसके इस अंदाज से आनंद महिंद्रा इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने उसकी फोटो शेयर की। महिंद्रा ने उस जूतों के डॉक्टर का पता लगाया और उसे नई दुकान गिफ्ट की। उनकी टीम ने नरसीराम को शानदार दुकान बनाकर दी है। महिंदा की ओर से गिफ्ट की गई दुकान काफी इनोवेटिव है।

    हालांकि दुकान का नाम अभी भी 'जख्मी जूतों का अस्पताल' ही रखा गया है। इस अनोखे दुकान का वीडियो आनंद महिंद्रा ने शेयर किया है। इस वीडियो को और आनंद महिंद्रा के काम की लोग खूब तारीफ कर रहे हैं। आपको बता दें कि नरसीराम हरियाणा के जींद का रहने वाला है, जो सड़क किनारे खुले आसमान के नीचे बैठकर जूते सिलने का काम करता है। उसने अपने बैनर में खुद को जख्मी जूतों का डॉक्टर बताया, जिसने लोगों को आकर्षित किया। अब महिंद्रा की मदद से उसके पास अपनी दुकान हो गई है।

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Business tycoon Anand Mahindra recently shared a picture of a cobbler sitting in front of a billboard that claimed to be a hospital for ‘wounded shoes’. Impressed, Mahindra and his team even tracked the man down with an offer to help.

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more