• search
हरियाणा न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

कोरोना काल में रोहतक के गांव में 'रहस्मयी बुखार' से हड़कंप, 10 दिनों में 18 लोगों की हुई मौत

|
Google Oneindia News

रोहतक, 11 मई: कोरोना वायरस की दूसरी लहर का असर अब भारत के गांवों में दिखने लगा है। दिल्ली से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर हरियाणा के रोहतक जिले के टिटोली गांव में पिछले 10 दिनों में 18 लोगों की मौत 'रहस्मयी बुखार' से हो गई है। 18 लोगों की मौत में से 6 लोगों की मौत तो कोरोना वायरस से हुई है, इसकी पुष्टी जिला अधिकारियों ने की है। कोरोना काल में इस "मिस्ट्री बुखार" से रोहतक जिले में हड़कंप मच गया है। ग्रामीणों का दावा है कि मौत की संख्या और भी अधिक है। उनके अनुसार, पिछले 2 हफ्तों (लगभग 14 दिन) में लगभग 40 लोगों की मौत 'रहस्मयी बुखार' से हुई है। रोहतक में इस बात को लेकर जिला प्रशासन अलर्ट हो गया है। रोहतक के इस टिटोली गांव में हरियाणा का पहला कोविड-19 केयर सेंटर स्थापित किया गया है।

Rohtak

मरने वालों में 6 की उम्र 35 साल से कम

इंडियन एक्स्प्रेस के मुताबिक गांव की सरपंच प्रमिला की ओर से उनके भाई सुरेश कुमार ने जानकारी देते हुए कहा, ''पिछले हफ्ते, मैंने 32 व्यक्तियों की सूची तैयार की, जिनकी हाल ही में मौत हो गई है। उसके बाद, गांव में बुखार के कारण एक दिन में औसतन दो लोगों की मौत हो रही है। इस बुखार की चपेट में सभी आयु वर्ग के लोग शिकार हो रहे हैं। बुखार से जूझने के बाद मरने वाले लोगों में से 6 की उम्र 35 साल से कम की थी।''

स्वास्थ्य अधिकारी बोले- गांव कोरोना की चपेट में

स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि टिटोली गांव कोविड-19 महामारी की चपेट में है। सोमवार (10 मई) को वायरस का परीक्षण करने वाले 75 में से 15 लोगों को कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। पिछले 10 दिनों में, टिटोली और आस-पास के गांवों से परीक्षण किए गए 746 लोगों में से 159 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए थे।

ये भी पढ़ें- शामली:बालामती के शव को कूड़ा गाड़ी से श्मशान ले गई नगरपालिका, कोरोना से नहीं हुई मौत फिर भी किसी ने नहीं उठायाये भी पढ़ें- शामली:बालामती के शव को कूड़ा गाड़ी से श्मशान ले गई नगरपालिका, कोरोना से नहीं हुई मौत फिर भी किसी ने नहीं उठाया

क्या बोले रोहतक के मुख्य चिकित्सा अधिकारी?

रोहतक के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. अनिल बिड़ला ने कहा, ''पिछले साल की तुलना में इस बार गांवों में कोरोना वायरस अधिक फैल रहा है। ग्रामीणों के बीच सोशल डिस्टेंसिग नहीं हो रहा है, उनमें सामाजिक सहभागिता अधिक है क्योंकि वे एक साथ ताश खेलने के अलावा हुक्का पीने के लिए मिलते हैं। बुखार के असर का पता लगाने के लिए हम जिले के सभी गांवों से सैंपल ले रहे हैं। अब जब भी बुखार आता है, हम एक कोविड कोविड सैंपल टेस्ट करते हैं।''

English summary
Haryana Rohtak village coronavirus mystery fever in last 10 days 18 people passed away
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X