• search
हरियाणा न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

राकेश टिकैत का फिर केंद्र पर हमला, कहा- मोदी सरकार को पार्टी नहीं कंपनी चला रही

|
Google Oneindia News

रोहतक, जुलाई 04: केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली सहित हरियाणा और पंजाब में किसानों के आंदोलन को करीब 7 महीने से ज्यादा का वक्त बीत चुका है। दिल्ली के बॉर्डर इलाकों पर किसान अपनी मांगों को लेकर जमे हुए हैं। किसानों की मांग है कि केंद्र सरकार तीनों कृषि कानूनों को वापस ले और एमएसपी पर कानून बनाए। इस बीच रविवार को हरियाणा के रोहतक में भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने एक बार फिर मोदी सरकार पर हमला बोला है।

Rakesh Tikait
    UP Zila Panchayat President Election: BJP की जीत पर Rakesh Tikait का तंज | वनइंडिया हिंदी

    किसान नेता राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर सरकार किसी पार्टी की होती तो वो जरूर बात करती, मोदी सरकार को कंपनी चला रही है। इसलिए कोई चर्चा नहीं हो रही है। वो सिर्फ एक शर्त रख रहे हैं कि वे कृषि कानूनों को निरस्त नहीं करेंगे, लेकिन चर्चा के लिए तैयार हैं।

    इससे पहले कृषि कानूनों को लेकर आंदोलन कर रहे किसानों से अगले दौर की बातचीत के लिए कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से न्योता दिया था, जिस पर राकेश टिकैत ने कहा था कि पिछले 5 महीनों से केंद्र सरकार के साथ संगठन की कोई भी बात नहीं हुई।

    वाल्मीकि समाज ने राकेश टिकैत का पुतला फूंका, माफी की कर रहे हैं मांगवाल्मीकि समाज ने राकेश टिकैत का पुतला फूंका, माफी की कर रहे हैं मांग

    बता दें कि अपनी मांगों को लेकर किसान दिल्ली की सीमा पर डटे हुए हैं। सात महीने बाद भी किसान आर-पार की लड़ाई के मूड में है। कई बार विवाद और बवाल होने के बाद भी किसान मुस्तैद है। इसके पहले भी राकेश टिकैत ने कहा था कि धर्म और जाति के नाम पर समाज के बीच लड़ाई करवाना ही बीजेपी का राष्ट्रधर्म है।

    English summary
    BKU leader Rakesh Tikait says Centre is not being run by a political party but a company
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X