नोटबंदी के दौरान जमा हुए 1.7 लाख करोड़ रु. पर RBI को शक

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। पिछले साल नोटबंदी के बाद सरकार ने 500 और 1000 के नोटों को अवैधकर दिया और लोगों को इस बैंक में बदलने और जमा करने के लिए 50 दिनों का वक्त दिया। जिसके बाद बैंकों में पुराने नोटों को जमा करने की होड़ लग गई। अब आरबीआई को नोटबंदी के दौरान जमा हुए 1.7 लाख करोड़ रुपयों पर शक है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के रिसर्च पेपर में इस बात को लेकर शक जताया गया है। नोटबंदी के दौरान जमा कराए गए 1.7 लाख करोड़ रुपयों को आरबीआई असमान्य मान रहा है।

 Unusual deposits of Rs 1.7 lakh crore during demonitisation: RBI paper

ऐसा इसलिए क्योंकि आरबीआई के रिकॉर्ड के मुताबिक नोटबंदी की वजह से बैंकिंग सिस्टम में 2.8 से 4.8 लाख करोड़ अतिरिक्त जमा हुए। नोटबंदी के दौरान 1.7 लाख करोड़ ऐसे खातों में जमा कराए गए, जो कम एक्टिव थे। नोटबंदी के पहले उसका इस्तेमाल बहुत कम होता था, लेकिन नोटबंदी के दौरान उन खातों में 1.7 लाख करोड़ रुपए जमा कराए गए।

इस रिसर्च पेपर में जहां असमान्य डिपॉजिट को लेकर शक जताया गया है। वहीं कहा गया है कि नोटबंदी की वजह से बैंकों में कैश डिपॉजिट में भारी इजाफा हुआ है। जिससे फाइनेंशियल सेविंग को मजबूती मिली है। इस रिपोर्ट के मुताबिक नोटबंदी की वजह से घर में कैश जमा कर रखने का चलन कम हुआ है। लोग अब बचत का पैसा घर में रखने के बजाए बैंकों में रख रहे हैं, जो बैंकों के लिए अच्छी खबर है। इससे भारत के कैपिटल मार्केट को फायदा हो रहा है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Unusual’ cash deposits totalling Rs 1.6-1.7 lakh crore were made during the demonetisation period, says a research paper posted on the RBI website.
Please Wait while comments are loading...