अगर आप लगाएंगे मोदी सरकार की इस स्कीम में पैसा, तो आपकी बेटी के पास होंगे 40 लाख रुपए

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। मोदी सरकार ने कई योजनाएं शुरू की हैं। इन्हीं में से एक है सुकन्या समृद्धि योजना। इस स्कीम के तहत एक व्यक्ति अधिकतम 3 लड़कियों के नाम से पैसे जमा कर सकता है। इस स्कीम के तहत निवेश करने पर हर लड़की के लिए 40 लाख रुपए तक का फंड तैयार हो जाता है। इस स्कीम में अन्य किसी भी सेविंग स्कीम से अधिक ब्याज मिलता है। वहीं दूसरी ओर, क्योंकि यह सरकार की योजना है, इसलिए आपका पैसा हमेशा सुरक्षित रहेगा। यह खाता आप बैंक या पोस्ट ऑफिस में खुलवा सकते हैं। इससे टैक्स में भी आपको फायदा मिलेगा। आप 80सी के तहत इसमें निवेश पैसों पर टैक्स में छूट ले सकते हैं।

8.3 फीसदी मिलता है ब्याज

8.3 फीसदी मिलता है ब्याज

इस स्कीम के तहत 8.3 फीसदी की दर से ब्याज मिलता है। ब्याज की गणना हाफ ईयरली कंपाउंडिंग आधार पर होने की वजह से रिटर्न थोड़ा अधिक हो जाता है। यह खाता 10 साल तक की बेटी का खुलवाया जा सकता है। इसमें 14 साल तक निवेश किया जा सकता है। ऐसे में अगर आप अपनी बेटी का खाता 1 साल की उम्र में खुलवाते हैं तो 15 साल की होने तक आपको पैसे जमा करने होंगे। इसके बाद उसके 21 साल का होने तक आप इसमें बिना निवेश किए ही ब्याज कमा सकते हैं।

सालाना 1.5 लाख तक कर सकते हैं जमा

सालाना 1.5 लाख तक कर सकते हैं जमा

इस खाते में सालाना अधिकतम 1.5 लाख रुपए तक जमा किया जा सकता है। यानी इस खाते में आप हर महीने 12,500 रुपए तक जमा कर सकते हैं। अगर आप अपनी बेटी के लिए जमा इन पैसों को 15वें साल में 40 लाख होने पर भी न निकालें तो 21वें साल तक वह पैसे 64.8 लाख रुपए हो जाएंगे।

अकाउंट कब होगा मैच्योर?

अकाउंट कब होगा मैच्योर?

मोदी सरकार की इस स्कीम के साथ एक शर्त भी है। इस अकाउंट को बेटी की उम्र 18 साल होने पर बंद करवाया जा सकता है। हालांकि, अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो 21 साल की उम्र में यह खाता अपने आप मैच्योर हो जाएगा।

ये भी पढ़ें- RBI की गाइडलाइन, आपकी जरा सी गलती बना देगी नोटों को रद्दी, हमेशा ध्‍यान रखें ये बातें

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
invest money in this scheme of modi government, your daughter will get rs. 40 lakh
Please Wait while comments are loading...