• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बड़ी खबर: बैंक ऑफ इंडिया समेत इन 4 सरकारी बैंकों का हो सकता है निजीकरण! जानें क्या है सरकार की तैयारी

|

नई दिल्ली। Bank of India,bank of maharastra, central bank, Indian Overseas Bank. केंद्र सरकार ने बजट के ऐलान के दौरान दो और सरकारी बैंकों के निजीकरण की बात कही थी। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट भाषण के दौरान कहा था कि सरकार दो और सरकारी बैंकों को निजी हाथों में सौंप सकती है। अब खबर आ रही है कि सरकार जल्द ही 4 सरकारी बैंकों का निजीकरण कर सकती है।

Allahabad Bank के खाताधारकों के लिए जरूरी खबर, IFSC कोड से लेकर चेकबुक तक, आज से बदले कई नियम

    Bank of india समेत ये चार सरकारी Bank होंगे Private, जानें क्या है सरकार की तैयारी | वनइंडिया हिंदी
     इन 4 बैंकों का निजकरण कर सकती है सरकार

    इन 4 बैंकों का निजकरण कर सकती है सरकार

    लाइवमिंट की रिपोर्ट के मुताबिक सरकार जल्द ही 4 और बैंकों का निजीकरण कर सकती है। सरकार बैंकों को भारी एनपीए के बोझ से बचाने के लिए उसके निजीकरण कर रह है। बैंकों के निजीकरण के अगले चरण में 4 बैंकों का निजीकरण किया जा सकता है। जिन 4 बैंकों का निजीकरण किया जा सकता है उनमें एक बड़ा बैंक तो 3 मध्य साइज के बैंक हैं। सूत्रों की माने तो सरकार बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, इंडियन ओवरसीज बैंक और सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया को प्राइवेट बैंकों में बदल सकती है।

     आखिर क्यों सरकार बैंकों का निजीकरण कर रही है सरकार

    आखिर क्यों सरकार बैंकों का निजीकरण कर रही है सरकार

    सरकार सरकारी बैंकों पर एनपीए के बोझ को कम करने और उन बैंकों में अपनी हिस्सेदारी बेच कर राजस्व कमाना चाहती है। बैंकों के निजीकरण के द्वारा कमाए राजस्व का इस्तेमाल सरकार सरकारी योजनाओं के लिए करती है। सरकार इन बैंकों में अपनी हिस्सेदारी बेच कर इन्हें निजी हाथों में सौंप देती है। हालांकि निजीकरण का हमेशा से विरोध होता रहा है। बैंकों का निजीकरण का विरोध किया जा रहा है। कर्मचारियों को बैंकों के निजीकरण के कारण अपनी नौकरी को लेकर चिंता सताने लगती है।

     रह जाएंगे सिर्फ 5 सरकारी बैंक

    रह जाएंगे सिर्फ 5 सरकारी बैंक

    अगर सरकार अपनी योजना के मुताबिक इन बैंकों का निजीकरण करती है तो आने वाले समय में सिर्फ 5 सरकारी बैंक ही रह जाएंगे। पिछले तीन सालों में बैंकों के विलय और निजीकरण के कारण सरकारी बैंकों की संख्या 27 से घटकर 12 रह गई है। सरकार इसे अब कम कर 5 करने की तैयारी में है। वर्तमान में भारतीय स्टेट बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, यूको बैंक, पंजाब एंड सिंध बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा पंजाब नेशनल बैंक, केनरा बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया इलाहाबाद बैंक आदि है।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Big News: Bank of India, and these 3 other Government banks shortlisted for privatisation, here is the detail.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X