एक चाय, समोसे पर रेलवे स्टेशन रंगवा लिया!

Posted By: BBC Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi
मधुबनी रेलवे स्टेशन
SEETU TEWARI/BBC
मधुबनी रेलवे स्टेशन

बिहार का मधुबनी स्टेशन बीते 14 अक्तूबर के बाद से बहुत खूबसूरत लग रहा है, लेकिन इसको सुंदर बनाने वाले कलाकारों के दिल में उदासी छाई है. वो खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं.

जैसा कि स्टेशन रंगने वाले कलाकारों में से एक अशोक कुमार भारती कहते हैं, "हम लोग दिन रात मेहनत किए. मेहनताना तो नहीं मिला जबकि तय यह हुआ था कि 100 रुपये रोज के मिलेंगे लेकिन वो नहीं मिले. ये भी कहा गया था कि गिनीज़ बुक़ ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में नाम जाएगा, लेकिन वो भी नहीं हुआ. हम कलाकारों का बहुत शोषण हुआ है."

क्या वाक़ई में महिला हितैषी है नीतीश सरकार?

'घर में टॉयलेट बनवाया, तो ज़हर खा लूंगी'

मधुबनी पेन्टिंग
SEETU TEWARI/BBC
मधुबनी पेन्टिंग

मधुबनी पेन्टिंग से रंगा पूरा स्टेशन

2 अक्तूबर को बिहार के मधुबनी स्टेशन पर 180 स्थानीय कलाकारों ने मिथिला चित्रकला (जिसे आम तौर पर मधुबनी पेन्टिंग कहा जाता है) करनी शुरू की थी. 14 अक्तूबर तक कलाकारों ने दिन रात यहां मेहनत की और मिथिला के लोकजीवन के अलग-अलग रंगों का चित्रण किया.

नतीजा ये कि मिथिला स्टेशन पर 7005 वर्ग फ़ीट की मधुबनी पेन्टिंग बनकर तैयार है. स्टेशन पर लगे एक बोर्ड में कलाकारों के प्रति आभार व्यक्त करते साफ़ तौर पर लिखा है कि कलाकारों के श्रमदान और अथक परिश्रम से ये संभव हो पाया है. लेकिन इस आभार के बावजूद कलाकार नाराज़ हैं.

मोदी जी ने सबको भिखारी बना दिया: मेधा

मधुबनी
SEETU TEWARI/BBC
मधुबनी

'रोजाना 100 रुपये मिलने थे'

कलाकारों से बातचीत में उनकी नाराज़गी की मुख्य तौर पर दो वजहें पता चलती है. बता दें कि स्थानीय संस्था 'क्राफ्ट वाला' ने मिथिला चित्रकला के इन कलाकारों को जुटाया था.

कलाकार मानते हैं कि ये बात तय हुई थी कि बिना किसी पारिश्रमिक पर कलाकार ये काम करेंगे, लेकिन कलाकारों को रोजाना 100 रुपये चाय आदि के ख़र्चे के लिए मिलेंगे.

पहली नाराज़गी की वजह ये है कि ये रुपये भी कुछ कलाकारों को मिले और कुछ को नहीं मिले. दूसरा ये कि कलाकारों को उम्मीद थी कि उनका नाम गिनीज़ बुक़ ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज होगा.

5 साल बाद भी उलझा हुआ है नवरुणा केस

मधुबनी पेन्टिंग
SEETU TEWARI/BBC
मधुबनी पेन्टिंग

गिनीज़ बुक में नाम दर्ज होना था

स्थानीय पत्रकार अभिजीत कुमार बताते हैं, "कलाकारों को ये उम्मीद थी कि उनका नाम गिनीज़ बुक़ ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज होगा जिसके चलते बहुत सारे कलाकार अपने खर्चे पर मधुबनी में रुके और महज़ चाय पानी पर काम किया. लेकिन रेलवे ने वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के लिए ज़रूरी प्रक्रिया को समय रहते शुरू ही नहीं किया. इसलिए रेलवे की लापरवाही से अब तो मधुबनी स्टेशन, यहाँ का समाज और कलाकार...सब ठगे गए."

जहाँ स्थानीय पत्रकारों का कहना है कि अब रेलवे के हाथ में कुछ नहीं रहा, वहीं रेलवे अधिकारियों ने अभी भी उम्मीद का दामन नहीं छोड़ा है. समस्तीपुर रेल मंडल के डीआरएम रविंद्र जैन कहते हैं, "कलाकारों ने स्टेशन को बहुत सुंदर बना दिया है और हम अब इस पेंटिंग को गिनीज़ बुक़ ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में भेजने की तैयारी कर रहे हैं."

वॉर्डन ने लड़कियों के हाथ पर रखे अंगारे

उमा कुमारी झा
SEETU TEWARI/BBC
उमा कुमारी झा

रेलवे से कोई सुविधा भी नहीं मिली

स्टेट अवार्डी उमा झा के नेतृत्व में 12 कलाकारों ने स्टेशन पर रामायण कथा का चित्रण किया है. वो भी बहुत मायूस है. उमा ने बीबीसी में बातचीत में कहा, "इतना काम अगर हम दिल्ली में करते तो हमें लाखों रुपये मिलते लेकिन यहाँ न तो हमारा नाम गिनीज़ बुक़ में दर्ज हुआ और न ही हमें रेलवे से कोई सुविधा मिली जिसकी हमें उम्मीद थी. और अब ये लोग कह रहे हैं कि बाकी और स्टेशन पर भी हमसे काम कराया जायेगा."

कलाकार सीमा निशांत भी कहती है, "इन सब लोगों ने अपना प्रचार प्रसार तो कर दिया लेकिन कलाकारों का क्या. उनको क्या मिला?"

हालाँकि यहाँ भी कुछ कलाकार ऐसे है जो कहते हैं कि उन्होंने अपनी मर्ज़ी से यहाँ काम किया है, ऐसे में शिकायतों का कोई मतलब नहीं है.

तो बीबर के शो में ठगे गए भारतीय दर्शक?

मधुबनी पेन्टिंग
SEETU TEWARI/BBC
मधुबनी पेन्टिंग

2016 में सबसे गंदा स्टेशन था मधुबनी

प्रियांशु और कल्पना झा उन कलाकारों में से है जिन्हें रेलवे से कोई शिकवा नहीं. वो कहते है, "हमें कोई घर से तो उठाकर नहीं लाया था, हम यहाँ अपनी मर्ज़ी से आये थे तो शिकायत क्यों करें? हमें कुछ मिल जाय तो ठीक और कुछ नहीं भी मिले तो कोई गम नहीं."

इस बीच स्थानीय लोग और रेलयात्री स्टेशन पर हुए इस बदलाव से बेहद खुश हैं. मधुबनी स्टेशन की दीवारों पर जगह-जगह बनी इन पेंटिंग की लोग तस्वीरें खींच रहे हैं और अपने स्मार्ट फ़ोन से वीडियो भी बना रहे हैं.

बिस्फी के राम नारायण महतो कहते हैं, "2016 के एक सर्वे में मधुबनी को सबसे गन्दा स्टेशन बताया गया था. अब ये बदलाव अच्छा लग रहा है. छोटी से लेकर बुजुर्ग महिला का इसमें योगदान है. ऐसा अगर सब स्टेशन पर हो जाए तो कितना सुन्दर लगे."

एफ़िल टावर को दो बार बेचने वाला 'नटवरलाल'

अमेरीकियों को ठगने वाला एक कॉल सेंटर

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
claver ideas a tea samosa the railway station was painted
Please Wait while comments are loading...