• search
बिहार न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

बिहार: 'अमरनाथ यात्रा', 6 जुलाई को पास बना, 8 को बादल फटा, मां और पिता के इंतज़ार में बेटा

यात्रा पर गए श्रद्धालुओं ने प्रशासन से मदद की अपील करते जानकारी देने की बात कही है। इन सब मामले में खगड़िया जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष का कहना है अमरनाथ यात्रा पर गए लोगों की कोई जानकारी उनके पास नहीं है।
Google Oneindia News

खगड़िया, 13 जुलाई 2022। अमरनाथ यात्रा पर गए श्रद्धालुओं की ख़बर खैरियत नहीं मिलने से परिजन चिंतित नज़र आ रहे हैं। 8 जुलाई को बादल फटने के बाद से अमरनाथ यात्रा पर गए श्रद्धालुओं के परिजन किसी प्रकार की जानकारी नहीं मिलने से परेशान नज़र आ रहे हैं। उनका कहना है कि बादल फटने से 16 लोगों की मौत हो गई थी, जिसकी वजह से यात्रा भी स्थगित कर दी गई थी। सोमवार से दोबारा से यात्रा शुरू की गई है लेकिन यात्रा पर गए लोगों की कोई जानकारी नहीं मिल पा रही है। बिहार के खगड़िया जिले से भी चार श्रद्धालु लापता हैं उनके परिजनों ने प्रशासन से मदद की गुहार लगाई है।

11 दिन बाद भी नहीं मिल रही जानकारी

11 दिन बाद भी नहीं मिल रही जानकारी

बारुण गांव (बेलदौर प्रखंड) से चार श्रद्धालु अमरनाथ यात्रा पर गए थे लेकिन 11 दिन बीत जाने के बाद भी उनके बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पाई है। यात्रा पर निकले श्रद्धालुओं के परिजनों ने कहा कि अमरनाथ धाम यात्रा पर दो जुलाई को लोग निकले थे। 11 दिन बीत चुका है उन लोगों से कोई संपर्क नहीं हो पा रहा है। हम लोगों को काफि चिंता सता रही है। उन्होंने बताया कि तीर्थ यात्रा पर अमरनाथ के लिए बारुण गांव के चार लोगों में सत्तन सिंह, सकली देवी, नागे सिंह और धामी सिंह निकले थे, उनके बारे में आज तक कोई जानकारी नहीं मिल पाई है।

'2 जुलाई को अमरनाथ धाम यात्रा के लिए निकले थे'

'2 जुलाई को अमरनाथ धाम यात्रा के लिए निकले थे'

मीडिया से मुखातिब होत हुए दंपत्ति के पुत्र दिवाकर सिंह ने कहा कि दो जुलाई को उनकी मां और पिता जी अमरनाथ धाम यात्रा के लिए घर से निकले थे। जम्मू में स्वास्थ्य जांच होने बाद छह जुलाई को पास बना फिर वह लोग अमरनाथ के लिए बस से रवाना हुए। उसने कहा कि इसके अलावी सात जुलाई को मधेपुरा जिले के महुआ गांव से उनके रिश्तेदार नागे सिंह अपने जानने वालों के अमरनाथ के लिए बस से रवाना हुए। वहीं धामी सिंह नाम के व्यक्ति स्वास्थ्य जांच में फ़ेल होने के बाद वापस लौट गए। इन सब प्रक्रण के बीच 8 जुलाई को बादल फटने से सैलाब आ गया। उस दिन से लेकर आज तक अमरनाथ यात्रा पर गए लोगों संपर्क नहीं हो पा रहा है और ना ही कहीं से उनकी जानकारी मिल पा रही है।

Recommended Video

    Jammu Kashmir: Amarnath Yatra फिर से शुरु, बादल फटने से रोकी गई थी यात्रा | वनइंडिया हिंदी *News
    परिजनों ने प्रशासन से लगाई मदद की गुहार

    परिजनों ने प्रशासन से लगाई मदद की गुहार

    यात्रा पर गए श्रद्धालुओं के परिजनों ने प्रशासन से मदद की गुहार लगाई है। इन सब मामले में खगड़िया जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष का कहना है अमरनाथ यात्रा पर गए लोगों की कोई जानकारी उनके पास नहीं है, कहां से और कितने लोग गए इसकी जानकारी उनके पास नहीं है और ना ही यात्रा पर गए श्रद्धालुओं के परिजनों ने इसकी जानकारी दी गई है। हादसा होने के बाद लोगों द्वारा यात्रा पर गए श्रद्धालुओं की जानकारी मिली है। इस आधार पर जिला प्रशासन द्वारा श्रद्धालुओं को खोजने की हर मुमकिन कोशिश की जा रही है। इस बाबत जम्मू कश्मीर प्रशासन से भी जानकारी इकट्ठा की जा रही है। जैसे ही कुछ भी जानकारी मिलेगी यात्री के स्वजनों को खबर कर दिया जाएगा।

    ये भी पढ़ें: बिहार: 'समलैंगिक विवाह’ दो युवकों ने आपस में रचाई शादी, कहा- चाहकर भी हमें कोई नहीं कर सकता अलग

    Comments
    English summary
    amarnath yatra news update, khagaria son is wating for his parents
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X