• search
बैंगलोर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

तुम चुप क्यों हो साईं बाबा...कुछ बोलते क्यों नहीं!

|

sai-baba-mayank
मयंक दीक्ष‍ित- आस्था सिर्फ तब से नहीं है, जब से आस्था चैनल है। हां, यह हो सकता है कि मेरे अपने दिल में किसी विशेष ईश्वर, संत, वैद्य के लिए कोई खास स्थान बन खड़ा हुआ हो। अगर किताबी और बेताबी ढंग से ना देखें तो मन्‍द‍िर, मस्‍ज‍िद, चर्च की इमारतें आस्था और श्रद्धा ही तो हैं। बस इनमें हमारी भावनाओं ने मजबूती की कलई भर दी है और हमारे यकीन ने इन्हें सजा-संवार दिया है। ताजा मामला इतना बासी है कि इसे टटोलना थोड़ा सा जरूरी है।

साईं बाबा, बाबा थे, या संत थे, या ईश्वर थे या हिंदु-मुस्‍ल‍िम तम एकता का प्रतीक थे या वगैरह-वगैरह थे....हम भी इसी बहस में पड़कर देखते हैं। शंकराचार्य की साध्य विचारधारा में ऐसा क्या था जो लोगों, मीडिया व शिरडी वाले के लिए असाध्य हो गया। यह वाकई कोई मामला है या बनाया जा रहा है या बन चुका है या अब बनेगा। आइए आगे बढ़ते हैं।

शंकराचार्य के बयान को ध्यान से सुनने, देखने पर उनकी आधी बात पर निगाह टिक जाती है। वे कह रहे हैं कि साईं बाबा के नाम पर देश में कमाई हो रही है। कमाई होना और कमाई गलत हाथों में जाना, दो अलग बातें हैं। यदि इस तरह के कमाऊ मामले हो रहे हैं, तब इस बात को अहमियत देनी होगी कि संत समाज की नज़र अपने समाज पर रहती है, ऐसे में यह देश के हित में है कि शंकराचार्य या उन जैसा कोई और या उनसे बिल्कुल अलग कोई ऐसे सच सामने लाए।

एक मामले पर नजर डालना यहां जरूरी है। अप्रैल 2013 में आरटीआई कार्यकर्ता संजय काले की ओर से आरोप लगा था कि शिर्डी मन्द‍िर में जो भी आभूषण चढ़ाए जाते हैं, उनके रखरखाव सम्बंधी नियमों पर आंखें मूंद ली गईं। कहा गया कि जो खजाना गुरुवार-रविवार मन्‍द‍िर में मनाए जाने वाले उत्स वों के दौरान नीलाम होना चाहिए था, उसकी नीलामी नहीं की गई व सोने को गला कर रखा गया, जो कि नियमों के सख्त खिलाफ था।

हालांकि इस मामले की भनक राज्य सरकार तक पहुंची। शिरडी से लेकर तिरुपति तक के तीर्थस्थलों में इस तरह की शिकायतें आम हैं। हमारे देश में धर्म का 'ध' भी फूंक-फूंक कर लिखा जाता हे, ऐसे में कोई आम आदमी इस तरह के घपलों की खबरें सामने लाने में कई बार सोचता है। इसी सोच-विचार की आड़ में सिक्के गिने जाते हैं और अंध श्रद्धा की आलीशान कोठियां खड़ी होती रहती हैं।

जिन शंकराचार्य स्वरूपानंद ने साईं पर सवाल उठाया है, वे मोदी के ‘हर-हर मोदी' पर भी बोलने की हिम्म‍त दिखा चुके हैं। अपनी बात कहते हुए भले ही उन्हेांने मीडिया और अटपटे शब्दों की फिराक में रहने वालों के लिए मुद्दा खड़ा किया हो, पर उन्हेांने देश में आस्था के नाम पर हो रही कमाई पर भी आंखें तरेरी हैं। हालांकि अगर आप लोग मेरी कलम को पक्षपात की स्याोही में डूबी हुई ना समझें तो कह सकता हूं कि साईं की ओर भक्‍त और भक्‍त‍ि का झुकाव का कारण सरलता और सहजता है।

वहीं शंकराचार्य जैसी मान्यतताओं को भक्तों के दर्शन तो मिल रहे हैं, पर चर्चित चढ़ौतियां नहीं। कहने में कड़वा लगता है पर शंकराचार्य का महत्व व्यारवहारिक जिंदगी में एकदम उतना और वहीं तक है, जैसे कि आज के दौर में संस्कृच भाषा का। जहां तक बात संपूर्णानंद की है, तो यह वही शख्स हैं, जिनकी राय अयोध्या मसले के वक्त बाकी शंकराचार्यों से अलग थी। राजनैतिक इतिहास व राजनैतिक दलों में इनका इतिहास खोजना जरूरी नहीं समझा। पूरे बयान और मामले में जो एक बात जरूरी है, वह है श्रद्धा के नाम पर हो रही कमाई और किसी व्यक्‍त‍ि-वर्ग विशेष को उससे हो रहा लाभ।

क्या किसी भी धर्म, व्यवसाय या पेशे की जंजीरें तोड़कर हम उस सच्चे इंसान की तरह नहीं सोच सकते कि कोई हमारी मेहनत से कमाई रकम का दुरुपयोग ना करे। अगर मठ-श्रद्धालयों में इस तरह की कमाई को लेकर किसी संत ने चेतावनी दी है, तो हमें सिर्फ उतनी ही बात स्वीकार कर बाकी के कुतर्क निम्न सोच वालों के लिए छोड़ देने चाहिए। जहां तक बात साईं बाबा के ईश्वर होने या ना होने की है, तो इस बात पर तो कब की गांठ बंध चुकी है कि ईश्वर सिर्फ हमारी श्रद्धा और भरोसे का रूप है, जो हमारे अंदर है, समाने है, हममें है, सब में है।

जिन कबीर, तुलसी, ब्यास और रविदास को संत-साधु का लिखित दर्जा मिला है, उन्हें हम अक्सर दसवीं-बारहवीं में जीवन परिचय की शक्ल में पढ़ लिया करते हैं। बेचारे साईं बाबा को तो किसी पाठ्यक्रम ने अनिवार्य भी नहीं किया। उनकी अनिवार्यता आधुनिक पूज्यनीय व सराहनीय देवता के तौर पर हुई, जो गुरुवार को अपने भक्तों के बीच खिचड़ी बांटता है व मानवता और क्रूरता की खिचड़ी नहीं बनने देता। तो जिसे सोने-चांदी के मुकुट चढ़ाओ या बारह रुपए किलो वाले केले, अगर हम साईं मन्‍द‍िर ना भी जाएं, तो भी मनोरंजन चैनलों के प्राइम टाइम सीरियल में हमसे मिलने चला आता है। साईं जो ठहरा...

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Sai Baba is more than to discuss he is God or not
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more