• search
अमरोहा न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

अमरोहा: स्कूल प्रबंधक ने दिव्यांग छात्र को सबके सामने दी तालिबानी सजा

|

Amroha news, अमरोहा। उत्तर प्रदेश के अमरोहा में स्कूल प्रबंधक द्वारा बच्चे को बुरी तरफ पीटे जाने का मामला सामने आया है। छात्र को तालिबानी सजा देते हुए प्रबंधक का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। जानकारी के मुताबिक, इलाके में स्कूल प्रबंधक का दबदबा है, जिस वजह से कोई भी परिजन भी उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।

पहले बरसाए थप्पड़, फिर डंडे से पीटा

पहले बरसाए थप्पड़, फिर डंडे से पीटा

मामला अमरोहा जनपद के डिडौली कोतवाली क्षेत्र के हरियाना गांव का है। यहां के दूल्हे खान इंटर कॉलेज में एक दिव्यांग बच्चे को कॉलेज प्रबंधक दूल्हा खान और कॉलेज के प्रधानचार्य द्वारा बुरी तरह से पीटा गया। घटना का वीडियो सामने आया, जिसमे साफ तौर पर देखा जा सकता है कि किस तरह एक नाबालिग बच्चे पर दो लोग थप्पड़ बरसा रहे हैं और ठंडे से पीट रहे हैं।

क्यों दी तालिबानी सजा

क्यों दी तालिबानी सजा

जानकारी के मुताबिक, बोर्ड परीक्षा से पहले स्कूल स्टाफ द्वारा बच्चों को समझने के लिए एक कार्यक्रम किया गया था। आरोप है कि इस बच्चे ने उस कार्यक्रम की वीडियो में कॉलेज प्रबंधक की आवाज को बदल कर अपशब्द डालकर वीडियो वायरल कर दिया। जब इस बात का पता कॉलेज प्रबंधन को चला तो उन्होंने बच्चे को तालिबानी सजा दे डाली।

स्कूल प्रबंधक ने बच्चे के परिजनों पर लगाया आरोप

स्कूल प्रबंधक ने बच्चे के परिजनों पर लगाया आरोप

जब इस मामले में कॉलेज के प्रबंधक दूल्हा खान से बात की गई तो उन्होंने खुद को बेकसूर बताते हुए मामले से पल्ला झाड़ लिया। दूल्हा खान का कहना है कि बच्चे के परिवारवाले खुद सजा दिलवाने साथ लाए थे। उन्होंने खुद दस रुपए के स्टाम्प पेपर पर लिखकर भी दिया था कि आप जो सजा देंगे हमे मंजूर होगी और हम कुछ कार्यवाही भी नही करेंगे।

घटना के बाद से गांव में नहीं दिखा बच्चा

घटना के बाद से गांव में नहीं दिखा बच्चा

बता दें, इस घटना के बाद बच्चे का परिवार कैमरे के सामने आने को तैयार नहीं है। बताया जा रहा है कि घटना के बाद से बच्चे को गांव में भी नहीं देखा गया है। अभी तक इस मामले में कोई कार्रवाई भी पीड़ित परिवार की और से नहीं कराई गई है, इसका एक कारण इलाके में स्कूल प्रबंधक का दबदबा बताया जाता है।

ये भी पढ़ें: यूपी के गुर्जरों का एलान, 5 दिन के अंदर नहीं मिला आरक्षण तो करेंगे उग्र आंदोलन

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अमरोहा की जंग, आंकड़ों की जुबानी
वर्ष
प्रत्याशी का नाम पार्टी स्‍थान वोट वोट दर मार्जिन
2014
कंवर सिंह तनवर भाजपा विजेता 5,28,880 49% 1,58,214
हुमेरा अख्तर समाजवादी उपविजेता 3,70,666 34% 0
2009
देवेंद्र नागपाल रालोद विजेता 2,83,182 40% 92,083
मेहबूब अली समाजवादी उपविजेता 1,91,099 27% 0
2004
हरीश नागपाल आईएनडी विजेता 2,87,522 32% 17,884
महमूद मदनी रालोद उपविजेता 2,69,638 30% 0
1999
रशीद अलवी बीएसपी विजेता 3,37,919 44% 93,225
चेतन चौहान भाजपा उपविजेता 2,44,694 32% 0
1998
चेतन चौहान भाजपा विजेता 2,95,603 37% 65,515
एली हसन बीएसपी उपविजेता 2,30,088 29% 0
1996
प्रताप सिंह समाजवादी विजेता 2,57,905 39% 47,600
चेतन चौहान भाजपा उपविजेता 2,10,305 32% 0
1991
चेतन चौहान भाजपा विजेता 2,25,805 43% 57,877
हर गोविंद जेडी उपविजेता 1,67,928 32% 0
1989
हर गोविंद जेडी विजेता 2,71,559 50% 1,48,082
खुर्शीद अहमद कांग्रेस उपविजेता 1,23,477 23% 0
1984
राम पाल सिंह कांग्रेस विजेता 1,81,642 40% 17,277
इशरत अली अंसारी आईएनडी उपविजेता 1,64,365 36% 0
1980
चंद्र पाल सिंह जेएनपी(एस) विजेता 1,32,602 37% 42,682
इशरत अली जेएनपी उपविजेता 89,920 25% 0
1977
चंद्रपाल सिंह बीएलडी विजेता 2,09,895 59% 1,36,494
सत्तार अहमद कांग्रेस उपविजेता 73,401 21% 0
1971
इशाक संभाली सीपीआई विजेता 92,580 35% 31,042
चंद्र पाल सिंह आईएनडी उपविजेता 61,538 23% 0
1967
आई. संभाली सीपीआई विजेता 70,306 26% 4,057
आर सिंह BJS उपविजेता 66,249 24% 0
1962
हिफज़ुल रहमान कांग्रेस विजेता 64,022 29% 17,192
हरदेव सहाय जेएस उपविजेता 46,830 21% 0
1957
हिफज़ुल रहमान कांग्रेस विजेता 74,220 39% 22,646
बूटा राम बीजेएस उपविजेता 51,574 27% 0

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
student badly beaten up in school
For Daily Alerts

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more