• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Ashtadal Kamal: अष्टदल कमल से पाएं पैसा, संपत्ति और बड़ी नौकरी

By Pt. Gajendra Sharma
|

नई दिल्ली। अष्टदल कमल को हिंदू धर्म में अत्यंत पवित्र और महत्वपूर्ण माना गया है, क्योंकि यह साक्षात महालक्ष्मी का प्रतीक है। तांत्रिक ग्रंथों के अनुसार अष्टदल कमल में मां लक्ष्मी अपने आठ स्वरूपों में विराजमान रहती है। इसलिए जहां भी अष्टदल कमल होता है वहां सुख, संपन्न्ता, पैसा, वैभव, संपत्ति स्वत: खिंची चली आती है। अष्टदल कमल देवी लक्ष्मी को अत्यंत प्रिय है। विष्णु पुराण में स्वयं मां लक्ष्मी ने कहा है कि इस कमल में मैं स्वयं अपने जीवंत स्वरूप में विद्यमान हूं। महालक्ष्मी से जुड़े जितने भी यंत्र प्राप्त होते हैं उनका मूल आधार अष्टदल कमल ही है। इसकी पूजा करने से श्रीसूक्त और कनकधारा स्तोत्र के लाखों पाठ करने के समान फल मिलता है।

आइए जानते हैं अष्टदल कमल से जुड़े कुछ अनुभूत प्रयोग जिन्हें अपनाकर आप भी अपने जीवन को सुखी, समृद्धिशाली बना सकते हैं...

किस दिशा में रखें अष्टदल कमल

किस दिशा में रखें अष्टदल कमल

अष्टदल कमल कई प्रकार के पदार्थों के बने हुए बाजारों में मिलते हैं। इनमें से आप जिस धातु का चाहे लगा सकते हैं, क्योंकि इसका हर स्वरूप लक्ष्मी को आकर्षित करने वाला होता है। सबसे अच्छा अष्टदल कमल सोना, चांदी, अष्टधातु और स्फटिक का माना गया है। अष्टदल कमल को अपने घर, दुकान या व्यापारिक प्रतिष्ठान में ईशान कोण (उत्तर-पूर्व दिशा) में रखा जाता है। यह देव स्थान होता है इसलिए यहां अष्टदल कमल रखने से इसका पूर्ण शुभ प्रभाव प्राप्त होता है। वैसे तो अष्टदल कमल अपने आप में लक्ष्मी का स्वरूप है, लेकिन इस पर यदि मां लक्ष्मी की प्रतिमा रखकर पूजा करेंगे तो अधिक लाभदायक होता है।

यह पढ़ें: वास्तु के अनुसार पांच प्रकार के होते हैं घर, जानिए उनका अर्थ

अष्टदल कमल लगाने के नियम

अष्टदल कमल लगाने के नियम

  • अष्टदल कमल को आप अपने घर में किसी भी रूप में रख सकते हैं। आप चाहे तो इसे दीवार पर डेकोरेशन के रूप में लगा सकते हैं। किसी देवी-देवताओं के आसन के रूप में उपयोग कर सकते हैं। किसी रचनात्मक डिजाइन के रूप में घर की उत्तर, पूर्वी या उत्तर-पूर्वी दीवार पर दीवार पर लगा सकते है।
  • अष्टदल कमल जहां लगा होता है वहां अत्यधिक मात्रा में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है। यह घर से सारी नकारात्मक ऊर्जा को बाहर निकाल फेंकता है।
  • अष्टदल कमल योग

    अष्टदल कमल योग

    • अष्टदल कमल योग के आठ अंगों को जीवन में उतारने में सहायक होता है इसलिए जो लोग नियमित योगाभ्यास करते हैं उन्हें अपने अभ्यास कक्ष में अष्टदल कमल का बड़ा सा पोस्टर अवश्य लगाना चाहिए और उसी के समक्ष योगासनों का अभ्यास करें। योग कक्ष में अष्टदल कमल के मध्य में ऊं लिखकर उस पर त्राटक करने से एकाग्रता बढ़ती है और तीसरा नेत्र जागृत करने में मदद मिलती है।
    • शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े लोग और विद्यार्थियों को नियमित रूप से अष्टदल कमल पर ध्यान लगाना चाहिए। इससे उनकी बुद्धि तेज होगी। ज्ञान का संचार होगा और वे शिक्षा के साथ जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सफल होंगे।
    • जो लोग धन-संपत्ति, वैभव, भौतिक सुख-सुविधाएं पाना चाहते हैं वे स्फटिक के अष्टदल कमल को एक कांच के पात्र में रखकर ईशान कोण में रखें। इसमें एक गुलाब का फूल डालें। हर रोग पानी और गुलाब का फूल बदलते रहें।

यह पढ़ें: दशम भाव में सूर्य होने से माणिक्य पहनने के फायदे

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Ashtadal Kamal (Eight-petalled lotus) - A symbol of purity, enlightenment, self-regeneration, prosperity and cosmic harmony.Read some Important facts about It.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X