• search

VIDEO: डॉक्‍टरों की इस घटिया हरकत ने किया इंसानियत को शर्मसार, मरीज का पैर काटकर बना दिया तकिया

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    लखनऊ। यूपी के झांसी से एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें एक घायल युवक का पैर काटने के बाद डॉक्टरों ने उसके कटे हुए पैर को ही तकिया बनाकर युवक के सिर के नीचे रख दिया। धरती के भगवान कहलाने वाले कुछ डाक्टरों की इस हरकत ने इंसानियत को शर्मसार कर दिया है। यह नजारा देख वहां मौजूद लोगों की तो रूह कांप गई, लेकिन, पत्थर दिल डाक्टरों का मन नहीं पसीजा। इमरजेंसी में मौजूद लोगों ने इस वीभत्स घटना की जानकारी सीएमएस को दी। मीडिया के संज्ञान में आते ही मेडीकल प्रशासन सकपका गया और आनन-फानन दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने का बयान देता नजर आया।

    VIDEO: डॉक्‍टरों की इस घटिया हरकत ने किया इंसानियत को शर्मसार, मरीज का पैर काटकर बना दिया तकिया

    चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन के निर्देश पर दो डॉक्टर व दो नर्स को निलंबित कर दिया गया है। जबकि डॉक्टर ऑन कॉल को चार्जशीट दी गई है। शासन ने इस मामले में जांच बैठा दी है और मेडिकल कालेज की प्रधानाचार्य से पूरे मामले पर रिपोर्ट तलब की गई है।

    जानिए घटनाक्रम

    घटना के सम्बंध में बताया जाता है कि शनिवार को एक स्कूली बस इटाईल से मऊरानीपुर जा रही थी। बस के सामने अचानक ट्रैक्टर आ गया, जिससे बस चालक का संतुलन बिगड़ गया और बस अनियंत्रित होकर सड़क पर पलट गयी, जिसमें बस का क्लीनर घनश्याम पुत्र देवकी निवासी ग्राम लहचूरा को इलाज के लिये झांसी मेडीकल कॉलेज भर्ती कराया गया। इलाज के दौरान मेडीकल कॉलेज के डॉक्टरों ने क्लीनर घनश्याम के दाये पैर को काटकर अलग कर दिया और कटे हुये पैर का तकिया बनाकर क्लीनर के सिर के नीचे लगा दिया।

    ये भी पढ़ें: SBI खाताधारकों को खुशखबरी, मिनिमम बैलेंस ना रखने पर लगने वाली पेनल्टी में 75 फीसदी की कटौती

    लोगों ने दी सूचना

    डाक्टरों की यह अमानवीय हरकत देख वहां मौजूद लोगों के मुंह से आह निकली और अपनी नाराजगी जताते हुए उन्होंने सीएमएस को फोन करके इसकी सूचना दी। मेडिकल कॉलेज के सीएमएस डॉ. हरीशचंद्र आर्य मौके पर पहुंचे और यह नजारा देख सकते में आ गए। उन्होंने इमरजेंसी में मौजूद डाक्टरों को जमकर फटकार लगाई और मरीज के सिर के नीचे से कटा हुआ पैर हटवाकर तकिया लगवाया।

    उधर प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा रजनीश दुबे ने बताया कि जिस समय ये घटना हुई उस दौरान ड्यूटी पर तैनात इमरजेंसी मेडिकल ऑफिसर डॉ. महेंद्र पाल सिंह, सीनियर रेजीडेंट आर्थोपैडिक डॉ. आलोक अग्रवाल, सिस्टर इंजार्ज दीपा नारंग व नर्स शशि श्रीवास्तव को निलंबित कर दिया गया है। डॉक्टर ऑन कॉल डॉ. प्रवीण सरावगी पर चार्जशीट जारी की गई है।

    ये भी पढ़ें:आखिर क्यों डरते हैं लोग अमिताभ बच्चन के बीमार होने से?

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    A road accident victim’s severed leg was allegedly used as a pillow to prop him up in the emergency ward of a government-run hospital in Jhansi on Saturday, prompting the authorities to order a probe into the incident.

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more