नकली आधार कार्ड बनवाकर 11 साल की बेटी की शादी का ये हुआ अंजाम

Subscribe to Oneindia Hindi

बुलंदशहर। उत्तर प्रदेश में बुलंदशहर इलाके के अनूपशहर में फर्जी आधार कार्ड के जरिए तीसरी क्लास की 11 साल की छात्रा की शादी कराने का मामला सामने आया है। बहरहाल मौके पर पहुंची पुलिस और सामाजिक संगठन के अधिकारियों की टीम ने इस शादी को रुकवाने में कामयाबी हासिल की है। नाबालिग लड़की को बाल कल्याण समिति में रखा गया है और उसके सही उम्र का सत्यापन कराया जा रहा है।

छात्रा ने शिक्षक को बताया

छात्रा ने शिक्षक को बताया

सामाजिक संगठन पीपीईएस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रेणुका ने बताया कि बहादुर छात्रा ने इस बारे में शिक्षक को बताया तो इस बारे में पता चला जिसके बाद छात्रा की मां को स्कूल में बुलाकर समझाने की कोशिश की गई लेकिन वो समझने में नाकाम रही। छात्रा का नकली आधार कार्ड बनवाया गया था जिसमें उसकी उम्र 17 वर्ष 9 महीने है। छात्रा तीसरी क्लास में पढ़ती है और लगभग 11 साल की है।

पुलिस और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने शादी रोक दी

पुलिस और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने शादी रोक दी

इसके बाद अधिकारी रेणुका ने चाइल्ड लाइन अधिकारियों से बात की। चाइल्ड लाइन के कार्यकर्ता ने बताया कि जब परिजनों को समझाने की कोशिश तो अज्ञात लोगों ने जान से मारने की धमकी तक दी। शुक्रवार को छात्रा की शादी थी लेकिन मौके पर पुलिस और चाइल्ड लाइन के अधिकारी पहुंच गए और शादी को रोक दिया।

गरीब मां-बाप की मजबूरी?

गरीब मां-बाप की मजबूरी?

बताया जा रहा है कि दो बेटियों की शादी का खर्चा बचाने के लिए गरीब मां-बाप एक साथ ही दोनों की शादी कर रहे थे। इस बारे न्यायिक मजिस्ट्रेट भूपेंद्र सिंह, बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) ने कहा कि शुक्रवार को शादी हो रही थी, लड़की को बचाया गया। लड़की के उम्र का सत्यापन डॉक्टरों के पैनल के द्वारा किया जाएगा।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Marriage of minor daughter stopped in Bulandshahr.
Please Wait while comments are loading...