• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

काशी के महाश्मशान में चिता की राख से खेली गई होली, देखिए वीडियो

By Rajeevkumar Singh
|

वाराणसी। धर्म, अध्यात्म की नगरी काशी में होली का एक अलग ही महत्व है। मान्यता के अनुसार, रंगभरी एकादशी के दिन भगवान शिव, माता पार्वती के साथ गौना कर काशी आए थे। इसी खुशी में काशीवासी, भगवान शिव के गण व जनमानस और बारातियों को अबीर गुलाल से सराबोर किया गया था। इसी परम्परा की कड़ी में रंगभरी एकादशी को श्री काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर के महंत आवास से गर्भगृह तक रजत प्रतिमा की पालकी निकाली गयी। ढोल नगाड़ों और संगीत के बीच हर-हर महादेव के उद्घोष पर उत्सव मनाया गया।

होली की अनूठी परंपरा

होली की अनूठी परंपरा

वहीं रंग एकादशी के दूसरे दिन काशी में स्थित श्मशान पर भी चिताओं की भस्मी के साथ होली खेलने की भी एक अनूठी परंपरा है जो सारी दुनिया मे सिर्फ काशी में ही देखने को मिलती है। इसके संबंध में एक मान्यता यह है कि जब बाबा विश्वनाथ मां पार्वती का गौना करने के लिए आये थे तो उनके साथ भूत, प्रेत, पिशाच, यक्ष गन्धर्व , किन्नर जीव जंतु आदि नहीं थे, जिनके लिए श्मशान पर चिताओं की भस्मी से होली खेले जाने की परंपरा को बनाया गया जिसका निर्वहन आज तक काशी की धरती पर किया जाता है।

जलती चिताओं के बीच खेली गई होली

जलती चिताओं के बीच खेली गई होली

काशी के मणिकर्णिका घाट पर जलती चिताओं के बीच पदम् विभूषण पंडित छन्नू लाल मिश्र के शास्त्रीय गायन 'खेले मसाने में होली' की धुन पर जहां साधु सन्यासी सहित काशीवासी श्मशान में होली खेलने में मग्न थे। ये काशी का वो घाट है जहां चिता की आग शांत नहीं होती लेकिन साल में एक ऐसा भी दिन आता है जब काशी के लोग यहां आकर इन चिताओं की राख से होली खेलते हैं। रंगभरी एकादशी का दूसरे दिन काशी के ये शिवगण चिताओं की राख के साथ होली खेल रहे हैं।

काशी के इस घाट पर शिव देते है तारक मंत्र

काशी के इस घाट पर शिव देते है तारक मंत्र

रंगभरी एकादशी के दूसरे दिन ये यहां आकर बाबा श्मशान नाथ की आरती कर चिता से राख की होली शुरू करते हैं। ढोल और डमरू के साथ पूरा ये श्मशान हर हर महादेव के उद्घोष से गुंजायमान हो उठा। एकादशी के साथ ही जहां होली की शुरुआत बाबा विश्वनाथ के दरबार से होती है। ये होली कुछ मायने में बेहद खास होती है क्योंकि ये होली केवल चिता भस्म से खेली जाती है। चूंकि भगवान शिव को भस्म अति प्रिय हैं और हमेशा शरीर में भस्म रमाये रहने वाले शिव की नगरी काशी में श्मशान घाट पर चिता भस्म से होली खेली जाती है और मान्यता है कि ये सदियों पुरानी प्रथा काशी में चली आ रही है। ये होली काशी में मसाने की होली के नाम से जानी जाती है और पूरे विश्व में केवल काशी में खेली जाती है। मसान के इस होली में रंग की जगह राख होती है। कहा जाता है कि इस होली के खेलने वाले शिवगण के साथ भगवान शिव होली खेलते हैं और इस राख से तारक मंत्र प्रदान करते हैं।

Read Also: VIDEO: वृंदावन में 2000 विधवाओं की होली, विदेशी भक्त भी पूरी मस्ती में नजर आए

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

lok-sabha-home

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
varanasi, uttar pradesh, holi 2018, वाराणसी, उत्तर प्रदेश, होली 2018
For Daily Alerts

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X

Loksabha Results

PartyLWT
BJP+73281354
CONG+256388
OTH6931100

Arunachal Pradesh

PartyLWT
BJP101626
CONG033
OTH5510

Sikkim

PartyLWT
SKM31013
SDF5510
OTH000

Odisha

PartyLWT
BJD1130113
BJP22022
OTH11011

Andhra Pradesh

PartyLWT
YSRCP51100151
TDP111223
OTH101

LEADING

Akhilesh Yadav - SP
Azamgarh
LEADING
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more