गोरखपुर: ऑक्सीजन की सप्लाई पर इस चिट्ठी ने खोली योगी सरकार के दावों की पोल

Subscribe to Oneindia Hindi

गोरखपुर। एक ओर उत्तर प्रदेश सरकार का दावा है कि गोरखपुर स्थित बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में 33 बच्चों की मौत ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई है, वहीं ऑक्सीजन की सप्लाई से जुड़ी एक चिट्ठी सामने आई है जो सरकार के दावों की पोल खोल रहा है। पत्र में 10 अगस्त की तारीख का जिक्र है और इसे बाल रोग विभाग , नेहरू चिकित्सालय (बीआरडी का बाल विभाग) के विभागाध्यक्ष को लिखा गया है।

'आज रात्रि तक सप्लाई हो पाना संभव है'

'आज रात्रि तक सप्लाई हो पाना संभव है'

समाचार एजेंसी एएनआई की ओर से जारी किए गए पत्र में लिखा है कि आपको सादर अवगत कराना हैकि हमारे द्वारा पूर्व में दिनांक 3-8-17 को लिक्विड ऑक्सीजन के स्टॉक की समाप्ति की जानकारी दी गई थी। आज दिनांक 10-8-17 को लिक्विड ऑक्सीजन की रीडिंग प्रातः 11.20 बजे 900 है जो कि आज रात्रि तक सप्लाई हो पाना संभव है।'

Gorakhpur BRD Medical College में अब तक 6 दिन में 63 मौत । वनइंडिया हिंदी
लेवर रूम तक में थी सप्लाई

लेवर रूम तक में थी सप्लाई

पत्र में लिखा है कि 'नेहरू चिकित्सालय में पुष्पा सेल्स कं0 के द्वारा स्थापित लिक्विड कि सप्लाई पूरे चिकित्सालय में दी जाती है। जैसे कि ट्रामा सेंटर, वार्ड नंबर 10,12,8,2,14, एनेस्थिसियी तथा लेवर रूम तक दिया जाता है।'

पिछला भुगतान ना किए जाने पर...

पिछला भुगतान ना किए जाने पर...

इस पत्र में लिखा गया है कि पुष्पा सेल्स कं0 के अधिकारी से बार-बार बात करने पर पिछला भुगतान ना किए जाने का हवाला देते हुए लिक्विड ऑक्सीन की सप्लाई देने से इनकार किया है। तत्काल ऑक्सीजन की सप्लाई ना होने पर समस्त वार्डों में भर्ती मरीजों की जान का खतरा है।

ये रहा पूरा पत्र

पत्र में लिखा गया है कि 'अतः श्रीमान जी से निवेदन है कि मरीजों के हित को देखते हुए तत्काल ऑक्सीन लिक्विड की आपूर्ति सुनिश्चित करना की कृपा करें।' यह पत्र सेन्ट्रल पाइपलाइन से कृष्ण कुमार, कमलेश तिवारी और बलवंत गुप्ता ने विभागध्यक्ष को लिखा था। इस पत्र की कॉपी बीआरडी के प्रिंसिपल, सीएमओ नेहरू चिकित्सालय, एनेस्थिसिया के विभागाध्यक्ष और नोडल अधिकारी को भेजी गई थी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Gorakhpur:death of childrens in brd college, Dept handling oxygen supply wrote to authorities
Please Wait while comments are loading...