• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

क्या गुल खिलाएगा कांग्रेस का महिलाओं को 40 फीसदी टिकट का दांव, जानिए प्रियंका के सामने क्या हैं चुनौतियां

|
Google Oneindia News

लखनऊ, 23 अक्टूबर: उत्तर प्रदेश के प्रभारी कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी-वाड्रा यूपी चुनाव से पहले कांग्रेस को खड़ा करने में जुटी हुई हैं। कांग्रेस ने आगामी विधानसभा चुनाव में महिला उम्मीदवारों को 40 प्रतिशत सीटें देने का ऐलान किया है। यूपी भारत का सबसे बड़ा, चुनावी रूप से सबसे महत्वपूर्ण राज्य है जहां लोकसभा की 80 सीटें और विधानसभा की 403 सीटें हैं। यह एक ऐसा राज्य भी है जहां कांग्रेस का वजूद सबसे कम है। फिलहाल कांग्रेस के पास सिर्फ एक लोकसभा सीट और सात विधायक हैं। ऐसी स्थिति में प्रियंका का चालीस फीसदी महिलाओं को टिकट देने का दांव क्या गुल खिलाएगा या कांग्रेस को कितनी संजीवनी दे पाएगा यह तो आने वाला समय ही बताएगा लेकिन कांग्रेस के इस मास्टर स्ट्रोक ने चुनावी दलों में एक नई बहस जरूर छेड़ दी है।

जब तक संगठन में नहीं होंगी महिलाएं तब तक कैसे होगा मिशन पूरा

जब तक संगठन में नहीं होंगी महिलाएं तब तक कैसे होगा मिशन पूरा

यह मानते हुए कि कांग्रेस यूपी विधानसभा की सभी 403 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला करती है, उसे चुनाव लड़ने के लिए कम से कम 160 महिला उम्मीदवारों की आवश्यकता होगी। जैसा कि कांग्रेस की एक वरिष्ठ महिला नेता नाम न छापने की शर्त पर कहती हैं, ''यूपी में 115 सदस्यीय कार्यकारी समिति में 20 फीसदी भी महिला नेता शामिल नहीं हैं। पार्टी संगठन में हर स्तर पर 40 प्रतिशत महिलाओं के बिना, पार्टी में 40 प्रतिशत महिलाएं विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवार के रूप में नहीं होंगी। 'प्रियंका गांधी को पहले इस पर मंथन करना चाहिए कि पार्टी में नेताओं को कैसे रखा जाए.'' "नहीं तो ये सारी योजनाएँ व्यर्थ साबित होंगी। महिलाओं को मुश्किल सीट देने के बजाय उन्हें जीतने लायक सीट दी जानी चाहिए।

पिछले चुनाव में कांग्रेस से केवल दो महिलाएं चुनीं गईं थी विधायक

पिछले चुनाव में कांग्रेस से केवल दो महिलाएं चुनीं गईं थी विधायक

2017 के विधानसभा चुनाव में, दो महिलाओं को कांग्रेस से विधायक के रूप में चुना गया था। उनमें से एक रायबरेली की विधायक अदिति सिंह अब पार्टी की बागी हो गई हैं। ऐसी स्थिति में पार्टी के समाने इतनी बड़ी संख्या में महिला उम्मीदवार लाने की चुनौतियां तो हैं ही। यूपी कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष और वर्तमान में बीजेपी सांसद डॉ रीता बहुगुणा जोशी इसे चुनावी हथकंडा बताती हैं। वहं कहती हैं कि, "प्रियंका जानती हैं कि उन्हें विधानसभा चुनाव में पांच सीटें भी नहीं मिलेंगी, इसलिए वह चुनाव में अन्य उम्मीदवारों को हराने के लिए महिलाओं को आगे रखना चाहती हैं। कांग्रेस ने पंजाब, कर्नाटक और अन्य राज्यों में 2019 के लोकसभा चुनाव में महिलाओं को 10-12 प्रतिशत टिकट भी नहीं दिया।''

1947 और 1989 के बीच कांग्रेस का गढ़ रहा यूपी

1947 और 1989 के बीच कांग्रेस का गढ़ रहा यूपी

दरसअल यूपी ने नेहरू-गांधी की तीन पीढ़ियों को प्रधानमंत्री के रूप में लोकसभा में भेजा। जब दिसंबर 1989 में यूपी के आखिरी कांग्रेसी मुख्यमंत्री एनडी तिवारी ने अपना कार्यकाल समाप्त किया, तो प्रियंका गांधी हाई स्कूल की छात्रा थीं। तब से राज्य में पार्टी का पतन ही हुआ है। 2017 के चुनाव में इसकी सात की संख्या यूपी विधानसभा में पार्टी की सबसे कम थी। 2019 के लोकसभा चुनाव में, सोनिया गांधी राज्य की अकेली कांग्रेस सांसद थीं, जिन्होंने रायबरेली को अपना पॉकेट बोरो बरकरार रखा था।

 कांग्रेस को चर्चा में बनाए रखने के लिए लिए जा रहे फैसले

कांग्रेस को चर्चा में बनाए रखने के लिए लिए जा रहे फैसले

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में राजनीति विज्ञान की प्रोफेसर रह चुकीं अर्चना कुमार कहती हैं, ''प्रियंका का पूरा ध्यान उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को राजनीतिक विमर्श के केंद्र में रखने पर है और अगले विधानसभा चुनाव में महिलाओं को 40 फीसदी टिकट देने की बड़ी घोषणा इसी रणनीति का हिस्सा है।'' लोकसभा चुनाव के बाद यूपी की कमान संभालने वाली प्रियंका ने बीजेपी सरकार को निशाना बनाने वाले मुद्दों को दबाने की पुरजोर कोशिश की है। उन्होंने 2017 में उन्नाव बलात्कार मामले और 2020 में हाथरस बलात्कार मामले जैसे महिलाओं के उत्पीड़न के मुद्दों पर ध्यान केंद्रित किया है।

प्रिंयका के इस मास्टर स्ट्रोक पर विपक्ष की भी निगाहें

प्रिंयका के इस मास्टर स्ट्रोक पर विपक्ष की भी निगाहें

प्रियंका की महिला केंद्रित सक्रियता का मुकाबला करने के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार भी महिलाओं से जुड़ी योजनाओं पर ध्यान दे रही है। राज्य सरकार ने जनवरी 2021 में यूपी के प्रत्येक गांव के लिए 59,000 बैंकिंग सखियां नियुक्त कीं। ये ग्रामीण स्तर की महिलाएं हैं जो अन्य महिलाओं को सरकारी योजनाओं के बारे में सूचित करती हैं और उन योजनाओं से संबंधित बैंक के काम में मदद करती हैं। योगी सरकार का यह भी दावा है कि उसने महिलाओं को स्वयं सहायता समूहों से जोड़कर उन्हें आत्मनिर्भर बनाया है. कम से कम, प्रियंका की घोषणा यूपी में प्रतिस्पर्धी महिला-केंद्रित लोकलुभावनवाद की शुरुआत करेगी।

महिलाओं को जाति नहीं योग्यता के आधार पर टिकट देगी कांग्रेस

महिलाओं को जाति नहीं योग्यता के आधार पर टिकट देगी कांग्रेस

हालांकि लखनऊ के मॉल एवेन्यू स्थित पार्टी के नवीकृत राज्य मुख्यालय में आयोजित एक सम्मेलन में गांधी के साथ पार्टी प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेट और कांग्रेस विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा मौजूद थीं। उसके पीछे चार युवतियों के साथ एक गुलाबी पोस्टर था और पार्टी के अभियान का नारा था, "मैं लड़की हूं, मैं लड़ सकती हूं" (मैं एक लड़की हूं, मैं लड़ सकती हूं)"। उन्होंने कहा, 'मैं महिलाओं की भागीदारी को 50 फीसदी करना चाहती थी, लेकिन यह अगले चुनाव में तय किया जा सकता है। हम महिलाओं को जाति के आधार पर नहीं बल्कि योग्यता के आधार पर टिकट देंगे।'

यह भी पढ़ें- अक्टूबर के अंत तक आ सकती है बसपा के उम्मीदवारों की पहली लिस्ट, जानिए देरी के पीछे क्या है वजहयह भी पढ़ें- अक्टूबर के अंत तक आ सकती है बसपा के उम्मीदवारों की पहली लिस्ट, जानिए देरी के पीछे क्या है वजह

Comments
English summary
Congress will give 40 percent ticket to women in UP elections, know what are the challenges in front of Priyanka
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
Desktop Bottom Promotion