• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

आजमगढ़- रामपुर लोकसभा उपचुनाव में होगी BJP-SP-BSP की चुनावी तैयारियों की परख, जानिए

|
Google Oneindia News

लखनऊ, 17 जून: उत्तर प्रदेश के रामपुर और आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव को लेकर सभी दलों ने अपनी ताकत झोंक रखी है। 23 जून को दोनों जगहों पर उपचुनाव होने हैं लेकिन दो साल बाद होने वाले आम चुनाव से पहले ये उपचुनाव एक तरह से लिटमस टेस्ट साबित होगा या यूं कहें कि सभी राजनीतिक दलों की चुनावी तैयारियों की परख भी होगी। इस चुनाव में यह साबित हो जाएगा कि किस दल की चुनावी तैयारी बेहतर है और किसमें कमियां हैं। हालांकि इस उपचुनाव में बीजेपी के पास खोने के लिए बहुत कुछ नहीं है क्योंकि दो सीटें सपा के पास थीं, बाद में दोनों को फिर से जीतने की चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि बसपा आजमगढ़ में मुसलमानों को अपने पक्ष में वापस लाने की पूरी कोशिश कर रही है ताकि आम चुनाव से पहले जनता के बीच एक मैसेज दिया जा सके।

आजम- अखिलेश के इस्तीफे से खाली हुई हैं सीटें

आजम- अखिलेश के इस्तीफे से खाली हुई हैं सीटें

बसपा ने आजम खान द्वारा खाली की गई सीट रामपुर में कोई उम्मीदवार नहीं उतारा है, जबकि आजमगढ़ लोकसभा सीट सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने खाली की थी। सपा ने आजम खान के करीबी शाहनवाज खान को रामपुर से और अखिलेश के चचेरे भाई धर्मेंद्र यादव को आजमगढ़ से मैदान में उतारा है। बीजेपी ने रामपुर से घनश्याम लोधी और आजमगढ़ से भोजपुरी फिल्म स्टार दिनेश यादव निरहुआ को मैदान में उतारा है। दरअसल, निरहुआ 2019 के चुनाव में अखिलेश से हार गए थे।

2024 के लिहाज से अहम होगा यह चुनाव

2024 के लिहाज से अहम होगा यह चुनाव

यूपी की दो सीटों पर हो रहा उपचुनाव लोकसभा चुनाव 2024 के लिहाज से काफी अहम होंगे। सपा के लिए चुनौती इस साल विधानसभा चुनावों की तरह मुस्लिम वोटों को बरकरार रखने की है। रामपुर चुनाव सांप्रदायिक आधार पर अधिक है क्योंकि कुल 17 लाख में से लगभग 10 लाख मुस्लिम मतदाता हैं और बाकी हिंदू हैं, जिनमें लगभग 1.5 लाख जाटव और लगभग 50,000 यादव शामिल हैं। राजनीतिक पंडितों की माने तो भाजपा के पास रामपुर में केवल एक मौका है, हालांकि मुख्तार अब्बास नकवी 1998 में 4,500 मतों के मामूली अंतर से जीतने में सफल रहे और फिर 2014 में नेपाल सिंह जीते। जयाप्रदा ने भी दो बार सीट जीती थी, लेकिन वह भी तब जब उन्हें सपा ने मैदान में उतारा था। 2014 में नेपाल सिंह जीते क्योंकि तीन मुस्लिम उम्मीदवार मैदान में थे जिसके कारण मुस्लिम वोटों का विभाजन हुआ था।

जाटव वोटों पर टिकी है बीजेपी की पूरी गणित

जाटव वोटों पर टिकी है बीजेपी की पूरी गणित

इसी तरह, जयाप्रदा ने 2.30 लाख वोट हासिल किए, जबकि बेगम नूर बानो को 2.05 लाख वोट मिले और मुख्तार अब्बास नकवी केवल 62,000 वोट ही हासिल कर सके। नकवी घनश्याम लोधी से चौथे स्थान पर थे, जिन्होंने बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था और उन्हें लगभग 80,000 वोट मिले थे। लोधी अब भाजपा के टिकट पर उपचुनाव लड़ रहे हैं। बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि अगर जाटव वोट देते हैं तो पार्टी टेबल पलट सकती है क्योंकि बसपा ने कोई उम्मीदवार नहीं उतारा है।

आजमगढ़ में मुस्लिम वोट बैंक ही अहम

आजमगढ़ में मुस्लिम वोट बैंक ही अहम

आजमगढ़ लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में मुस्लिम आबादी लगभग 20% है। ओबीसी में यादव लगभग 15%, जाटव लगभग 15% और गैर-जाटव दलित लगभग 20 से 25% और सामान्य लगभग 28% हैं। बसपा ने मुबारकपुर से अपने पूर्व विधायक गुड्डू जमाली को अपना उम्मीदवार बनाया है। राजनीतिक विशेषज्ञों का मानना ​​है कि इस बात की संभावना काफी कम ही है कि यादव बिरादरी धर्मेंद्र यादव को छोड़कर निरहुआ के साथ खड़े रहेंगे। चुनाव के परिणाम इस प्रकार मुसलमान वोट बैंक पर निर्भर करेगा।

मुस्लिम बंटे तो ही बीजेपी के पास मौका

मुस्लिम बंटे तो ही बीजेपी के पास मौका

राजनीतिक जानकारों की माने तो गुड्डू जमाली मुसलमानों को अपने पक्ष में करने में सफल होते हैं तो निरहुआ को बढ़त मिल सकती है अन्यथा धर्मेंद्र बेहतर स्थिति में रहेंगे। दिलचस्प बात यह है कि लोकसभा चुनाव 2024 के मद्देनजर मुसलमान सपा और बसपा दोनों के लिए महत्वपूर्ण हैं। अगर मुसलमान अपने राज्य विधानसभा चुनाव के मतदान पैटर्न पर कायम रहते हैं, तो सपा राहत की सांस ले सकती है। हालांकि, अगर बसपा उम्मीदवार मुस्लिम वोट को विभाजित करती है, तो यह भाजपा को उम्मीद की किरण दे सकता है।

सपा को मिला था मुस्लिम की एकजुटता का लाभ

सपा को मिला था मुस्लिम की एकजुटता का लाभ

2022 के विधानसभा चुनावों में मुस्लिम समाजवादी पार्टी के पीछे एकजुट हो गए थे जिसके परिणामस्वरूप पार्टी ने 111 सीटों पर जीत हासिल की थी। 2017 के चुनाव में अपनी स्थिति में सपा ने सुधार किया था। चूंकि मुसलमान विभाजित नहीं हुए, इसलिए अपने वफादार जाटव मतदाताओं के समर्थन के बावजूद बसपा केवल एक सीट जीतने में सफल रही।

यह भी पढ़ें-2022 के बहाने 2024 पर निगाहें! वाराणसी से लड़कर मोदी बने थे पीएम, अब अयोध्या से है योगी की वही तैयारी?यह भी पढ़ें-2022 के बहाने 2024 पर निगाहें! वाराणसी से लड़कर मोदी बने थे पीएम, अब अयोध्या से है योगी की वही तैयारी?

Comments
English summary
Azamgarh- Rampur Lok Sabha by-election: BJP has nothing to lose
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X