पुलिस ने किया सराहनीय काम, बूढ़ी मां 1 किलो देसी घी देने गई थाने

Subscribe to Oneindia Hindi

मथुरा। उत्तर प्रदेश में मथुरा के कोसी थाने की पुलिस इन दिनों सुर्खियों में है और इसकी वजह है नजराने में मिला घी। ये घी एक माँ ने कोसी थाना पुलिस द्वारा बेटों को शराब पीने की लत से निजात दिलाने के कारण दिया। कोसी पुलिस ने अभियान चलाकर पूरे गाँव को शराबमुक्त कराया है।

Read Also: VIDEO: यूपी के दो युवाओं ने भरी ऊंची उड़ान, हुनर का स्टार्टअप

इंस्पेक्टर के प्रयासों से गांव हुआ शराबमुक्त

इंस्पेक्टर के प्रयासों से गांव हुआ शराबमुक्त

आज हम आपको उत्तर प्रदेश पुलिस का वो चेहरा दिखाने जा रहे है जिसकी वजह से वह आम जनता की वाहवाही लूट रही है। मथुरा के कोसी थाने में तैनात एक इंस्पेक्टर ने उत्तर प्रदेश पुलिस के बदनाम चेहरे को साफ करने की कोशिश की है। इस इंस्पेक्टर ने पूरे गांव को शराबमुक्त कर पुलिस का अच्छा चेहरा उत्तर प्रदेश की जनता के सामने रखा है।

इंस्पेक्टर उदयवीर मलिक ने इसकी शुरुआत प्रदेश के कैबिनेट मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण के गांव से की है। मंत्री के गांव की बुजुर्ग महिला गंगा देवी एक दिन अपने तीन शराबी बेटों की शिकायत लेकर थानाध्यक्ष उदय वीर मलिक के पास पहुँची। शिकायत थी कि गंगा देवी के तीनों बेटे शराब पीकर उसे मार-पीट करके आधी रात को घर से निकाल देते हैं। इस शिकायत के बाद जब उदय वीर मालिक ने घटना की छानबीन शुरू की तो पता चला कि यहाँ के अधिकांश घरों में लोग शराब के नशे के आदी हैं और घर में रहने वाली महिलाओं के साथ मारपीट करते हैं।

पंचायत की मदद से पुलिस ने किया बड़ा काम

पंचायत की मदद से पुलिस ने किया बड़ा काम

थानाध्यक्ष ने गांव सांचौली में जाकर एक मदिर में ग्रामीणों को बुलाया और सभी के साथ शराब पीने के बाद घरेलू हिंसा पर चर्चा की और उन्हीं से इस मारपीट का फैसला करने को कहा। अब वहां सभी ग्रामीण दुविधा में थे कि आखिर खुद के द्वारा की गयी मार पीट पर क्या फैसला लें। थाना कोसी कलां इलाके के कई गांव राजस्थान और हरियाणा से लगे हुए हैं, इस वजह से इस इलाके में शराब की तस्करी का बड़ा खेल चलता है और यही वजह है कि यहाँ शराब पीने वालों की संख्या बहुत अधिक है। शराब की तस्करी पर लगाम लगाने के उद्देश्य से थाना प्रभारी ने ये बैठक मंदिर में रखी क्योंकि सांचोली के ग्रामीण इस मंदिर को बहुत मानते है और इस मंदिर पर कभी झूठ नहीं बोलते। यही वजह थी कि थाना प्रभारी ने मंदिर में लोगों को शराब की बुराई के बारे में समझाते हुए सभी से शराबबंदी की राय रखी , जिसे सभी ने एक राय होकर मंजूरी दे दी। इतना ही नहीं सभी ग्रामीणों में शराब न पीने के साथ-साथ यहाँ अवैध शराब की तस्करी न करने की कसम देवी के पवित्र मंदिर में खाई। इस पंचायत का असर भी अब देखने को मिला और धीरे-धीरे पूरा गांव शराबमुक्त हो गया।

बूढ़ी मां दे रही है पुलिस को दुआ

बूढ़ी मां दे रही है पुलिस को दुआ

गाँव के शराबमुक्त होने के बाद गंगा देवी एक किलो देसी घी लेकर कोसी थाने पहुँची और इंस्पेक्टर उदयवीर मलिक को गिफ्ट में दिया। गँगा देवी का कहना है कि पंचायत के बाद तीनों बेटों ने शराब छोड़ दी। ये बूढी माँ उस पुलिस कर्मी को दुआए देती नहीं थक रही।

Read Also: PICs: चाचा की पिटाई और लड़की के प्यार ने बना दिया चिंचू को टॉपर

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
An old mother went police station to gift one kg ghee in Mathura.
Please Wait while comments are loading...