• search

अमित शाह के कदमों पर बैठे दिनेश सिंह की फोटो वायरल, कांग्रेस बोली यही उनकी सही जगह

By असगर नकी
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    अमेठी। कांग्रेस से बगावत कर भगवाधारी हुए एमएलसी दिनेश सिंह की एक फोटो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। फोटो में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनके घर पर विराजमान दिख रहे हैं और दिनेश सिंह अमित शाह के पैरों के नजदीक जमीन पर बैठे दिख रहे हैं। इस दौरान अमित शाह के पैर जिस दिशा में हैं उसको लेकर लोग सोशल मीडिया पर जमकर चुटकी ले रहे हैं।

    अमेठी कांग्रेस के Twitter अकाउंट पर लिखा गया ये

    अमेठी कांग्रेस के Twitter अकाउंट पर लिखा गया ये

    अमेठी कांग्रेस की ओर से सोशल मीडिया की ट्विटर साइट पर उक्त फोटो को चस्पा कर लिखा गया है कि कांग्रेस पार्टी में जो इज़्ज़त और सम्मान कार्यकर्ताओं और नेताओं की होती है वो शायद किसी पार्टी में नहीं होती। इसके अलावा लिखा गया कि बीजेपी में शामिल होने के बाद एमएलसी दिनेश सिंह जी शायद यही सोंच रहे हैं। आपको बता दें कि हाल ही में 21 अप्रैल को रायबरेली में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के समक्ष एमएलसी दिनेश सिंह व उनके भाइयों ने कांग्रेस को अलविदा कह बीजेपी का दामन थामा था। वहीं अमेठी के कांग्रेस नेता एवं एमएलसी दीपक सिंह ने कहा है कि सपा, बसपा से हार कांग्रेस की वजह से सदन पहुंचे एमएलसी दिनेश सिंह की चारों धामों की यात्रा पूर्ण हो गई है। सपा, बसपा, कांग्रेस, भाजपा खैर कांग्रेस छोड़ना तय था लेकिन पहले जिस पार्टी के दम पर जीते हैं पहले उससे इस्तीफा देते फिर किसी पार्टी में शामिल होना चाहिए था। उन्होंने कहा कि दिनेश सिंह स्वार्थी हैं और ऐसे व्यक्तियों की जगह यही है जहां वह वो बैठे दिख रहे हैं।

    प्रियंका गांधी पर लगाए थे ये आरोप

    प्रियंका गांधी पर लगाए थे ये आरोप

    बीजेपी ज्वाइन कर दिनेश सिंह ने कांग्रेस पर गम्भीर आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा था कि प्रियंका गांधी ने हमारे भाई राकेश सिंह को टिकट देने के बदले में एक शर्त रखी थी, कि जब मैं एमएलसी पद से इस्तीफा दूंगा तभी मेरे भाई को हरचंदपुर विधानसभा का टिकट दिया जाएगा। इसके लिये मैंने इस्तीफा लिखकर दिया था। साथ ही उस शपथ पत्र की बाकायदा वीडियोग्राफी कराई गयी थी, तब जाकर मेरे भाई को टिकट मिला था। सनद रहे कि दिनेश सिंह पहली बार 2010 में और दुबारा 2016 में कांग्रेस से एमएलसी बनाए गए हैं। उन्होंने कांग्रेस पर आरोप लगाया था कि अभी तक जिले के किसी भी कांग्रेसी ने भारतरत्न प्राप्त राजीव गांधी जी की मूर्ति नहीं लगवाई थी, लेकिन उन्होंने अपने जिला पचांयत परिसर में उनकी मूर्ति लगवाई। काफी दिनों से इंदिरा गांधी जी की मूर्ति पर भी किसी भी कांग्रेसी का ध्यान नही गया था, जिसे दिनेश सिहं ने सही कराकर ठीक स्थान पर रखवाई थी। इसके बाद भी उन्हें कांग्रेस में मान सम्मान नहीं मिला।

    सोनिया गांधी के खिलाफ लडूंगा लोकसभा चुनाव

    सोनिया गांधी के खिलाफ लडूंगा लोकसभा चुनाव

    ग़ौरतलब हो कि एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह ने कहा था कि रायबरेली में जो भी पार्टी विकास कराएगी जनता उसी को अपना सांसद चुनेगी। मैं भाजपा में शामिल होने के बाद इस जिले का विकास करा पाया और भाजपा पार्टी ने मुझे लोकसभा चुनाव का टिकट दिया तो मैं सोनिया गांधी के विरुद्ध चुनाव जरुर लडूंगा और अगर पार्टी किसी और को यहां से टिकट देती है तो उसकी तन, मन, धन से मदद करूंगा। अब इस जिले की सीट आराम से किसी को नहीं लेने दूंगा, कम्पटीशन होगा तभी किसी को जीतने का मौका मिलेगा।

    ये भी पढ़ें- मर्डर केस की जांच से बचने सत्ता शासक की गोद में जा रहे हैं दिनेश सिंह- कांग्रेस

    ये भी पढे़ं- पूर्व विधायक ने दिनेश सिंह की रैली को बताया फ्लॉप, बोले- 20 गुना ज्यादा भीड़ जुटा सकता हूं

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    amethi congress tweeted a photo of MLC Dinesh singh sitting just near to amit shah feet

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more