• search
मध्य प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

Sagar: केदारनाथ की वादियों में होने वाला दुर्लभ ब्रह्मकमल, सागर में गमलों में खिल रहा

Google Oneindia News

सागर, 14 अगस्त। मप्र के सागर जिले में देवताओं का प्रिय पुष्प कहलाने वाला ब्रह्मकमल खिल रहा है। सामान्यतः एक पौधे में एक बार में दो से चार तक फूल खिलते हैं, लेकिन बीती रात एक परिवार के यहां आश्चर्यजनक रुप से गमले में लगे पौधे में एक साथ 8 ब्रह्मकमल खिले हैं। यह पुष्प काफी दुर्लभ माना जाता है। प्राकृतिक रुप से यह पौधा उत्तराखंड में केदारनाथ की बर्फीली वादियों में पाया जाता है।

Recommended Video

    केदारनाथ की वादियों में होने वाले ब्रह्मकमल सागर में खिले
    सागर में खिला देवताओं का प्रिय और दुर्लभ पुष्प ब्रह्मकमल

    सागर के बालाजी रेसिडेंसी में रहने वाले डाॅ. अजय विश्वकर्मा बीते छह साल पहले ब्रह्मकमल का पौधा लाए थे। उन्होंने इसके बडे़ से गमले में लगाकर इसकी देखरेख शुरू कर दी थी। एक साल बाद ही इस पौधे में ब्रह्मकमल के दुर्लभ पुष्प आना प्रारंभ हो गए थे। बीती रात गमले में एक साथ 8 ब्रह्मकमल के पुष्प खिले थे। दो पुष्प आज खिलेंगे। डाॅ. अजय विश्वकर्मा के अनुसार यह पौधा चूंकी ठंडे प्रदेशों में पाया जाता है और काफी कम जगह ही पाया जाता है। इसको काफी देखरेख की आवश्यकता होती है। हल्की धूप और हल्की बारिश में इसको रखते हैं। गर्मी में इसे कमरे में अंदररखकर पंखे और एसी की हवा तक देते हैं ताकि तेज तापमान में यह झुलसे नहीं।

    सागर में खिला देवताओं का प्रिय और दुर्लभ पुष्प ब्रह्मकमल

    ब्रह्मकमल के एक से दो पौधे बना लिए हैं
    डाॅ. अजय विश्वकर्मा ने ब्रह्मकमल के एक से दो पौधे बना लिए हैं। दूसरा पौधा करीब एक साल को हो गया है। इसमें आगामी दिनों ब्रह्मकमल के पुष्प खिलने वाले हैं। डाॅ. अजय और उनकी पत्नी इन पौधों की बच्चों की तरह देखभाल करती रही हैं। इनको समय समय पर खाद-पानी दिया जाता है। आम पौधों और बुंदेलखंड की मूल प्रजाति के पौधों की अपेक्षा इनको देखभाल की अधिक आवश्यकता होती है।

    दुर्लभ ब्रह्मकमल

    भीनी खुशबु से आसपास का वातावरण महकता है
    ब्रह्मकमल के पुष्पों से भीनी भीनी खुशबु उठती है जो आसपस के पूरे वातावरण को महकाती है। डाॅ. अजय के यहां भी ब्रह्मकमल की मन को प्रफुल्लित करने वाली खुशबु से उनका घर व आसपास का इलाका महकता रहता है। सबसे अहम बात यह पुष्प केवल एक रात ही खिलते हैं, सुबह होते ही ये बंद होना और मुरझाना प्रांरभ हो जाते हैं।

    Comments
    English summary
    In Sagar district, Brahma Kamal, which is called the beloved flower of the gods, is blooming. Generally, two to four flowers bloom in a plant at a time, but last night a family has surprisingly 8 Brahma Kamal bloomed together in a potted plant. This flower is considered quite rare. Naturally this plant is found in the snowy plains of Kedarnath in Uttarakhand.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X