• search
लखनऊ न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

राजस्थान के कोटा में फंसे UP के छात्रों को लेने पहुंचीं 200 बसें, आज आएंगे वापस

|

लखनऊ। राजस्थान के कोटा जिले में फंसे उत्तर प्रदेश के छात्रों को वापस लाने के लिए प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने करीब 200 बसों को भेज दिया है। बसों में छात्रों के लिए मास्क और सैनेटाइजर भी भेजे गए है। उत्तर प्रदेश रोडवेज की सभी बसें जब कोटा की सरजमीं पर पहुंचीं तो यहां लॉकडाउन में फंसे छात्रों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। हालांकि लॉकडाउन के प्रथम फेज से लेकर अब तक स्टूडेंट की हर डिमांड राजस्थान सरकार का कोटा प्रशासन पूरी करता रहा था।

कोरोना वैक्सीन: ऑक्सफोर्ड ही नहीं, ये 6 वैक्सीन भी पहुंच चुकी हैं थर्ड फेज के ट्रायल में

200 buses of Uttar Pradesh government reached Kota will return with state student

छात्रों ने ट्विटर पर चलाया था अभियान

बता दें कि 25 मार्च से शुरू हुए लॉकडाउन की वजह से कोटा में यूपी, बिहार समेत कई प्रदेशों के हजारों बच्चे फंसे हैं। इन बच्चों ने ट्विटर पर #SendUsBackHome अभियान की शुरुआत की थी। छात्रों की समस्या को देखते हुए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला पिछले 2 दिनों से केंद्र की एजेंसियों से बात करने की कोशिश कर रहे थे, मगर उन्हें भी निराशा हाथ लग रही थी। अब केंद्रीय एजेंसियों के कहने पर कोटा से बच्चों को निकालने की प्रक्रिया शुरू हुई है।

शाम 5 बजे 200 बसें पहुंचीं कोटा

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा लॉकडाउन मैं अपने घर की राह ताक रहे स्टूडेंट्स को उनके घर भेजने के लिए पहल शुरू की। जिसे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वीकार किया और आज करीब 200 की तादाद में बसें राजस्थान के कोटा शहर भेजीं। शुक्रवार शाम करीब 5 बजे उत्तर प्रदेश के झांसी और आगरा से बसें स्टूडेंट्स को लेने पूरी तैयारी के साथ कोटा पहुंचीं। सभी बसों को उत्तर प्रदेश से सैनेटाइज करके राजस्थान के कोटा शहर भेजा गया था।

बच्चों की स्क्रीनिंग कर बस में चढ़ाया गया

इधर उत्तर प्रदेश से बसे आने के बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री के निर्देश के मुताबिक कोटा जिला प्रशासन का तमाम अमला और पुलिस प्रशासन स्टूडेंट्स को सकुशल भेजने के लिए जुट गया। कोचिंग संस्थानों के द्वारा जिला प्रशासन को स्टूडेंट्स की सूचियां उत्तर प्रदेश के जिलेवार सौंपी गईं। इस सूची के मुताबिक स्टूडेंट्स को भोजन उपलब्ध करवाते हुए, एक एक बच्चे की स्क्रीनिंग की गई। उन्हें सैनेटाइज करके उत्तर प्रदेश रोडवेज की बसों में सवार करवाया गया। कोटा कलेक्टर ओम कसेरा के निर्देशन में इस काम को अंजाम दिया गया। जब बच्चे बसों में सवार हो रहे थे तो उनके चेहरों पर अपने घर जाने की खुशी साफ झलक रही थी। यह तमाम बसें शुक्रवार रात को कोटा से उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों के लिए रवाना हुईं।

हर बस में 30 छात्र, गर्ल्स स्टूडेंट के लिए अलग बसें

प्रत्येक बस में 30 की संख्या में स्टूडेंट्स को सवार करवाया गया। गर्ल्स स्टूडेंट्स के लिए अलग से बसों का बंदोबस्त किया गया था। बसों में सवार हुए कई स्टूडेंट्स के साथ उनके अभिभावक भी कोटा से रवाना हुए हैं। इधर सूत्रों के मुताबिक आज रात को राजस्थान सरकार की ओर से जयपुर से राजस्थान रोडवेज की बसें कोटा भेजी जाएंगी, जहां से बाकी उत्तर प्रदेश के स्टूडेंट्स को सवार करके सुबह तक उनके घरों की ओर रवाना किया जाएगा।

यूपी की सीमा पर भी होगी बच्चों की जांच

इधर उत्तर प्रदेश की बसों में सवार होकर अपने घर की ओर निकले स्टूडेंट्स जब अपने जिलों में अपने घर पर पहुंचेंगे तो अपने प्रदेश की सीमा पर उनकी स्वास्थ्य जांच होगी। इसके बाद उनके संबंधित जिलों में स्थानीय चिकित्सा विभाग उनकी स्वास्थ्य जांच करेगा और घरों तक स्टूडेंट्स को सुरक्षित पहुंचाएगा।

यूपी के करीब 5800 छात्र राजस्थान के कोटा में फंसे, वापस लाने के लिए भेजी बसें

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
200 buses of Uttar Pradesh government reached Kota will return with state student
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X