• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

भारत के भड़कने के बाद पाकिस्तान ने दी सफाई कहा लखवी जेल से बाहर नहीं आयेगा

|

इस्लामाबाद| इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने सोमवार को मुंबई में 26 नवंबर, 2008 को हुए आतंकवादी हमले की साजिश रचने के मुख्य आरोपी जकीउर रहमान लखवी को सशर्त रिहा करने के आदेश जारी किए हैं। जिसके बाद भारत का भड़कना स्वाभाविक ही था इसलिए उसने सोमवार शाम को ही पाक उच्चायुक्त को तलब किया जिसके बाद पाकिस्तान ने देर रात अपना बयान मीडिया में जारी करके इस मसले को संभालने की कोशिश की है।

Pakistan court grants bail to 26/11 mastermind Lakhvi; India angry

पाकिस्तान ने भारत को भरोसा दिलाया है कि किसी भी सूरत में जकीउर रहमान लखवी को जेल से बाहर नहीं आने देगा क्योंकि जैसे ही वो बेल पर रिहा होगा उसे दूसरे मामलों में हिरासत में ले लिया जायेगा। पाकिस्तान खुद आतंकविरोधी गतिविधियों के लिए सजग है।

पाकिस्तान ने दी सफाई कहा लखवी जेल से बाहर नहीं आयेगा

गौरतलब है कि सोमवार को इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने लखवी को 10 लाख रुपये का निजी मुचलका भरने को कहा गया है। न्यायालय ने उसे हिरासत में रखने के सरकार के आदेश को सोमवार को निलंबित कर दिया।

पाकिस्तान खुद आतंकविरोधी गतिविधियों के लिए सजग है

लखवी को पाकिस्तान की आतंकवाद निरोधक अदालत के न्यायाधीश सैय्यद कौसर अब्बास जैदी ने 18 दिसम्बर को जमानत दी थी। लेकिन उसे 19 दिसम्बर को एक बार फिर व्यवस्था बनाए रखने से संबंधित धारा के तहत गिरफ्तार कर लिया गया था। लखवी ने उसे फिर से हिरासत में लेने के सरकार के फैसले को 26 दिसंबर को चुनौती दी थी।

<blockquote class="twitter-tweet blockquote" lang="en"><p><a href="https://twitter.com/hashtag/Lakvi?src=hash">#Lakvi</a>, the GoodTerrorist, freed by <a href="https://twitter.com/hashtag/Pakistan?src=hash">#Pakistan</a>. Not trending <a href="https://twitter.com/hashtag/IllRideWithYou?src=hash">#IllRideWithYou</a> in <a href="https://twitter.com/hashtag/India?src=hash">#India</a>?</p>— VijayThakkar (@vikingthakkar) <a href="https://twitter.com/vikingthakkar/status/549525462863450112">December 29, 2014</a></blockquote> <script async src="//platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

इस्लामाबाद उच्च न्यायालय में लखवी की ओर से अधिवक्ता रिजवान अब्बासी ने पैरवी की और कहा कि अदालत ने उनके मुव्वकिल की याचिका स्वीकार कर ली थी, लेकिन प्रशासन ने उन्हें हिरासत में रखा है, जो कि गैरकानूनी है। उन्होंने कहा कि जमानत मौलिक अधिकार का मामला है। वकील की दलील के बाद न्यायालय ने हिरासत के आदेश को निलंबित कर दिया।

<blockquote class="twitter-tweet blockquote" lang="en"><p><a href="https://twitter.com/writers1234">@writers1234</a> <a href="https://twitter.com/timesofindia">@timesofindia</a> Releasing <a href="https://twitter.com/hashtag/Lakvi?src=hash">#Lakvi</a> is going to hurt Pak.India hav Plan B to get after dawood,Lakhvi & Hafiz saeed. 6months more:)</p>— Tyrion (@TyrionSinister) <a href="https://twitter.com/TyrionSinister/status/549470323876564992">December 29, 2014</a></blockquote> <script async src="//platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

गौरतलब है कि लखवी उन सात आतंकवादियों में से एक है जिनपर मुंबई हमले की साजिश रचने और इसमें मदद करने का आरोप है। उसे मुंबई हमले के एकमात्र जिंदा पकड़े गए आतंकवादी अजमल कसाब के बयान पर फरवरी 2009 में पाकिस्तान की संघीय जांच एजेंसी ने गिरफ्तार किया था। उसके साथ ही इस मामले में छह अन्य लोगों को भी अरोपी बनाया गया था।

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The Islamabad High Court (IHC) Monday ordered the conditional release of Zakiur Rehman Lakhvi - the alleged mastermind of the 2008 Mumbai attack - asking him to submit a security bond of Pakistani Rs.1 million (around $9,000), media reported.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more