• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

म्यांमार की सेना ने नरसंहार किया है: संयुक्त राष्ट्र

By Bbc Hindi
रोहिंग्या
Reuters
रोहिंग्या

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट का कहना है कि म्यांमार के रखाइन प्रांत और बाक़ी इलाक़ों में हुए जनसंहार और मानवता के ख़िलाफ़ अपराधों के मामले में देश के बड़े सैन्य अधिकारियों की भूमिका की जांच होनी चाहिए.

यह रिपोर्ट सैकड़ों साक्षात्कारों पर आधारित है और इसे म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमान के साथ हुई हिंसा के लिए संयुक्त राष्ट्र की सबसे कड़ी निंदा के तौर पर देखा जा रहा है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि सुरक्षा के वास्तविक ख़तरों को देखते हुए कहा जा सकता है कि सेना ने लगातार भेदभाव वाली रणनीतियां अपनाईं.

रोहिंग्या
BBC
रोहिंग्या

रिपोर्ट में म्यांमार सेना के छह बड़े अधिकारियों का नाम देकर कहा गया है कि उन पर मुक़दमा चलाया जाना चाहिए.

आंग सान सू ची की आलोचना

रिपोर्ट में म्यांमार की मौजूदा नेता आंग सान सू ची की भी कड़ी आलोचना की गई है कहा गया है कि वो देश में जारी हिंसा को रोकने में नाक़ाम रहीं.

इतना ही नहीं, इसमें मामले को इंटरनेशनल क्रिमिनल कोर्ट (आईसीसी) भेजने की सलाह भी दी गई है.

हालांकि म्यांमार सरकार शुरू से ही यह कहकर अपना बचाव करती आई है कि सेना की कार्रवाई का निशाना अवैध घुसपैठिये और चरमपंथी थे, आम नागरिक नहीं.

लेकिन रिपोर्ट का कहना है कि इसमें जिन अपराधों को शामिल किया गया है वो इतने चौंकने वाले हैं कि उन पर भरोसा करना मुश्किल है और उनके लिए सज़ा ज़रूर मिलनी चाहिए.

लोगों की बेतहाशा हत्या, औरतों से सामूहिक बलात्कार

रिपोर्ट की एक लाइन है- सेना कभी लोगों की बेतहाशा हत्या, औरतों के साथ सामूहिक बलात्कार, बच्चों के उत्पीड़न और पूरे के पूरे गांवों को जलाने को न्यायसंगत नहीं ठहरा सकती.

'बेहद गंभीर आरोप': बीबीसी दक्षिणपूर्व एशिया संवाददाता जोनाथन हेड का विश्लेषण

नरसंहार वो सबसे गंभीर आरोप है जो किसी सरकार के पर लगाया जा सकता है. ऐसा बहुत कम होता है जब संयुक्त राष्ट्र के जांचकर्ता किसी सरकार के ख़िलाफ़ नरसंहार के आरोप तय करने की बात कहे.

चूंकि इस रिपोर्ट में म्यांमार की सेना के वरिष्ठ अधिकारियों के ख़िलाफ़ जांच शुरू करने की बात कही गई, इसलिए अंतरराष्ट्रीय संगठनों के सदस्यों को इसे नज़रअंदाज़ करना नामुमकिन होगा.

हालांकि रिपोर्ट में जैसा कहा गया है, म्यांमार को इंटरनेशनल क्रिमिनल कोर्ट ले जाना मुश्किल होगा क्योंकि म्यांमार उस रोम संधि का हिस्सा नहीं है जिसके तहत ये मामला इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस में पहुंच सकता है इसलिए मुक़दमा चलाने के लिए सुरक्षा परिषद के पांच स्थाई सदस्यों का साथ चाहिए होगा और चीन शायद इसका समर्थन न करे.

म्यांमार
AFP
म्यांमार

रिपोर्ट में मामले की जांच करने के लिए संयुक्त राष्ट्र की ओर से एक स्वंतत्र निकाय बनाने की सलाह दी है जैसा कि सीरिया मामले में हुआ है.

म्यांमार की सरकार अब तक रोहिंग्या मुसलमानों के साथ होने वाली हिंसा से सम्बन्धित रिपोर्टों को ख़ारिज करती आई है लेकिन इस रिपोर्ट को ख़ारिज करना सरकार के लिए कहीं ज़्यादा मुश्किल होने वाला है.

संयुक्त राष्ट्र ने किन अपराधों का ज़िक्र किया है?

संयुक्त राष्ट्र का 'इंडिपेंडेंट इंटरनेशनल फ़ैक्ट फ़ाइंडिंग मिशन ऑन म्यांमार' साल 2017 में बनाया गया था.

इसका मक़सद, पूरे म्यांमार में ख़ासकर रखाइन प्रांत में रोहिंग्या मुसलमानों के साथ हुई हिंसा के मामलों की जांच करना था.

आंस सान सू ची
Reuters
आंस सान सू ची

म्यांमार में हिंसा की शुरुआत अगस्त 2017 से हुई जब रोहिंग्या चरमपंथियों ने वहां हमला किया.

इसके बाद म्यांमार की सेना ने रोहिंग्या मुसलमानों के ख़िलाफ़ बड़े स्तर पर सैन्य कार्रवाई शुरू कर दी. हिंसा की वजह से कम से कम 700,000 रोहिंग्या मुसलमानों को म्यांमार छोड़कर भागने पर मजबूर होना पड़ा है.

ये भी पढ़ें: क्या रोहिंग्या जैसा होगा 40 लाख लोगों का हाल

'सेना के अफ़सरों ने किया रोहिंग्या का क़त्ल और बलात्कार'

'पहले रोहिंग्या शरणार्थी परिवार की म्यांमार वापसी'

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Myanmar army has massacred United Nations

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X