• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

म्यांमार में आजादी के दीवानों का दिलचस्प अंदाज, गुलाब और पारंपरिक नृत्य से सैन्य तानाशाह का विरोध

|

Myanmar Coup: म्यामांर में आजादी के लिए लगातार संघर्ष चल रहा है। लाखों लोग सैन्य तानाशाही के खिलाफ सड़कपर उतरकर प्रदर्शन कर रहे हैं और कह रहे हैं कि उन्हें किसी भी कीमत पर सैन्य तानाशाही शासन नहीं चाहिए। मिलिट्री शासन लागू होने के आठवें दिन भी म्यांमार के अलग अलग हिस्सों में प्रदर्शन लगातार जारी है। म्यांमार की औद्योगिक राजधानी यंगून में हजारों की तादाद में प्रदर्शनकारी जमा होकर अलग अलग अंदाज में प्रदर्शन किया तो राजधानी नेपीडो में भी हजारों प्रदर्शनकारी देश को सैन्य शासन से मुक्ति दिलाने के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं और लोगों का गुस्सा लगातार बढ़ता ही जा रहा है।

myanmar

अनोखे अंदाज में प्रदर्शन

म्यांमार के एक शहर मेंडेल में एक प्रदर्शनकारी ने एक सैनिक जवान के पैरों पर गुलाब का फूल रख दिया और सैन्य तानाशाही के खिलाफ आवाज उठाने के लिए अपील करने लगा, तो मेंडेले में ही हजारों प्रदर्शनकारी म्यांमार की पारंपरिक पोषाक पहनकर प्रदर्शन करते नजर आए। ये प्रदर्शनकारी म्यांमार की पारंपरिक डांस कर रहे थे और मिलिट्री शासन को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करने के लिए अपना विरोध जता रहे थे। अलग अलग स्कूल भी मिलिट्री शासन के खिलाफ विरोध में रैलियां निकाल रहे हैं, जिनमें लिखा है कि हम अपने बच्चों को डिक्टेटर शासन नहीं देना चाहते हैं।

MYANMAR

यूनाइटेड नेशंस की रिपोर्ट के मुताबिक शुक्रवार तक म्यांमार में 350 से ज्यादा मानवाधिकार कार्यकर्ता, नेता और धार्मिक नेताओं को गिरफ्तार किया जा चुका है। कई अधिकारियों को भी गिरफ्तार किया गया है, जिन्होंने अपना काम बंद कर मिलिट्री शासन का बहिष्कार किया है। हालांकि, कुछ ऐसे वीडियो भी म्यांमार से निकलकर सामने आए हैं, जिनसे पता चलता है कि सैकड़ों और लोग अभी गिरफ्तार किए जा चुके हैं, जिनकी जानकारी अभी बाहर निकलकर सामने नहीं आ पाई है। सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म पर म्यांमार मिलिट्री के खिलाफ खूब मीम्स बन रहे हैं। इनमें कहा जा रहा है कि म्यांमार मिलिट्री लोगों को रात में गिरफ्तार कर रही है। हालांकि, म्यांमार की मिलिट्री शासन ने अभी तक लोगों की गिरफ्तारी को लेकर एक भी बयान जारी नहीं किया है।

MYANMAR

UN में म्यांमार मिलिट्री शासन का विरोध

यूनाइटेड नेशंस में 47 देशों ने म्यांमार मिलिट्री शासन के खिलाफ रिजोल्यूशन पास करते हुए म्यांमार की लोकतांत्रिक सरकार को फिर से बहाल करने की मांग करते हुए सभी डेमोक्रेटिक नेताओं को छोड़ने की मांग की है। इसके साथ ही UN अब म्यांमार पर कई तरह के प्रतिबंध लगाने पर भी विचार कर रहा है। UN म्यांमार के कुछ मिलिट्री अधिकारी और उनके करीबी उद्योगपतियों पर प्रतिबंध भी इसी हफ्ते लगा चुका है। वहीं, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका भी म्यांमार पर कड़े प्रतिबंध लगा चुका है। म्यांमार में मिलिट्री शासन की पूरी दुनिया में आलोचना की जा रही है। आपको बता दें कि म्यांमार मिलिट्री जुंटा ने नवंबर में हुए लोकसभा चुनाव में फर्जीवाड़े का आरोप लगाकर चुनी हुई सरकार का तख्तापलट कर दिया है और राष्ट्रपति समेत तमाम बड़े नेताओं को हिरासत में रखा गया है।

नॉर्थ कोरिया की 'भूखी' जनता कर सकती है किम जोंग के खिलाफ विद्रोह, भड़के तानाशाह ने 'वित्तमंत्री' को भगाया

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In Myanmar, there are frequent demonstrations against the military coup. People are opposing military rulers in different ways.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X